Top
राजनीति

भारत में 5-6 दिनों में कोरोना वायरस के मामले लगभग दोगुने हुए, मृतकों की संख्या भी बढ़ी

Raghib Asim
17 March 2020 1:44 PM GMT
भारत में 5-6 दिनों में कोरोना वायरस के मामले लगभग दोगुने हुए, मृतकों की संख्या भी बढ़ी
x

भारत में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. पिछले 5-6 दिन में संक्रमित लोगों की संख्या लगभग दोगुनी हो गई है...

जनज्वार। भारत में कोरोनावायरस का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है. पुष्ट मामलों के साथ मरने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है. पुष्ट मामलों की संख्या के बारे में सरकार द्वारा साझा किए गए आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि सकारात्मक मामलों की संख्या हर पांच से छह दिनों में दोगुनी हो रही है.

ता दें, 6 मार्च को भारत में दर्ज किए गए मामलों की संख्या लगभग 30 थी. उसके बाद से पुष्ट किए गए मामलों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. केवल पांच दिनों में, भारत में सकारात्मक मामलों की संख्या बढ़कर 60 पर पहुंच गई. 17 मार्च को कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 131 हो गई. केवल छह दिनों में 71 मामलों की वृद्धि.

दि इसी तरह का पैटर्न जारी रहा, तो भारत अगले छह दिनों में मामले 252 पर पहुंच सकते हैं. रिपोर्ट किए गए मामले भारत में लगातार बढ़ते जा रहे हैं. ऐसी आशंका है कि मामलों की संख्या इससे अधिक हो सकती है, क्योंकि पॉजिटिव लक्षणों वाले कई लोगों का परीक्षण अभी तक नहीं किया गया है.

सी तरह से इटली में दो सप्ताह में संक्रमित लोगों की संख्या 322 से बढ़कर 10,000 पर पहुंच गई थी. चिकित्सा विशेषज्ञों ने इसके बारे में चेतावनी दी है और कहा है कि बाहर निकलते समय नागरिकों को बेहद सावधानी बरतने की जरूरत है.

लेकिन फ्रांस, इटली और ईरान जैसे अन्य देशों की तुलना में भारत में संक्रमित लोगों की संख्या अभी बहुत कम है. यानी ऐसे मामले अभी बहुत कम सामने आ रहे हैं और जहां पर भी सामने आ रहे हैं सरकार की तरफ से उन्हें तुरंत अस्पताल पहुंचाया जा रहा है.मंगलवार को भारत की वित्तीय राजधानी मुंबई में 64 वर्षीय व्यक्ति की मौत के साथ कोरोनावायरस के कारण भारत में तीसरी घातक घटना हुई. मुंबई में जिस शख्स की मौत हुई है वो दुबई की यात्रा से वापस आए थे और पिछले सप्ताह सकारात्मक परीक्षण किया गया था. उनका निधन मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल में हुआ.

स बीच, उत्तर प्रदेश के नोएडा में दो नए सकारात्मक मामलों की पहचान की गई. उन्हें आइसोलेशन में रखा गया है. लेकिन जिस तरह से मामले बढ़ते जा रहे हैं, उससे इस बात का डर बढ़ता जा रहा है कि कहीं एक जगह पर रह रहे लोगों में सामुदायिक रूप से कहीं न फैलने लगे. डॉक्टरों का कहना है कि वायरस के प्रकोप से निपटने के लिए सबसे अच्छा तरीका परीक्षण कराना है और एक दूसरे के संपर्क में आने से बचना है. वायरस के प्रसार को रोकने के लिए समाजिक कार्यक्रमों पर रोक लगाना भी काफी बेहतर तरीका है. यहां तक ​​कि सरकारों ने लोगों को इकट्ठा होने से रोकने के लिए कई जगहों पर लॉकडाउन कर दिया है.

कार्यालयों और कॉरपोरेट्स ने भी भारत में 100 से अधिक मामले सामने आने के बाद कर्मचारियों को घर से काम करने की अनुमति दे दी है. पूरी दुनिया में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1.6 लाख से अधिक हो गई है, जबकि इससे मरने वालों की संख्या 6,600 को पार कर गई है.

Next Story
Share it