Top
आंदोलन

उत्तराखंड : सामुदायिक चिकित्सा केंद्र को निजी हाथों में सौंपने का प्रस्ताव, अनिश्चितकालीन धरने पर संघर्ष समिति

Janjwar Desk
5 Sep 2020 4:16 PM GMT
उत्तराखंड : सामुदायिक चिकित्सा केंद्र को निजी हाथों में सौंपने का प्रस्ताव, अनिश्चितकालीन धरने पर संघर्ष समिति
x
सल्ट के विधायक सुरेन्द्र सिंह जीना ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उक्त दोनों सामुदायिक चिकित्सा केंद्र हल्द्वानी के कल्याण अस्पताल को दिए जाने की सिफारिश की थी....

अल्मोड़ा। सल्ट विकास संघर्ष समिति द्वारा विगत एक सितंबर से देवायल व देघाट के सामुदायिक चिकित्सा केंद्र को निजी हाथों में दिए जाने के प्रस्ताव को रद्द करने समेत पंद्रह सूत्रीय मांगों को लेकर जारी आंदोलन सल्ट के विधायक सुरेन्द्र सिंह जीना के सभी मांगो को पूरा किये जाने के आश्वासन के बाद स्थगित हो गया।

गौरतलब है कि सल्ट के विधायक सुरेन्द्र सिंह जीना ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उक्त दोनों सामुदायिक चिकित्सा केंद्र हल्द्वानी के कल्याण अस्पताल को दिए जाने की सिफारिश की थी। विधायक के इस पत्र के बाद क्षेत्र की जनता का आक्रोश फूट पड़ा था और जनता ने सल्ट विकास संघर्ष समिति का गठन करके उक्त दोनों अस्पतालों के निजीकरण को रद्द करने समेत 15 सूत्रीय मांगों को लेकर सल्ट तहसील मुख्यालय पर अनिश्चित कालीन धरना प्रारम्भ कर दिया था।

आज पांच सितंबर को खुमाड़ के शहीदों को श्रद्धांजलि देने विधायक सुरेन्द्र सिंह जीना सल्ट पहुंचे थे। श्रद्धांजलि देने के बाद वे मौलेखाल तहसील धरना स्थल पर पहुंचे तथा उन्होंने आंदोलनकारियों की समस्याओं को सुना।

जन असंतोष को देखते हुए उन्होंने घोषणा की कि उनकी सभी पंद्रह सूत्रीय मांगों को शीघ्र ही निस्तारित किया जायेगा तथा देवायल व देघाट के अस्पतालों को हल्द्वानी के कल्याण हॉस्पिटल को देने हेतु जो प्रक्रिया चलाई जा रही है उसे तत्काल प्रभाव से निरस्त करने की घोषणा करते हुए कहा कि एक जनवरी से अस्पताल में सभी लोगों को एक्सरे की सुविधा मिलनी प्रारंभ हो जायेगी तथा देघाट व देवायल के सामुदायिक चिकित्सालयों में मानकों के अनुरूप डॉक्टरों, स्टाफ व चिकित्सीय उपकरणों को उपलब्ध कराये जाने हेतु तत्काल विज्ञप्ति जारी की जाएगी।


विधायक के आश्वासन के बाद सल्ट विकास संकट समिति ने अपना आंदोलन स्थगित कर दिया है तथा चेतावनी दी है कि यदि तत्काल देवायल व देघाट के अस्पतालों में मनको के अनुरूप चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध नहीं करवाई गईं तो क्षेत्र की जनता पुनः आंदोलन के लिए बाध्य होगी।

कांग्रेस के सांसद प्रदीप टम्टा, गंगा पंचोली, महिला एकता मंच की ललिता रावत नीमा, कौशल्या चुनियाल, समाजवादी लोक मंच के मुनीष कुमार किसन शर्मा, मदन मेहता, साइंस फॉर सोसायटी के दिगम्बर ने भी धरना स्थल पर जाकर आंदोलन को समर्थन दिया।

आंदोलन में गोविंद बल्लभ उपाध्याय, अमित रावत, मोहन शर्मा, साहिल, सिंह रावत, महिपाल नेगी, वीरेन्द्र शर्मा समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। इस दौरान एसडीएम, तहसीलदार समेत बड़ी संख्या में पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी भी धरना स्थल पर मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन संयोजक नारायण सिंह रावत ने किया।

Next Story

विविध

Share it