राष्ट्रीय

NFHS-5 Report : पत्नी थकी हो और सेक्स से कर दे इनकार तो कोई बात नहीं, पढ़िये, इस बारे में पुरुष क्या कहते हैं?

Janjwar Desk
10 May 2022 5:23 AM GMT
NFHS-5  Report : 66% पुरुष पत्नी का सेक्स से इनकार करने की घटना को मानते हैं सही, ये है बड़ी वजह
x

NFHS-5 Report : 66% पुरुष पत्नी का सेक्स से इनकार करने की घटना को मानते हैं सही, ये है बड़ी वजह

एनएफएचएस-5 की रिपोर्ट ( NFHS-5 Report ) से साफ है कि बदलते परिवेश, जीवनशैली और वर्क प्रेशर व अन्य कारणों की वजह से अगर पत्नी पति के साथ सेक्स करने से इनकार करती है तो उसे आप गलत नहीं ठहरा सकते हैं।

NFHS-5 Report : एनएफएचएस-5 की रिपोर्ट ( NFHS-5 Report ) से साफ है कि बदलते परिवेश, जीवनशैली और वर्क प्रेशर व अन्य कारणों की वजह से अगर पत्नी पति के साथ सेक्स ( Husband - Wife Sex relation ) करने से इनकार करती है तो उसे आप गलत नहीं ठहरा सकते हैं। मैरिटल रेप की घटनाओं को लेकर जारी बहस के बीच राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण -5 ने यौन संबंधों को लेकर एक रिपोर्ट जारी कर सभी को चौंकाने वाला काम किया है। एनएफएचएस-5 की रिपोर्ट से साफ है कि बदलते परिवेश, जीवनशैली और वर्क प्रेशर व अन्य कारणों की वजह से अगर पत्नी पति के साथ सेक्स करने से इनकार करती है तो उसे आप गलत नहीं ठहरा सकते हैं। खास बात यह है कि 80 फीसदी महिलाएं और 66 फीसदी पुरुष इस बात से सहमत हैं।

एनएफएचएस-5 रिपोर्ट (2019-21) के मुताबिक बड़ी संख्या में महिलाएं ( Wife ) यानि 80% और पुरुष ( Husband ) 66% मानते हैं कि तीन कारणों से पत्नी का सेक्स ने इनकार करना सही है। यदि पति यौन रोग से पीड़ित है। पति अन्य महिलाओं से संबंध हैं। या फिर पत्नी थकी हुई है या उसका मूड सेक्स करने की नहीं है। हालांकि, 8 प्रतिशत महिलाएं और 10% पुरुष यह नहीं मानते हैं कि सेक्स से इनकार करने की बात को सही ठहराया जा सकता है।

वयस्क पुरुष मानते हैं कि महिलाएं तीन कारणों से से पत्नी पति के साथ सेक्स संबंध बनाने से मना कर सकती है। एनएफएचएस -4 (2015-16) सर्वे में 68% से अधिक महिलाओं और पुरुषों फीसदी से अधिक पुरुषों ने अपनी सहमति जताई थी। ताजा सर्वेक्षण यानि 2019-21 के मुताबिक पांच से में चार से अधिक महिलाएं यानि 82% पारस्परिक संभोग नहीं करना चाहती हैं।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध