राष्ट्रीय

Indian Railway Rules : रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक ही कर सकते हैं मिडिल बर्थ का इस्तेमाल, रेलवे के ये नियम जानना बहुत जरूरी

Janjwar Desk
10 May 2022 7:06 AM GMT
Indian Railway Rules : रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक ही कर सकते हैं मिडिल बर्थ का इस्तेमाल, रेलवे के ये नियम जानना बहुत जरूरी
x

Indian Railway Rules : रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक ही कर सकते हैं मिडिल बर्थ का इस्तेमाल, रेलवे के ये नियम जानना बहुत जरूरी

Indian Railway Rules : रेलवे की तमाम सुविधाओं का लाभ लेने के साथ ही हम सबका यह फर्ज भी बनता है कि हम रेलवे के नियमों का पालन करें। इसी क्रम में आज हम आपको बता रहे हैं कि ट्रेन में सफर करने के दौरान किन जरूरी नियमों का ध्यान रखना चाहिए...

Indian Railway Rules : भारतीय रेल हमारे की जीवन रेखा की तरह काम करती है। देश में लगभग 40 करोड़ लोग रोजाना रेलवे की अलग-अलग ट्रेनों में सफर करते हैं। लोगों के ट्रेन का सफर आसान और आरामदायक हो इसके लिए रेलवे समय-समय पर अपने नियमों में बदलाव करता रहता है। अभी हाल ही में रेलवे ने ट्रेनों के संचालन के संबंध में जरूरी नियम बनाए है। ऐसे में एक रेल यात्री होने के नाते इन नियमों की जानकारी होना जरूरी है।

रेलवे की तमाम सुविधाओं का लाभ लेने के साथ ही हम सबका यह फर्ज भी बनता है कि हम रेलवे के नियमों का पालन करें। इसी क्रम में आज हम आपको बता रहे हैं कि ट्रेन में सफर करने के दौरान किन जरूरी नियमों का ध्यान रखना चाहिए जिससे आपकी और ट्रेन में मौजूद अन्य लोगों की यात्रा आरामदायक बन सके।

अब रात को जगाकर टीटी टिकट चेक नहीं करेंगे

ज्यादातर पैसेंजर्स को यह शिकायत होती थी कि टीटी उनके सोने के बाद टिकट चेक करने के चलते उन्हें जगा देते हैं, जिससे नींद में खलल पड़ता है। कई बार यात्री गहरी नींद में सोए होते थे, ऐसे में गहरी नींद से जगाकर टिकट चेक कराने के बाद दोबारा नींद ने आना जैसी परेशानी होने होती है। इस शिकायत के चलते रेलवे ने नियम बनाया है कि रात के 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक टीटी टिकट चेक नहीं कर सकता। हालांकि यह नियम ऐसे पैसेंजर्स पर लागू नहीं होता, जिनका सफर का समय ही रात 10 बजे के बाद शुरू होता है।

मीडिल बर्थ के इस्तेमाल को लेकर है ये नियम, अब नहीं होगा विवाद

ट्रेन में सफर करने पर सबसे ज्यादा परेशानी तब आती है, जब आप थ्री टियर कोच में सफर करते हैं। इसमें मिडिल बर्थ को लेकर समस्या आती है। अक्सर यही होता है कि देर रात में भी लोअर बर्थ या अपर बर्थ के यात्री नीचे वाली बर्थ पर ही बैठे बातें करते रहते हैं या फिर मिडिल बर्थ के यात्री लोअर बर्थ पर बैठे रहते हैं, जिससे लोअर बर्थ के यात्री को सोने में परेशानी होती है। इतना ही नहीं कई बार तो यह भी देखने में आता है कि दिन के समय में भी मिडिल बर्थ वाले यात्री अपनी बर्थ ओपन कर आराम से सो जाते हैं। इसके कारण लोअर और अपर बर्थ वालों को बैठने में परेशानी होती है।

रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक ही किया जा सकता है मिडिल ​बर्थ का इस्तेमाल

ऐसे में रेलवे ने इस समस्या को दूर करने के लिए नियम बनाया है कि रात 10 बजे के बाद और सुबह 6 बजे तक ही मिडिल बर्थ का इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर इसके बाद के समय में कोई यात्री मिडिल बर्थ खोलता है, तो आप रेलवे के इस नियम के बारे में बताकर आप अपने सहयात्री को मना कर सकते हैं। इसके अलावा अगर लोअर बर्थ के यात्री रात 10 बजे के बाद भी अपनी सीट पर आराम से बैठे रहते हैं और मिडिल बर्थ का यात्री सोना चाहता है तो, वह इस नियम का हवाला देते हुए अपनी सीट का इस्तेमाल कर सकता है।

रात के समय तेज आवाज में म्यूजिक बजाने पर है पाबंदी, कर सकते हैं शिकायत

सफर के दौरान लोग मोबाइल पर ईयरफोन का इस्तेमाल किए बगैर ही गाने सुनते हैं या मूवी देखते रहते हैं, जिस वजह से दूसरों के आराम में खलल पड़ता है। ऐसे में रेलवे के नियम के मुताबिक, रात 10 बजे के बाद कोई यात्री ऐसा नहीं कर सकता। बिना ईयरफोन के आप अपने मनोरंजन के लिए मोबाइल का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। जो कोई अगर ऐसा करता है तो आप उसे यह नियम याद दिला दें। अगर फिर भी वह नहीं माने तो आप इसकी शिकायत कर सकते हैं।

Next Story

विविध