Top
राष्ट्रीय

किसानों के आक्रोश की अभिव्यक्ति है भारत बंद, नए कृषि कानूनों से खेती पर अमीर औद्योगिक घरानों का होगा एकाधिकार

Janjwar Desk
8 Dec 2020 8:26 AM GMT
किसानों के आक्रोश की अभिव्यक्ति है भारत बंद, नए कृषि कानूनों से खेती पर अमीर औद्योगिक घरानों का होगा एकाधिकार
x
मोदी सरकार के किसान बिल किसानों से अनाज के अधिग्रहण को कंपनियों के लिए आसान बना रहे हैं, इन विधेयकों को राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद, कृषि उत्पादों का कारोबार करने वाली कंपनियां सरकार द्वारा निर्धारित विभिन्न प्रकार के अनाज के लिए एपीएमसी मंडियों और एमएसपी दोनों को दरकिनार कर सकती हैं.....

वरिष्ठ पत्रकार दिनकर कुमार का विश्लेषण

खेती को कारपोरेट के हवाले करने के लिए मोदी सरकार के तीन कृषि क़ानूनों के खिलाफ आज किसानों ने भारत बंद का आह्वान किया है। जिस तरह मोदी सरकार कारपोरेट के एजेंट के रूप में काम कर रही है और देश के तमाम संसाधनों को कारपोरेट की तिजौरी में डालती जा रही है उससे शक पैदा होता है कि क्या यह कोई लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई सरकार है या इसने इस देश को तहस-नहस करने की शपथ खाई है? अपने ही देश के अन्नदाताओं के साथ शायद ही कोई लोकतांत्रिक सरकार इस तरह शत्रुतापूर्ण बर्ताव करती होगी। किसानों का विद्रोह रातों-रात सामने नहीं आया है। इसके पीछे मोदी सरकार की धूर्ततापूर्ण फैसलों को देखा जा सकता है। कारपोरेट प्रभुओं को संतुष्ट करने के लिए और किसानों को कारपोरेट का दास बनाने के लिए जो कानून बनाए गए हैं, उसके बाद मोदी सरकार का क्रूर चेहरा बेनकाब हो गया है।

देश में सबसे बड़ा निजी उद्यम खेती है। और इसलिए इस पर किसी का एकाधिकार होना मुश्किल है। फिर भी मोदी सरकार ने अपनी अक्लमंदी का इस्तेमाल करते हुए खेती को एकाधिकार के क्षेत्र में लाने का निर्णय लिया है। हाल ही में संसद के माध्यम से पारित तीन विधेयकों के माध्यम से मोदी सरकार ने कुछ ऐसे मापदंड तय किए हैं जिनके माध्यम से खेती पर कुछ अमीर औद्योगिक घरानों का एकाधिकार कायम हो सकता है।

ये बिल मुख्य रूप से कृषि उपज के विपणन या बिक्री की प्रक्रिया को फिर से शुरू करने का लक्ष्य रखते हैं, अनुबंध खेती के लिए मार्ग प्रशस्त करते हैं और उन लोगों को आवश्यक खाद्यान्नों के अपरिवर्तित भंडारण की अनुमति देते हैं जिनके पास भविष्य में अपने लाभ के लिए भंडारण की सुविधा है, या जो किल्लत के समय मुंहमांगी कीमत पर खाद्यान्न बेच कर मुनाफा कमा सकते हैं।

मोदी सरकार द्वारा लाये गए इन तीनों क़ानूनों के परिणामों की चिंता करते हुए अधिकांश किसानों में अपनी तबाही की संभावनाओं को लेकर गंभीर भय पैदा हो गया है। यही कारण है कि किसानों ने आज एक देशव्यापी बंद आहूत किया है।

तीन कानूनों में से पहले कानून किसानों के उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) कानून में प्रावधान रखा गया है कि किसानों को अपनी उपज को खरीददारों को सरकारों की निगरानी के बगैर बेचने की अनुमति मिलेगी। किसानों को अधिक से अधिक स्वतंत्रता मिलेगी और उनकी फसल के लिए असंख्य प्रकार के खरीदार मिलेंगे। वर्तमान में रबी और खरीफ फसलों को मंडियों में बेचा जाता है जो कृषि उपज मंडी समितियों (एपीएमसी) द्वारा चलाए जाते हैं। ये काफी समय से राज्य सरकारों के कानूनों के तहत संचालित होते रहे हैं।

एपीएमसी प्रणाली के तहत एक और महत्वपूर्ण कारक केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर किसानों की मुख्य उपज जैसे गेहूं, धान, मसूर और तिलहन की खरीद की सरकार समर्थित प्रक्रिया है। किसानों के दृष्टिकोण से, एमएसपी उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि एमआरपी या न्यूनतम खुदरा मूल्य जो एक सामान्य उपभोक्ता के लाभ और सुरक्षा के लिए खुदरा दुकानों पर बेचे जाने वाले दैनिक उपयोग के उत्पादों पर मुद्रित किया जाता है।

विशेष रूप से कुछ कृषि उत्पादों या उनके डेरिवेटिव को खुदरा विक्रेताओं द्वारा पैक किए गए सामानों के रूप में विधिवत मुद्रित एमआरपी के साथ बेचा जाता है। गेहूं-आटा एक ऐसा उत्पाद है। 5 और 10 किलोग्राम के सीलबंद और ट्रेडमार्क वाले प्लास्टिक बैग में आईटीसी जैसी बेहतर जानी-मानी कंपनियों सहित कई कंपनियों द्वारा इसका विपणन किया जाता है। इसी तरह, कई कंपनियां पहले से ही किसानों से मंडियों के माध्यम से या सीधे और प्रसंस्करण और पैकेजिंग के बाद कृषि उपज में कारोबार कर रही हैं।

सरकार द्वारा निर्धारित गेहूँ के लिए एमएसपी और कंपनियों द्वारा आटे के लिए एमआरपी के बीच एक महत्वपूर्ण लागत का अंतर है, जो प्रसंस्करण और पैकेजिंग के लिए प्रभार को जोड़ने के बाद उपभोक्ता के लिए कंपनी द्वारा पर्याप्त लाभ को शामिल करने के लिए लगाया जाता है। इसलिए किसानों की उपज की किसी भी सुविधा और संवर्धन को संभवतः तभी सुनिश्चित किया जा सकता है जब किसानों को उनके उत्पाद के लिए अधिक उचित मूल्य मिले। यदि एमएसपी और एमआरपी को कृषि उत्पादों और उप-उत्पादों के मामले में मौजूदा दरों पर सहसंबद्ध किया जाता है, तो न केवल किसानों को बल्कि उपभोक्ताओं को भी लाभ होगा।

उदाहरण के लिए एमएसपी के अनुसार एक किलोग्राम गेहूं की कीमत 20 रुपये प्रति किलोग्राम से कम है और खुदरा बाजार में इसका आटा 35 रुपये प्रति किलोग्राम से अधिक है। यह अंतर 15 रुपए का है। राज्यसभा में पारित प्रोडक्ट ट्रेड एंड कॉमर्स बिल ने फार्म-गेट या मंडियों में कीमत के बीच मौजूदा अंतर और उपभोक्ता द्वारा भुगतान की गई इसकी उच्च लागत को नहीं देखा जो किसानों को गरीब बना देती है और कंपनियों को कृषि उत्पादों के विपणन के जरिये अमीर बनाती है।

मोदी सरकार के किसान बिल किसानों से अनाज के अधिग्रहण को कंपनियों के लिए आसान बना रहे हैं। इन विधेयकों को राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद, कृषि उत्पादों का कारोबार करने वाली कंपनियां सरकार द्वारा निर्धारित विभिन्न प्रकार के अनाज के लिए एपीएमसी मंडियों और एमएसपी दोनों को दरकिनार कर सकती हैं। सरकार द्वारा खरीद खाद्य स्थिरता के लिए स्टॉक बनाए रखने और आकस्मिकता के मामले में कमी को पूरा करने के लिए की जाती है।

मंडियों के माध्यम से जाने पर निजी खरीदारों को मंडी शुल्क और एजेंटों के लिए कमीशन खर्च होता है यदि वे बीच में हैं। इसलिए बिल कृषि उत्पाद की कीमत बढ़ाने के बजाय व्यापारिक कंपनियों द्वारा खरीद को सब्सिडी देता है। अनाज आधारित उत्पादों का व्यापार करने वाली अधिकांश कंपनियां पहले से ही सरकार द्वारा निर्धारित एमएसपी से सस्ती दरों पर खरीदना पसंद करती हैं।

दूसरा विधेयक मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा पर कृषक (सशक्तीकरण और संरक्षण) अनुबंध विधेयक है। यह एक अनुबंध के माध्यम से अनुबंध की खेती की अनुमति देगा जहां फसल की बुवाई के समय उत्पाद की कीमत का आश्वासन दिया जा सकता है। देश में कुछ स्थानों पर अनुबंध खेती पहले से ही चलन में है। यह बिल एक लिखित समझौते के माध्यम से इसे औपचारिक रूप से विस्तारित करने का प्रयास करता है। केबीआरएल लिमिटेड जैसी कुछ कंपनियां जो बासमती चावल का सौदा करती हैं, पहले से ही ठेके पर खेती करती हैं और दावत जैसे ब्रांड नाम से बेचे जाने वाले चावल की पहले से ही निर्धारित खेतों में खेती की जाती हैं।

बिल लागू होने के बाद जो अंतर आने वाला है, वह यह है कि यह कंपनियों के लिए बड़े पैमाने पर खेत उपलब्ध कराएगा। अनुबंध के माध्यम से निर्धारित अनुबंध की शर्तों का पालन करना आसान नहीं हो सकता क्योंकि प्राकृतिक कारक फसल की उपज और गुणवत्ता का निर्धारण करते हैं। और विवाद के मामले में ठेका कंपनी किसान की तुलना में बेहतर स्थिति में हो सकती है। विवाद निवारण तंत्र बिल में निर्धारित मुख्य रूप से एक मजिस्ट्रेट के स्तर तक ही सीमित है। इस प्रकार, अनुबंध पर विवाद के मामले में एक प्रारंभिक समाधान की कल्पना शायद ही की जा सकती है।

तीसरा और आखिरी बिल एसेंशियल कमोडिटीज (संशोधन) विधेयक है, जो व्यापारियों द्वारा अनाज को स्टॉक करने पर प्रतिबंध को हटाता है जिसे एक आवश्यक वस्तु माना जाता है।

इस विधेयक के पीछे सरकार का तर्क यह है कि किसान उपयुक्त मूल्य प्राप्त करने की अवधि तक कृषि उपज का स्टॉक कर सकेंगे। लेकिन सीमांत भूमि जोत वाले ज्यादातर किसान छोटे किसान हैं, उनसे कैसे उम्मीद की जा सकती है कि वे अपनी फसल बेचने के लिए उचित कीमतों का इंतजार करेंगे। इस प्रकार, यह बिल किसानों के बजाय पैसे वाले व्यापारियों के पक्ष में है। केवल व्यापारी फसल के समय अनाज का स्टॉक कर सकते हैं और कीमतें अधिक होने पर आवश्यक अनाज बेच सकते हैं।

किसानों के अधिकार के लिए लड़ रहे कार्यकर्ता यशपाल मलिक का कहना है कि कुल मिलाकर किसान बिल खेती के क्षेत्र में एक आभासी "कंपनी राज" कायम कर सकते हैं। "जिस तरह मुगलों ने ईस्ट इंडिया कंपनी को राजस्व संग्रह का काम सौंप दिया और कंपनी ने देश को बर्बाद कर दिया, उसी तरह वर्तमान सरकार एक प्रक्रिया शुरू कर रही है, जिसके जरिये खेत का उत्पादन और इसका व्यापार कुछ कंपनियों को बड़े पैमाने पर स्थानांतरित किया जा रहा है।"

Next Story

विविध

Share it