Top
राष्ट्रीय

भारत ने टिकटाॅक, यूसी ब्राउजर, क्लब फैक्टरी सहित चीन के 59 एप बैन किया, देखिए पूरी सूची

Janjwar Desk
29 Jun 2020 4:03 PM GMT
भारत ने टिकटाॅक, यूसी ब्राउजर, क्लब फैक्टरी सहित चीन के 59 एप बैन किया, देखिए पूरी सूची
x
गलवान घाटी हमले के बाद भारत ने बड़ी कार्रवाई करते हुए चीन के 59 एप को सुरक्षा कारणों को आधार बनाते हुए बैन कर दिया है...

जनज्वार, नई दिल्ली। भारत ने सोमवार को चीन के 59 मोबाइल एप को बैन कर दिया। इसमें टिकटाॅक, यूसी ब्राउजर व क्लब फैक्टरी जैसे लोकप्रिय एप भी शामिल हैं। भारत सरकार ने इनको बैन करने की वजह इनके भारत की संप्रभुता, अखंडता, सुरक्षा, सार्वजनिक व्यवस्था के लिए इनका पूर्वाग्राही होना बताया है। मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रानिक एंड आइटी की ओर से इस संबंध में नोटिफिकेशन जारी किया गया है।

मंत्रालय ने आइटी एक्ट के सेक्शन 69ए के तहत यह कदम उठाया है और एंड्रायड और आइओएस दोनों प्लेटाफार्म पर यह निर्णय लागू होगा। सरकार के इस निर्णय के बाद दोनों प्लेटफार्म को इन एप्स को हटाना होगा। फैसले में कहा गया है कि भारत के करोड़ों मोबाइल और इंटरनेट यूजर्स के हितों को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है ताकि भारतीय साइबर स्पेस की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

जिन एप को बैन किया गया है, उनमें जेंडर, न्यूज डाॅग, वी मीट, कैम स्कैनर, वी मीट, वी वैट आदि भी शामिल हैं। चीन के सभी 59 एप्स की सूची आप नीचे तसवीर में देख सकते हैं।



भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने चाइनीज एप की एक सूची तैयार की थी और केंद्र से आग्रह किया था कि इन्हें बैन किया जाए या फिर लोगों से कहा जाए कि वे इन्हें अपने मोबाइल से डिलीट कर दें। इसकी एक वजह चीन द्वारा भारतीय डेटा को हैक किए जाने का खतरा को भी बताया गया था।

भारत ने यह कार्रवाई 15 जून को लद्दाख के गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद लिया है, जिसमें हमारे 20 जवान शहीद हो गए। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, चीन अब भी एलएसी के पास डटा हुआ है और सैन्य व कूटनीतिक वार्ता के बावजूद वह अपने निर्माण कार्य को जारी रखे हुए है। भारत एवं चीन के बीच इस टकराव के बाद रिश्ते निचले स्तर पर पहुंच गए हैं, जिसे मोदी सरकार ने छह सालों में सुधारने की बहुत कोशिश की थी।

Next Story
Share it