Top
उत्तर प्रदेश

बर्ड फ्लू अलर्ट : अंडे व चिकन की दुकानें बंद, पोल्ट्री फार्म को रोजाना 2 करोड़ का लग रहा चूना

Janjwar Desk
11 Jan 2021 5:08 AM GMT
बर्ड फ्लू अलर्ट : अंडे व चिकन की दुकानें बंद, पोल्ट्री फार्म को रोजाना 2 करोड़ का लग रहा चूना
x

फोटो सोशल मीडिया से।

अकेले कानपुर नगर में ही पांच सौ से जादा पोल्ट्री फार्म हैं। जहां रोजाना लगभग 50 हजार मुर्गी और 20 लाख अंडों की बिक्री होती है। जिसकी 90 प्रतिशत खपत शहर में ही है। यहां के फर्मों में प्रयागराज और हरियाणा से चूजे लाकर तैयार किये जाते हैं। फार्म से माल बाहर आने और जाने पर रोक लगने के बाद कारोबारियों ने नई खेप तैयार करने से भी दूरी बना ली है।

जनज्वार, कानपुर। यूपी के कानपुर में प्राणी उद्यान को बन्द कर दिया गया है। स्वास्थ विभाग हाई अलर्ट पर है, साथ ही चिड़ियाघर के 10 किलोमीटर के दायरे में चिकन व अंडों की दुकानों को बंद करने के आदेश हैं। कल चिड़ियाघर के अंदर 10 और आसपास के 49 पक्षियों को मारकर वैज्ञानिक विधि से जला दिया गया है।

किसी भी स्थिति से निपटने के लिए जिला प्रशाशन ने पशु चिकित्सा विभाग, स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम सहित पुलिस की टीमें भी लगाई गयी हैं। चिड़ियाघर और उसके आसपास सेनेटाइजर और ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव किया जा रहा है। इसी के साथ शहर के विभिन्न पार्कों को भी बंद किया गया है, जिसमें मोतीझील, राजीव वाटिका, तुलसी उपवन, नानाराव पार्क, परशुराम वाटिका आदि पार्कों में लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है।

कोरोना के चलते पहले ही तकरीबन 1 हजार करोड़ का नुकसान झेल चुके पोल्ट्री फार्म संचालकों को बर्ड फ्लू ने तगड़ा झटका दे दिया है। जिला प्रशास न की तरफ से अगले आदेश तक किसी भी तरह की बिक्री पर रोक लगाए जाने के बाद पोल्ट्री कारोबारियों को प्रतिदिन 2 करोड़ का नुकसान होगा। इस सहित बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद होटल और रेस्टोरेंट संचालकों ने चिकन को अपने मेन्यू से हटा दिया है।

अकेले कानपुर नगर में ही पांच सौ से जादा पोल्ट्री फार्म हैं। जहां रोजाना लगभग 50 हजार मुर्गी और 20 लाख अंडों की बिक्री होती है। जिसकी 90 प्रतिशत खपत शहर में ही है। यहां के फर्मों में प्रयागराज और हरियाणा से चूजे लाकर तैयार किये जाते हैं। फार्म से माल बाहर आने और जाने पर रोक लगने के बाद कारोबारियों ने नई खेप तैयार करने से भी दूरी बना ली है।

मछली और मटन के बढ़े दाम

बर्ड फ्लू की दस्तक के बाद शहर में मछली और मटन की डिमांड बढ़ गई है। डिमांड बढ़ने के कारण इनके भाव भी बढ़ गए हैं। मटन के दामो में 50 रुपये बढ़ने के साथ भांति भांति की मछलियां जो कई किस्मो की आती हैं उनके दामों में बढ़त देखी जा रही है। ऐसे में कारोबार पर पड़ते प्रभाव से निपटने के लिए फेडरेशन के पदाधिकारी आज सोमवार 11 जनवरी को जिलाधिकारी से मुलाकात करेंगे।

Next Story

विविध

Share it