Top
उत्तर प्रदेश

सपा नेता ने ट्वीट किया योगी आदित्यनाथ का बलिया पर 17 सेकेंड का वीडियो, मच गया बवाल

Janjwar Desk
18 Oct 2020 1:59 PM GMT
सपा नेता ने ट्वीट किया योगी आदित्यनाथ का बलिया पर 17 सेकेंड का वीडियो, मच गया बवाल
x
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस वीडियो में यह कह रहे हैं कि उन्हें अब बलिया का नाम लेने में भी डर लगता है। इस पर सभी ठठाकर हंस पड़ते हैं।

जनज्वार। समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता जूही सिंह ने रविवार की शाम उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का एक ऐसा वीडियो शेयर किया जो कुछ ही मिनट में वायरल हो गया और लोग उसे रिट्वीट कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आलोचना करने लगे।

जूही सिंह ने इस वीडियो को ट्वीट कर लिखा : कैप्शन लैफ्टर: इस हंसी को कैप्शन दें। योगी आदित्यनाथ इस वीडियो में किसी समीक्षा बैठक में शामिल होते दिख रहे हैं और जब उनका किसी से संवाद होता है तो बलिया वासियों को शुभकामनाएं देते हैं और फिर यह कहते हैं कि बलिया का नाम लेने में भी अब उन्हें डर लगता है। योगी आदित्यनाथ ऐसा कहते हुए खुद ठठाकर हंस पड़ते हैं और उनके साथ दूसरे लोग भी हंस पड़ते हैं।

इस वीडियो को रिट्वीट करते हुए निधि यादव ने लिखा सपा नेता ने ट्वीट किया योगी आदित्यनाथ का बलिया पर 17 सेकेंड का वीडियो, मच गया बवाल: बेशर्मी और असंवेदनशीलता की हद है ये। सिर्फ बलिया ही नहीं बल्कि किसी भी जिले का नाम लेने लायक नहीं हैं ये।

इस पर एक व्यक्ति ने लिखा कि उच्च पद की कुर्सी पर बैठ के योगी जी गरिमा और गंभीरता के शब्दों को सोचने के लिए विवश कर रहे हैं। वहीं, दिशान हैदर नामक शख्स ने लिखा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री को भी बलिया का नाम लेने में डर लगता है आप समझ सकते हैं स्थिति।

योगी आदित्यनाथ के इस वीडियो को रिट्वीट करते हुए पत्रकार प्रशांत शुक्ला ने लिखा कि आज से उत्तरप्रदेश में हत्याओं को सरकारी हास्य माना जाए।

वहीं, ठग आफ रिपब्लिक ट्विटर एकाउंट से लिखा गया: बलिया की घटना हास्य सम्मेलन की अध्यक्षता करते यूपी के मुख्यमंत्री। वहीं, सपा नेता अनिल यादव ने लिखा कि इस हंसी ने याद दिला दिया कि दशहरा आने वाला है।


क्या है बलिया कांड?

मालूम हो कि बलिया हत्याकांड का मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह रविवार सुबह एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया। उसके साथ ही दो अन्य आरोपी संतोष यादव और अमरजीत यादव को गिरफ्तार किया गया है। गुरुवार को बलिया जिले के रेती क्षेत्र में दुर्जनपुर गांव में राशन की दुकानों के आवंटन के लिए हुई बैठक में हुए विवाद की वजह से गोलीबारी की गई थी जिसमें एक 46 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई थी। उस बैठक में जिला प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद थे। सीएम ने इस मामले में मौके पर मौजूद एसडीएम और सीओ को तत्काल सस्पेंड करने व आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश दिया था।

Next Story

विविध

Share it