राष्ट्रीय

बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष ने 22 जनवरी को सभी अदालतों को बंद रखने के लिए CJI को लिखा पत्र तो वकीलों ने जताया कड़ा ऐतराज

Janjwar Desk
20 Jan 2024 11:38 AM GMT
बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष ने 22 जनवरी को सभी अदालतों को बंद रखने के लिए CJI को लिखा पत्र तो वकीलों ने जताया कड़ा ऐतराज
x

file photo

ऑल इंडिया लॉयर्स यूनियन का मानना है कि राम मंदिर, अयोध्या या किसी अन्य मंदिर में 'प्राणप्रतिष्ठा' केवल एक धार्मिक कार्य है, न कि सरकार का काम जिस तरह से वर्तमान केंद्र सरकार माहौल बना रखा है, उस दिन कोई धार्मिक त्यौहार भी नहीं है, लेकिन चुनाव में फायदा लेने के लिए देश में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण किया जा रहा है, यह कार्यक्रम राजनीतिक अभियान और चुनावी तैयारी के तौर पर किया जा रहा है...

Ram Mandir Pran pratishtha : बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने भारत के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ को 22 जनवरी को देश की सभी अदालतों में छुट्टी घोषित करने के लिए पत्र लिखा है। ऑल इंडिया लॉयर्स यूनियन (एआईएलयू) और देश के कई अन्य वकील संगठन वहीं वकीलों और जजों ने इस कार्रवाई के खिलाफ कडी आपत्ति और नाराजगी जताई है।

ऑल इंडिया लॉयर्स यूनियन के महाराष्ट्र राज्य अध्यक्ष एडवोकेट बाबासाहेब वावलकर और और सचिव एडवोकेट चंद्रकांत बोजगर की तरफ से जारी की गयी रिलीज में कहा गया है, ऑल इंडिया लॉयर्स (एआईएलयू) का मानना है कि राम मंदिर, अयोध्या या किसी अन्य मंदिर में 'प्राणप्रतिष्ठा' केवल एक धार्मिक कार्य है, न कि सरकार का काम जिस तरह से वर्तमान केंद्र सरकार माहौल बना रखा है। उस दिन कोई धार्मिक त्यौहार भी नहीं है, लेकिन चुनाव में फायदा लेने के लिए देश में सांप्रदायिक ध्रुवीकरण किया जा रहा है, यह कार्यक्रम राजनीतिक अभियान और चुनावी तैयारी के तौर पर किया जा रहा है।

इस तरह के धार्मिक और सांप्रदायिक ध्रुवीकरण और राजनीतिक प्रचार का हिस्सा बनना अदालतों का काम नहीं है। न्यायालय को अपना अस्तित्व, स्वतंत्रता और न्यायिक संप्रभुता सरकार के अधीन नहीं करनी चाहिए। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है और सरकार का कोई धर्म नहीं है। 22 तारीख को अयोध्या के आयोजन का कोई धार्मिक, सांस्कृतिक, राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय महत्व नहीं है. इस कवायद का पूरा उद्देश्य मूल रूप से कट्टर राजनीतिक हिंदू धर्म को भारतीय राष्ट्रवाद के रूप में पेश करना, धर्म का राजनीतिकरण करना और धार्मिक ध्रुवीकरण करके आगामी लोकसभा और राज्य विधानसभा चुनावों में वोट प्राप्त करना है।

मंदिर-मस्जिद विवाद, बाबरी मस्जिद का विध्वंस और उसके बाद सांप्रदायिक संगठनों और दोनों धर्मों के लोगों द्वारा किए गए दंगों, बर्बरता, आगजनी, हत्या और बलात्कार ने राष्ट्र के सामाजिक ताने-बाने को नष्ट कर दिया। पूरा प्रकरण आधुनिक भारत के राजनीतिक और नैतिक मूल्यों पर गहरा घाव है, इसलिए इस मंदिर कार्यक्रम के दिन में छुट्टी देना भारत के संविधान के धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक मूल्यों का पूरी तरह से गलत और अनुचित संकेत है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया से ऐसी अनुमति मांगना और देना भारत के मुख्य न्यायाधीश के अधिकार क्षेत्र से बाहर है और भारत के मुख्य न्यायाधीश की गरिमा के लिए अपमानजनक है।

धर्मनिरपेक्ष संवैधानिक नैतिकता के मूल्यों को संरक्षित और कायम रखना न्यायिक प्रणाली का कर्तव्य है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया का इस तरह सत्ताधारी पार्टी के धार्मिक-राजनीतिक एजेंडे में शामिल होना गलत है. इसीलिए बीसीआई अध्यक्ष द्वारा भारत के माननीय मुख्य न्यायाधीश को छुट्टी घोषित करने का अनुरोध करते हुए लिखा गया पत्र अत्यधिक आपत्तिजनक, अनुचित और अस्वीकार्य है।

बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष की यह कार्रवाई एकतरफा है। न तो बीसीआई और न ही इसका अध्यक्ष भारत में अधिकांश वकीलों की इच्छा का प्रतिनिधित्व करता है। उनकी व्यक्तिगत इच्छा न्यायपालिका के उन सभी घटकों की इच्छाओं के विरुद्ध है, जो भारत के संवैधानिक मूल्यों में रुचि रखते हैं और उन्हें संरक्षित करने के लिए कानूनी लड़ाइयाँ लड़ते हैं। ऑल इंडिया लॉयर्स यूनियन बीसीआई के अध्यक्ष के इस आपत्तिजनक व्यवहार और कार्रवाई की कड़ी निंदा करता है और इस पत्र को तत्काल वापस लेने की मांग करता है।

Next Story

विविध