Top
राष्ट्रीय

राहुल गांधी का सरकार पर निशाना, कहा- प्रधानमंत्री खामोश, कोरोना के सामने कर दिया सरेंडर

Janjwar Desk
27 Jun 2020 10:53 AM GMT
राहुल गांधी का सरकार पर निशाना, कहा- प्रधानमंत्री खामोश, कोरोना के सामने कर दिया सरेंडर
x
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारत चीन तनाव के बाद अब कोरोना वायरस संक्रमितों के तेजी से बढ़ते आंकड़ों को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने कहा है कि भारत सरकार के पास कोरोना को हराने का कोई प्लान नहीं है प्रधानमंत्री पहले ही सरेंडर कर चुके हैं...

जनज्वार। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार मोदी सरकार पर सवाल खड़े कर रहे हैं. लद्दाख की गलवान घाटी में चीन से हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की शहादत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लगातार जवाब मांगे जाने के बाद आज उन्होंने कोरोना वायरस संक्रमण के मामले पर सवाल खड़ा किया. राहुल गांधी ने कहा कि केंद्र सरकार के पास कोरोना से निपटने के लिए कोई योजना नहीं है.

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, कोरोना वायरस देश के नए हिस्सों में तेजी से फैल रहा है. भारत सरकार के पास इससे निपटने का कोई प्लान नहीं है. प्रधानमंत्री खामोश हैं. उन्होंने महामारी के सामने आत्मसमर्पण और इससे निपटने से इंकार कर दिया है. राहुल गांधी ने कोरोना वायरस के मसले पर मोदी सरकार पर ऐसे समय निशाना साधा जब देश में संक्रमित मरीजों का आंकड़ा भी पांच लाख से ज्यादा हो चुका है. वहीं प्रधानमंत्री मोदी कह चुके हैं कि पता नहीं इस बीमारी से कब निजात मिलेगी.



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को 'आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार कार्यक्रम' की लॉन्चिंग में कहा था कि पता नहीं कोरोना से कब निजात मिलेगी. कोरोना संकट पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आगे भी किसी को नहीं पता कि इस बीमारी से कब मुक्ति मिलेगी. इसकी एक दवाई हमें पता है. ये दवाई है दो गज की दूरी है. ये दवाई है- मुंह ढकना, फेसकवर या गमछे का इस्तेमाल करना. जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं बनती, हम इसी दवा से इसे रोक पाएंगे.

स्वास्थ्य मंत्रालय के आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक देश में शनिवार र सुबह तक कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 500000 को पार कर गई है. हालांकि देश में कोरोना वायरस के कारण सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों महाराष्ट्र, दिल्ली और तमिलनाडु के ताजा आंकड़े जोड़ दिए जाएं तो देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या पांच लाख की संख्या को पार कर चुकी है.

Next Story

विविध

Share it