Top
उत्तर प्रदेश

पुलिस का दावा गैंगस्टर विकास दुबे की पत्नी और बेटा लखनऊ से गिरफ्तार, कानपुर ले गई पुलिस

Janjwar Desk
10 July 2020 3:52 AM GMT
पुलिस का दावा गैंगस्टर विकास दुबे की पत्नी और बेटा लखनऊ से गिरफ्तार, कानपुर ले गई पुलिस
x
कानपुर एनकाउंटर के आरोपी और गैंगस्‍टर विकास दुबे की पत्‍नी ऋचा दुबे और उसके बेटे को लखनऊ के कृष्णानगर इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने उसके नौकर को भी पकड़ा है...

जनज्वार। कानपुर एनकाउंटर के आरोपी और गैंगस्‍टर विकास दुबे की पत्‍नी ऋचा दुबे और उसके बेटे को लखनऊ के कृष्णानगर इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने उसके नौकर को भी पकड़ा है। ऋचा दुबे को लेकर पुलिस कानपुर पहुंची है और उससे पूछताछ जारी है। इससे पहले यूपी के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने बताया कि विकास दुबे को ट्रांजिट रिमांड पर उत्तर प्रदेश लाया जा रहा है। कानपुर कांड में शामिल दुबे के गिरोह के सभी सदस्यों को पकड़ने तक हमारा अभियान जारी रहेगा।

उन्होंने कहा कि दुबे के खिलाफ कानून के तहत सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। जब उनसे यह पूछा गया कि दुबे के अलावा उज्जैन से और कौन पकड़ा गया है तो अधिकारी ने जवाब दिया कि हमें मीडिया के जरिए यह जानकारी मिली है और अभी इस बारे में कोई आधिकारिक पत्र नहीं मिला है। एसटीएफ सूत्रों ने बताया कि विकास जब बिकरू में पुलिसकर्मियों का खून बहा रहा था तब उसकी पत्नी ऋचा कृष्णानगर की इंद्रलोक कॉलोनी वाले घर पर थी। रात करीब दो बजे पति से बातचीत के बाद वह बेटे को लेकर घर से निकल गई।

लखनऊ पुलिस और एसटीएफ की टीमें उसकी तलाश कर रही थीं। इस बीच विकास के पकड़े जाने के बाद रात करीब आठ बजे ऋचा और उसके बेटे व नौकर को भी पुलिस ने दबोच लिया। सूत्रों का कहना है कि ऋचा के साथ तीन और लोग थे, जिसमें से एक भाग निकला। चौथा कौन था? इस बारे में पूछताछ की जा रही है। हालांकि यह पता नहीं चल सका कि वह अब तक कहां रही? किसने शरण दी?

सूत्रों ने बताया कि मंगलवार शाम विकास के घर की तलाशी में करोड़ों रुपये के लेनदेन के कागजात मिले हैं। विकास ने करीब 65 लोगों के नाम लिखे हैं जिनसे उसे 35000 रुपये से 15 लाख रुपया तक का लेनदेन हुआ था। इसमें 12 नाम ऐसे हैं जिनकी उसने शादी-ब्याह अथवा बीमारी के दौरान उपचार के लिए आर्थिक मदद की थी। 35 लोगों से उसे रुपया लेना था। करीब 10 जगह से उसे तीन करोड़ रुपये भी आने थे। पुलिस ने सूची एसटीएफ को भी सौंपी है।

प्रदेश के एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने कहा है कि विकास दुबे गैंग के सभी सदस्यों की गिरफ्तारी होने तक पुलिस का अभियान जारी रहेगा। सभी दोषियों को कानून के हवाले कर कड़ी सजा दिलवाने की कोशिश की जाएगी। उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया के तहत विकास दुबे पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उसे ट्रांजिट रिमांड पर लेकर यूपी लाया जा रहा है। विकास दुबे के यूपी में न पकड़े जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि पूरे देश की पुलिस एक है। मध्य प्रदेश पुलिस हमसे अलग नहीं है। घटना के दिन से ही यूपी पुलिस लगातार इस गैंग के लोगों का पीछा कर रही है। उज्जैन में विकास के पकड़े जाने के घटनाक्रम पर उन्होंने यह कहते हुए कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि सभी तथ्यों के बारे में पूरी जानकारी मिलने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

Next Story

विविध

Share it