राष्ट्रीय

Mukesh Ambani : अंबानी के खिलाफ छोटे दुकानदारों का महाराष्ट्र से लेकर तमिलनाडु तक जबर्दस्त प्रदर्शन

Janjwar Desk
22 Nov 2021 1:09 PM GMT
Mukesh Ambani : अंबानी के खिलाफ छोटे दुकानदारों का महाराष्ट्र से लेकर तमिलनाडु तक जबर्दस्त प्रदर्शन
x

(रिलायंस कंपनी के चेयरमैन मुकेश अंबानी)

Mukesh Ambani : जिओ मार्ट एप से डिस्ट्रिब्यूटर्स के बिजनेस को भारी नुकसान हो रहा है क्योंकि एप के जरिए रिटेलर्स को उनके नियमित डिस्ट्रिब्यूटर्स की तुलना में सस्ता सामान मिल रहा है। जियो मार्ट 24 घंटे में माल की डिलीवरी करती है।

Mukesh Ambani : मुकेश अंबानी की जिओ मार्ट के ख‍िलाफ महाराष्ट्र से तमिलनाडु तक प्रदर्शन शुरू हो गया है। महाराष्ट्र से लेकर तमिलनाडु में लामबंदी हो गई है। जिओ मार्ट के खिलाफ जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं। जिओ मार्ट के कारण छोटे दुकानदारों को बर्बाद होने का डर है। वो जिओ मार्ट के खिलाफ खड़े हो रहे हैं। इस कारण देश में कई डिस्ट्रिब्यूटर्स ने तो अपने स्टाफ और गाड़ियां भी कम कर दी हैं। बता दें कि महाराष्ट्र और तमिलनाडु में डिस्ट्रिब्यूटर्स ने जियो मार्ट के कुछ डि​लिवरी वाहनों को रोकने के लिए नाकाबंदी भी की है।

जिओ मार्ट एप पर पकड़ बनती जा रही है

साल 2018 में जियो मार्ट को मुकेश अंबानी की रिलायंस ने देश में लॉन्च किया था लेकिन यह सालों से मार्केट में जमे हुए छोटे-बड़े डिस्ट्रिब्यूटर्स के लिए खतरा बन गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कई डिस्ट्रिब्यूटर्स का कहना है कि इस एप से उनके बिजनेस को भारी नुकसान हो रहा है क्योंकि एप के जरिए रिटेलर्स को उनके नियमित डिस्ट्रिब्यूटर्स की तुलना में सस्ता सामान मिल रहा है। जियो मार्ट 24 घंटे में माल की डिलीवरी करती है। इस वजह से बाजार में तेजी से इस एप की पकड़ बनती जा रही है। सभी लोग धीरे-धीरे जिओ मार्ट का उपयोग करते जा रहे है।

जिओ मार्ट से हो रहा है नुकसान

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक देश में तकरीबन 4 लाख 50 हजार पारंपरिक डिस्ट्रिब्यूटर्स हैं। अपने सेल्समैनों के जरिए वो उत्पाद की कीमतों पर 3-5% का मुनाफा कमाते हैं। ज्यादातर यह डिस्ट्रिब्यूटर्स सप्ताह में एक बार व्यक्तिगत रूप से ऑर्डर लेते हैं और खुदरा विक्रेताओं को दो दिन में माल की डिलीवरी देते हैं। यहीं पर रिलायंस उन्हें मात देने की स्थिति में आ जाता है। रिलायंस 24 घंटे के भीतर सामान की डिलीवरी करता है। खुदरा विक्रेता जिओ मार्ट पार्टनर एप से जब चाहें ऑर्डर कर सकते हैं। रिलायंस ग्राहकों को मुफ्त सैम्पल भी देता है।

एक डिस्ट्रिब्यूटर का कहना है कि लगातार आठ दिनों से वे खुदरा विक्रेताओं को साबुन का एक भी पैकेट नहीं बेच पाए हैं। उन्होंने बताया कि यह वही खुदरा विक्रेता हैं जिन्हें वे 14 साल की उम्र से सामान बेचते आ रहे हैं। पूछने पर एक विक्रेता ने उन्हें एक विक्रेता ने अपने फोन पर अंबानी का एप दिखाते हुए बताया कि यहां सामान 15 प्रतिशत कम दाम पर मिलता है।

'जनसत्ता' में प्रकाशित एक खबर के अनुसार ऑल इंडिया कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स डिस्ट्रीब्यूटर्स फेडरेशन के अध्यक्ष धैर्यशील पाटिल ने कहा कि हम गुरिल्ला रणनीति को अपनाएंगे। रॉयटर्स से उन्होंने कहा कि हम आंदोलन जारी रखेंगे, हम चाहते हैं कि कंपनियां हमारी कीमत को पहचानें।

क्या है जिओ मार्ट

जिओ मार्ट एक ऑनलाइन शॉपिंग एप है जो मुकेश अंबानी की कंपनी द्वारा लांच किया गया है। ग्रोसरी प्रोडक्ट का ऑनलाइन कारोबार करने के उद्देश्य से लांच किया गया है। जिओ मार्ट सेवा उपभोक्ताओं को हर जरुरी दैनिक रूप से उपयोग की जानेवाली वस्तुओं को घर बैठे उपलब्ध करवाता है।

जियो मार्ट ऑनलाइन-टू-ऑफलाइन बिजनेस मॉडल पर आधारित है। ग्राहक सीधे अपने पास के विक्रेताओं से एप के माध्यम से सामान खरीद सकते हैं। यह एक ऑनलाइन ग्रोसरी डिलीवरी सेवा है जिसका स्वामित्व रिलायंस जिओ के पास है। यह ग्राहकों को मुफ्त होम डिलीवरी प्रदान करता है। इसके अलावा ग्राहक उपलब्ध 50000 से अधिक किराना स्टोर से उत्पादों की खरीदारी कर सकते हैं। जिओ मार्ट पर ऑर्डर के लिए न्यूनतम मूल्य की आवश्यकता नहीं है और बिना किसी परेशानी के रिटर्न भी कर सकते हैं।

Next Story

विविध

Share it