Top
उत्तर प्रदेश

कोरोना से 5वां सर्वाधिक मृत्यु दर वाला राज्य है यूपी, लेकिन मोदी ने की योगी की खुलकर तारीफ

Janjwar Desk
26 Jun 2020 10:18 AM GMT
कोरोना से 5वां सर्वाधिक मृत्यु दर वाला राज्य है यूपी, लेकिन मोदी ने की योगी की खुलकर तारीफ
x
कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले में चौथा और कोरोना से मृत्यु के मामले में पांचवा स्थान पर है यूपी लेकिन पीएम मोदी राज्य सरकार की तारीफ कर रहे हैं ....

जनज्वार। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज जब दुनिया में कोरोना का इतना बड़ा संकट है, तब यूपी ने जो साहस दिखाया, स्थितियों को संभाला, वो अभूतपूर्व है, प्रशंसनीय है। एक प्रकार से आपदा से बने हर अवसर को यूपी सरकार कर रहा है। बता दें कि कोरोना वायरस से मृत्यु दर के मामले में उत्तर प्रदेश का पांचवां स्थान है। कोरोना वायरस से उत्तर प्रदेश में अबतक 596 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले में यह देश में चौथे स्थान पर है।

कोरोना वायरस से मौत के मामले में अभी महाराष्ट्र पहले नंबर पर है जहां अबतक 6739 मरीजों की मौत हो चुकी है। जबकि दूसरे नंबर पर राजधानी दिल्ली है है जहां अबतक 2365 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। इसी तरह तीसरे स्थान पर गुजरात है जहां 1754 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। जबकि तमिलनाडु चौथे स्थान पर है जहां अबतक 911 मरीजों की कोरोना वायरस से मौत हो चुकी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार के कारण लॉकडाउन में प्रदेश लौटे प्रवासी कामगार व श्रमिकों को रोजगार देने के लिए आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान की शुरूआत की। इस दौरान उन्होंने एक करोड़ से ज्यादा लोगों को रोजगार देने के इस अभियान के कुछ लाभार्थियों से वार्ता भी की। उन्होंने कहा कि यूपी ने अपने विकास के लिए इतनी बड़ी योजना शुरू कर दी है। एक प्रकार से आपदा से बने हर अवसर को यूपी साकार कर रहा है।

उन्होंने कहा, 'भारत पहुंची वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार को रोकने में उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने जो काम किया है, वह बेहद प्रशंसनीय है। सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में सरकार ने फ्रांस, इटली व स्पेन जैसे विकसित देश को इस महामारी से अपने लोगों को बचाने के उपाय तथा निराकरण के मामले काफी पीछे छोड़ दिया। योगी आदित्यनाथ सरकार ने आपदा को अवसर में भी बदलने का मौका नहीं छोड़ा। योगी आदित्यनाथ सरकार ने संकट के हर मोड़ पर ²ढ़ता से मुकाबला किया।'

मोदी ने कहा, 'जब अन्य राज्य कोरोना से लड़ाई में जूझ रहे हैं, यूपी ने अपने विकास के लिए इतनी बड़ी योजना शुरू कर दी है। एक बार फिर आप सभी को रोजगार के इन तमाम अवसरों के लिए बहुत-बहुत बधाई।'

उन्होंने कहा, 'कोरोना वायरस से आप लोग बचें। इसकी अभी तक न कोई दवा बनी है और न कोई टीका आया है। इसकी एक दवाई हमें पता है। ये दवाई है दो गज की दूरी। ये दवाई है- मुंह ढकना, फेसकवर या गमछे का इस्तेमाल करना। जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं बनती, हम इसी दवा से इसे रोक पाएंगे।'

उन्होंने कहा कि हम सभी ने अपने व्यक्तिगत जीवन में अनेक उतार-चढ़ाव देखे हैं। हमारे सामाजिक जीवन में भी, गांव में, शहर में, अलग-अलग तरह की कठिनाइयां आती ही रहती हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि योगी जी के नेतृत्व में, जिस तरह आपदा को अवसर में बदला गया है, जिस तरह वो जी-जान से जुटे हैं, देश के अन्य राज्यों को भी इस योजना से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा, वो भी इससे प्रेरणा पाएंगे।

उन्होंने कहा कि इस लड़ाई में चाहे यूपी के डॉक्टर हों, पैरामेडिकल स्टाफ हो, सफाई कर्मचारी हों, पुलिसकर्मी हों, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हो, बैंक और पोस्टऑफिस के साथी हों, परिवहन विभाग के साथी हों, श्रमिक साथी हों, हर किसी ने पूरी निष्ठा के साथ अपना योगदान दिया है। उत्तर प्रदेश के प्रयास और उपलब्धियां इसलिए विराट हैं, क्योंकि ये सिर्फ एक राज्य भर नहीं हैए बल्कि उत्तर प्रदेश दुनिया के कई देशों से बड़ा राज्य है। इस उपलब्धि को यूपी के लोग खुद महसूस कर रहे हैं, लेकिन आप अगर आंकड़े जानेंगे तो और भी हैरान हो जायेंगे।

मोदी ने कहा, 'जो मेहनत यूपी की सरकार ने की है, हम कह सकते हैं कि एक प्रकार से अब तक कम से कम 85 हजार लोगों का जीवन बचाने में वो कामयाब हुई है। आज अगर हम अपने नागरिकों का जीवन बचा पा रहे हैं, तो ये भी बहुत संतोष की बात है।'

Next Story

विविध

Share it