राष्ट्रीय

सागर राणा मर्डर केस में 6 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा गया रेसलर सुशील कुमार, रेलवे भी सस्पेंड करने की तैयारी में

Janjwar Desk
24 May 2021 11:11 AM GMT
सागर राणा मर्डर केस में 6 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा गया रेसलर सुशील कुमार, रेलवे भी सस्पेंड करने की तैयारी में
x

(राष्ट्रीय हीरो से विलेन बने सुशील कुमार : अपहरण और मर्डर केस में 6 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजे गए)

सागर राणा की हत्या के मामले में ओलिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट सुशील कुमार को 6 दिन के लिए दिल्ली पुलिस की कस्टडी में भेज दिया गया है। पुलिस ने दिल्ली कोर्ट से 12 दिन की कस्टडी मांगी थी....

जनज्वार डेस्क। दिल्ली पुलिस द्वारा हत्या के एक मामले में गिरफ्तार किए जाने के बाद उत्तर रेलवे पहलवान सुशील कुमार को निलंबित करने के लिए तैयार है। एक प्रवक्ता ने सोमवार को यह जानकारी दी।

उत्तर रेलवे के एक वरिष्ठ वाणिज्यिक प्रबंधक ने ओलंपिक पदक विजेता कुमार को दिल्ली सरकार ने स्कूल स्तर पर खेलों के विकास के लिए छत्रसाल स्टेडियम में विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) के पद पर तैनात किया था।

करीब तीन सप्ताह से फरार कुमार को एक दिन पहले छत्रसाल स्टेडियम में एक 23 वर्षीय पहलवान की मौत में कथित संलिप्तता के आरोप में दिल्ली के बाहरी इलाके मुंडका से गिरफ्तार किया गया था। इसके साथ ही सह आरोपी अजय को भी गिरफ्तार किया गया था।

उत्तर रेलवे के सीपीआरओ दीपक कुमार ने पीटीआई को बताया, ''रेलवे बोर्ड को दिल्ली सरकार से रविवार को मामले पर एक रिपोर्ट मिली है। उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज है और उसे निलंबित कर दिया जाएगा।''

फिलहाल सागर राणा की हत्या के मामले में ओलिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट सुशील कुमार को 6 दिन के लिए दिल्ली पुलिस की कस्टडी में भेज दिया गया है। पुलिस ने दिल्ली कोर्ट से 12 दिन की कस्टडी मांगी थी। सुशील कुमार और साथी अजय को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने राजधानी के ही मुंडका इलाके से रविवार सुबह ही गिरफ्तार किया था।

सुशील और अजय दोनों 4 मई को देर रात हुई घटना के बाद से फरार चल रहे थे। पूरे 18 दिन तक फरार रहने के बाद दोनों पुलिस की गिरफ्त में आए। इस बीच, खुलासा हुआ है कि सुशील ने मृतक सागर से मारपीट का वीडियो भी बनवाया था, ताकि सर्किट में उसका प्रभाव बरकरार रहे।

मृतक सागर राणा के पिता अशोक ने आरोपियों को कड़ी सजा दिलाने की मांग की। उन्होंने कहा कि हमारे पास सुशील के खिलाफ मजबूत सबूत हैं। उसे सख्त सजा दी जानी चाहिए। मुझे और मेरे परिवार को कानून पर पूरा भरोसा है।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल क्राइम ब्रांच और कई टीमों ने सुशील को पकड़ने के लिए बठिंडा, मोहाली समेत कई राज्यों में छापेमारी की थी। इसके बाद भी सुशील हाथ नहीं लगा। सुशील की गिरफ्तारी की अफवाहें उड़ती रहीं।

क्या है मामला

दिल्ली पुलिस के मुताबिक 4 मई की देर रात दिल्ली के मॉडल टॉउन थाने के इलाके में सुशील और उनके साथियों ने एक फ्लैट से पहले सागर और उसके दोस्तों को हथियार के बल पर अपहरण किया। फिर छत्रसाल स्टेडियम में ले जाकर उनकी पिटाई की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस को स्टेडियम का एक सीसीटीवी फुटेज भी हाथ लगा है। इसमें सुशील हॉकी स्टिक से सागर और उसके साथियों को मारते दिखे।

पुलिस के मुताबिक, छत्रसाल स्टेडियम के पार्किंग एरिया में पहलवान के दो गुटों में झड़प के दौरान फायरिंग भी हुई। इसमें 5 पहलवान जख्मी हो गए। इनमें सागर (23), सोनू (37), अमित कुमार (27) और 2 अन्य पहलवान शामिल थे।

सागर ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। वह दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल का बेटा था। बताया जा रहा है कि यह झगड़ा प्रॉपर्टी विवाद को लेकर हुआ था। सागर और उसके दोस्त जिस घर में रहते थे, सुशील उसे खाली करने का दबाव बना रहे थे। साथ ही सागर उस घर का किराया भी नहीं दे रहे थे।

पुलिस के मुताबिक उसे घटनास्थल से 5 गाड़ियों के अलावा एक लोडेड डबल बैरल गन और 3 जिंदा कारतूस बरामद हुए। वे सुशील कुमार की भूमिका की जांच कर रहे हैं, क्योंकि उन पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। इसके बाद पुलिस ने सुशील और अन्य आरोपी की तलाश में कई जगहों पर छापेमारी भी की।

Next Story

विविध

Share it