उत्तर प्रदेश

हिस्ट्रीशीटर दोस्त ने की पूर्व ग्राम प्रधान की गोली मारकर हत्या, मरने से पहले लगाये गंभीर आरोप

Janjwar Desk
12 April 2021 6:20 AM GMT
हिस्ट्रीशीटर दोस्त ने की पूर्व ग्राम प्रधान की गोली मारकर हत्या, मरने से पहले लगाये गंभीर आरोप
x
मरने से पहले उसने अपने परिवार को बताया कि अनिल ने उस पर हमला किया था, उसके परिवार के सदस्यों ने उसके बयान पर एक वीडियो रिकॉर्ड किया है, जिसमें वह अनिल का नाम लेते नजर आ रहा है...

वाराणसी। यूपी में पंचायत चुनाव चल रहे हैं। इसी बीच तमाम हिंसक खबरें भी आ रही हैं, कहीं मार-पिटाई हो रही है तो कहीं हत्या की खबरें आ रही हैं। अब वाराणसी में एक प्रधान प्रत्याशी पूर्व ग्राम प्रधान बृजेश यादव की गोली मारकर हत्या करने की खबर सामने आयी है। जानकारी के मुताबिक वह दोबारा चुनाव लड़ने वाले थे। मृतक के परिवार ने हिस्ट्री शीटर अनिल यादव उर्फ भूसी यादव के खिलाफ हत्या का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई है। अनिल के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 के तहत प्राथमिकी दर्ज करते हुए पुलिस ने उसकी तलाश शुरू कर दी है।

एसपी (ग्रामीण) अमित वर्मा ने कहा, प्रारंभिक जांच से पता चला है कि अनिल के रिश्तेदारों की तरफ से बृजेश के नाम पर एक जमीन का पंजीकरण कराया गया था और इसी बात को लेकर वह बृजेश से नाराज था। अनिल उस जमीन को अपने नाम करवाना चाहता था।

उन्होंने आगे कहा, बृजेश और अनिल पहले दोस्त हुआ करते थे और पंचायत चुनाव का प्रत्याशी मृतक बृजेश यादव खुद भी एक हिस्ट्रीशीटर था।

रविवार 11 अप्रैल को बृजेश जब बाइक पर सवार होकर अपने घर लौट रहा था, तभी एक बगीचे के पास उस पर हमला बोला गया। उस पर कई बार गोलियां चलाई गईं। इलाज के लिए बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के ट्रॉमा सेंटर ले जाने के रास्ते में उसने अपना दम तोड़ दिया।

बृजेश के घरवालों ने पुलिस को एक वीडियो सौंपा है, जिसमें उसका बयान है। एसपी ने कहा, "मरने से पहले उसने अपने परिवार को बताया कि अनिल ने उस पर हमला किया था। उसके परिवार के सदस्यों ने उसके बयान पर एक वीडियो रिकॉर्ड किया है, जिसमें वह अनिल का नाम लेते नजर आ रहा है।"

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने घटनास्थल का निरीक्षण किया है और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। फरार आरोपी को पकड़ने के लिए छापेमारी की जा रही है।

पुलिस के मुताबिक, प्रधान पद के प्रत्याशी पप्पू यादव भी बड़ागांव थाने के हिस्ट्रीशीटर थे। 15 साल पहले पप्पू यादव अपने गांव इंदरपुर से निर्विरोध ग्राम प्रधान का चुनाव जीते थे। उसके बाद दो बार उनकी पत्नी भी इसी ग्राम प्रधान की सीट पर जीत हासिल की। 2021 के पंचायत चुनाव में पप्पू यादव फिर चुनावी मैदान में अपनी किस्मत आजमा रहे थे।

Next Story

विविध

Share it