Top
झारखंड

राजस्थान के बाद झारखंड में भी विश्व आदिवासी दिवस पर अवकाश घोषित करने की संभावना बढी

Janjwar Desk
3 Aug 2020 4:26 PM GMT
राजस्थान के बाद झारखंड में भी विश्व आदिवासी दिवस पर अवकाश घोषित करने की संभावना बढी
x
सोशल मीडिया के माध्यम से झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से लगातार नौ अगस्त को सार्वजनिक अवकाश घोषित करने की मांग की जा रही है, इसके बाद उन्होंने सोमवार को इस संबंध में एक ट्वीट कर संकेत दिया है...

जनज्वार। राजस्थान के बाद झारखंड में भी विश्व आदिवासी दिवस नौ अगस्त को सार्वजनिक अवकाश घोषित करने की संभावना बढ गई है। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज बेहद संक्षिप्त ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा है कि झारखंड भी विश्व आदिवासी दिवस मनाएगा। मुख्यमंत्री के इस ट्वीट को इस बात से जोड़ कर देखा जा रहा है कि वे लोगों की नौ अगस्त विश्व आदिवासी दिवस को सार्वजनिक अवकाश घोषित करने की मांग को लेकर मानसिक रूप से तैयार हो गए हैं।

इससे पहले राजस्थान की अशोक गहलौत सरकार ने 31 जुलाई को विश्व आदिवासी दिवस को अवकाश घोषित करने का निर्णय लिया। इसे संपूर्ण राजस्थान के लिए सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया। इससे पहले राजस्थान में यह ऐच्छिक अवकाश था। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलौत ने यह निर्णय विभिन्न आदिवासी संगठनों की मांग पर लिया था।

इधर, इस फैसले के बाद झारखंड में भी आदिवासी दिवस पर सार्वजनिक अवकाश घोषित करने की मांग उठी। लोग ट्विटर व अन्य सोशल मीडिया माध्यमों से लगातार यह मांग उठा रहे थे। सैकड़ों लोगों ने इस संबंध में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ट्वीट भी किया।

हालांकि इस संबंध में सरकार की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है, लेकिन सोमवार की शाम मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के ट्वीट करने के अंदाज से यह संकेत मिलता है कि सरकार इस दिशा में कोई ठोस फैसला लेने की प्रक्रिया में है। झारखंड का गठन आदिवासी अस्मिता व अधिकारों के नाम पर फिर से 2000 में किया गया था। इस राज्य में 27 प्रतिशत आदिवासी आबादी है। मुख्यमंत्री के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लोगों ने फिर नौ अगस्त को अवकाश घोषित करने की मांग की। बाद में उनके ट्वीट को सत्ताधारी दल झामुमो ने भी ट्वीट किया।





Next Story

विविध

Share it