राष्ट्रीय

New Education Policy : मोदी सरकार में स्कूली पाठ्यक्रम को नए सिरे से तैयार करने वालों में 24 लोग आरएसएस से किसी ना किसी रूप में जुड़े

Janjwar Desk
21 Jun 2022 11:22 AM GMT
New Education Policy : मोदी सरकार में स्कूली पाठ्यक्रम को नए सिरे से तैयार करने वालों में 24 लोग आरएसएस से किसी ना किसी रूप में जुड़े
x

New Education Policy : मोदी सरकार में स्कूली पाठ्यक्रम को नए सिरे से तैयार करने वालों में 24 लोग आरएसएस से किसी ना किसी रूप में जुड़े

New Education Policy : एनसीएफ नई एनसीईआरटी किताबों के लिए नींव का काम करेंगी और एनसीएफ समूहों की ओर से जो भी पेपर तैयार किए जाएंगे, उसके आधार पर ही पाठ्यक्रम में बदलाव किया जाएगा। हर एनसीएफ ग्रुप में 7-10 बीच सदस्य होते हैं। एनसीएफ में स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय सह-संयोजक से लेकर विद्या भारती के प्रमुख तक आरएसएस से जुड़े 24 सदस्य शामिल हैं...

New Education Policy : केन्द्र सरकार ने साल 2020 में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (New Education Policy) को लागू किया था। तब से लेकर इस विषय पर राजनीतिक उफान ना के बराबर देखने को मिला था। नई शिक्षा नीति ने देश में बड़े शैक्षणिक बदलावों का रास्ता खोल दिया है।

इसी क्रम में देश के विश्वविद्यालयों में चार सालों के स्नाताक प्रोग्राम में प्रवेश लेने के लिए कॉमन एंट्रेंस टेस्ट सिस्टम (New Education Policy) को लागू करने का प्रावधान है। नई शिक्षा नीति के तहत ही देश में स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रमों में बदलाव की कवायद भी शुरू हो गयी है। अब इस मुद्दे पर राजनीति भी शुरू हो गयी है। पाठ्यक्रम में यह बदलाव 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद पहली बार हो जा रहा है जबकि आजादी के बाद ऐसा बदलाव पांचवीं बार किया जा रहा है।

द इंडियन एक्सप्रेस की ओर से करायी गयी जांच में पाया गया है कि पाठ्यक्रम में बदलाव के लिए गठित किए गए राष्ट्रीय फोकस 25 एनसीएफ (National Curriculum Framework) समूहों में से कम से कम 17 समूहों में आरएसएस से जुड़ें लोग शामिल किए गए हैं। इस एनसीएफ में स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय सह-संयोजक से लेकर विद्या भारती के प्रमुख तक आरएसएस से जुड़े 24 सदस्य शामिल हैं।

इससे पहले 'द इंडियन एक्सप्रेस' की ओर से की गई तीन दिनों की जांच में पाया गया है कि गुजरात दंगों, जाति व्यवस्था, मुस्लिम शासकों से जुड़े कुछ चैप्टर्स को पाठ्यक्रम से हटाने का फैसला लिया गया है। एनसीएफ पाठ्यक्रम संशोधन का नेतृत्व इसरो के पूर्व अध्यक्ष के कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता में 12 सदस्यीय संचालन समिति द्वारा किया जा रहा है, जिसे केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय द्वारा नियुक्त किया गया है।

संपर्क करने पर कस्तूरीरंगन ने कहा कि वह एनसीएफ (New Education Policy) से जुड़े किसी भी मामले पर टिप्पणी नहीं करना चाहते हैं। समिति के एक वरिष्ठ सदस्य ने कहा, "हमें जो काम दिया गया है, हम उसके साथ पूरा न्याय करेंगे और चीजों को निष्पक्ष पेश करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।"

बता दें, संशोधित एनसीएफ नई एनसीईआरटी किताबों के लिए नींव का काम करेंगी और एनसीएफ समूहों की ओर से जो भी पेपर तैयार किए जाएंगे, उसके आधार पर ही पाठ्यक्रम में बदलाव किया जाएगा। हर एनसीएफ ग्रुप में 7-10 बीच सदस्य होते हैं। आइए जानते हैं एनसीएफ ग्रुप्स में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े कौन-कौन से लोग शामिल हैं।

(I) फिलॉस्फी व एम्स ऑफ एजुकेशन (Philosophy and Aims of Education)

1. डॉ. भगवती प्रकाश शर्मा- ये ग्रेटर नोएडा स्थित गौतम बुद्धा यूनिवर्सिटी के वीसी रह चुके हैं। वे आरएसएस से जुड़ी हुई संस्था स्वदेशी जागरण मंच के संयोजक हैं। जब उन्हें बात की गयी तो उन्होंने बताया है कि मैं एसजेएम से जुड़ा हूं, क्योंकि यह एक आंदोलन है। एसजेएम एक ऐसा फोरम है जहां लोगों को आर्थिक गुलामी के बारे में बताकर उन्हें जगाया जाता है। मैं एसजेएम की केन्द्रीय कमिटी में भी शामिल हूं।

2. दत्त भिकाजी नाइक - नाइक आरएसएस की गोवा इकाई से संबद्ध संस्था वनवासी कल्याण आश्रम के कमिटी मेंबर हैं। उन्होंने बातचीत में बताया है कि भारतीय दर्शन के बारे में बच्चों को छोटी—छोटी कहानियों के जरिए बताया जाना चाहिए।


एजुकेशन इन सोशल साइंसेज (Education in Social Sciences)

3. प्रो. रिटायर्ड सीआई आईजेक (ग्रुप चेयरमैन) - मेंबर ऑफ इंडियन काउंसिल ऑफ हिस्टोरिकल रिसर्च सदस्य हैं। सीएमएस कॉलेज कोट्टायम के इतिहास विभाग के प्रोफेसर रह चुके हैं। आरएसएस के केरल यूनिट से संबद्ध भारतीय विचार केन्द्र और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से 1975 ये जुड़े रहे हैं। वे खुलकर आरएसएस से जुड़े होने की बात कबूल करते हैं।

4. प्रो. वंदना मिश्रा- जेएनयू के स्कूल आॅफ इंटरनेशनल स्टडीज में सहायक प्रोफेसर हैं। वंदना पूर्व में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की सचिव रह चुकी हैं।

5. ममता यादव- हरियाणा में सरकारी स्कूल में सोशियोलॉजी की शिक्षिका हैं। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् की उपाध्यक्ष रह चुकी हैं और वर्तमान में भी संगठन की सदस्य हैं।


हॉलिस्टिक, इंजॉएइसम एण्ड इंगेजिंग करिकूलम एण्ड पेडागोगी (Holistic, Enjoyable & Engaging Curriculum & Pedagogy)

6. डी रामकृष्ण राव ग्रुप चेयरमैन - आरएसएस की शैक्षणिक संस्था विद्या भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं।

सायंस शिक्षा (Science Education )

7. प्रो. मिलिंद सुधाकर मराठे- ग्रुप चेयरमैन मुंबई के केजे सोमैया कॉलेज आॅफ इंजीनियरिंग के सेवानिवृत प्रोफेसर हैं। आरएसएस की छात्र इकाई एबीवीपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं।

8. किशोर चंद्र मोहंती- आरएसएस से संबद्ध संस्था विद्या भारती के उड़ीसा के अध्यक्ष है।


इनवायरमेंटल एजुकेशन (Environmental Education)

9. प्रो. पायल मागो- दिल्ली की शहीद राजगुरु कॉलेज आॅफ अप्लाइड सायंसेस की ​प्रिंसिपल हैं। डीयू के कैंपस ओपन लर्निंग की निदेशक हैं। 2013 तक एबीवीपी की आॅफिस बीयरर थीं।

(VI) गणित (Mathematics)

10. डॉ. श्रीराम मुरलीधर चौथाईवाले- ग्रुप चेयरमैन गणित के रिटायर्ड प्रोफसर हैं। दिल्ली स्थित शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास में वैदिक गणित के आॅल इंडिया कन्वेनर हैं। विद्या भारती के आॅल इंडिया वैदिक मैथेमैटिकल काउंसिल के सदस्य हैं।


कला शिक्षा (Arts Education)

11. प्रो. ममता सिंह- देहरादून के एमकेपी गर्ल्स इंटर कॉलेज में विजुअल आर्ट्स की असोसिएड प्रोफेसर हैं। एबीवीपी से तीन दशकों से जुड़ी हुई हैं। वर्तमान में दून क्षेत्र की अध्यक्ष और राष्ट्रीय कार्यसमिति की सदस्य हैं।

अर्ली चाइल्ड केयर व एजुकेशन एवं फाउंडेशनल लिटरेसी एण्ड न्यूमेरेसी (Early Child Care & Education and Foundational Literacy & Numeracy)

12. डॉ. सुरेश गोहे- इग्नू की ​शैक्षणिक सलाहकार हैं। आरएसएस से संबद्ध शिक्षकों के फोरम भारतीय शिक्षण मंडल के क्षेत्रीय प्रमुख हैं।

इनके अलावे विभिन्न समितियों में जो लोग आरएसस से संबंधित हैं उनके नाम हैं-

13. प्रो. इश्वर शरण विश्वकर्मा, लिंकेज बिटवीन स्कूल एंड हायर एजुकेशन

14. रमन त्रिवेदी, लिंकेज बिटविन स्कूल एंड हायर एजुकेशन

15. प्रो. आशुतोष मंडावी, पब्लिकेशन ऑफ क्वालिटी टेक्स्टुअल एंड नॉन टेक्स्टजुअल मैटेरियल

16. प्रो. ब्रिज किशोर कुथियाला, पब्लिकेशन ऑफ क्वालिटी टेक्स्टुअल एंड नॉन टेक्स्टजुअल मैटेरियल

17. प्रो. रिटायर्ड निलिमा भगवती, ग्रुप चेयरमैन, गाइडेंस एण्ड काउंसिलिंग

18. प्रो. रामचंद्र जी भट्ट, अल्टरनेटिव वेज फॉर स्कूलिंग

19. रश्मि दास, जेंडर एजुकेशन

20. अंजलि देशपांडे, जेंडर एजुकेशन, आरएसस से संबद्ध संस्था दृष्टि स्त्री अभियान प्रबोधन केन्द्र जो​ कि एक स्टडी केन्द्र है, की सचिव हैं।

21. गोविंद प्रसाद शर्मा- एडल्ट एजुकेशन एंड वैल्यू एजुकेशन, नेशनल बुक ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं। विद्या भारती के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं।

22. जेपी सिंघल, वैल्यू एजुकेशन, राजस्थान विश्वविद्यालय के पूर्व वीसी हैं। अखिल भारतीय राष्ट्रीय शिक्षक महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं।

23. डॉ. विष्णु मोहन दश- इमर्जिंग रोल ऑफ कम्युनिटी एजुकेशन

24. प्रो रिटा. चंद्रकिरण सलूजा- टीचर एजुकेशन

इन फोकस ग्रुप्स में संघ (New Education Policy) से जुड़े लोगों के शामिल होने के मुद्दे पर जब एनसीईआरटी के निदेशक दिनेश सकलानी से बातचीत करने की कोशिश की गयी तो उन्होंने इस विषय पर कमेंट करने से इनकार कर दिया। स्कूल एजुकेशन की सचिव अनिता करवाल ने भी इस विषय पर अपनी कोई प्रतिक्रिया साझा नहीं की है। एनसीईआरटी के पूर्व निदेशक प्रभारी श्रीधर श्रीवास्तव जिनके आदेश से उपरोक्त लोगों की नियुक्ति का नोटिफिकेशन जारी किया गया था, उन्होंने भी इस मामले में कुछ भी कहने से मना कर दिया है।

Next Story

विविध