सिक्योरिटी

गांजे का तस्कर निकला उत्तराखण्ड पुलिस का सिपाही

Janjwar Team
19 Sep 2017 10:25 PM GMT
गांजे का तस्कर निकला उत्तराखण्ड पुलिस का सिपाही
x

जनज्वार संवाददाता, रामनगर। पुलिस महकमे में तैनाती मिलने के बाद से ही गांजे की तस्करी में जुटे एक सिपाही को रामनगर पुलिस ने रामनगर के रानीखेत रोड पर पकड़ा। बताया जा रहा है कि पुलिसकर्मी पहले कुछ लोगों से गांजे की तस्करी करवाया करता था, लेकिन बाद में खुद भी इस धंधे में खुलकर उतर गया।

सिपाही की इस हरकत पर शर्मसार उत्तराखण्ड की मित्र पुलिस अब सिपाही को सस्पेंड करने की कार्रवाई करेगी। घटनाक्रम के मुताबिक अल्मोड़ा जनपद के सल्ट थाने में तैनात सिपाही दिनेश पुत्र खूबसिंह यूएसनगर के सुल्तानपुर पटटी क्षेत्र का रहने वाला है। उसके पिता भी उत्तराखण्ड पुलिस में दरोगा के पद पर तैनात थे, जिनकी मौत के बाद दिनेश को मृतक आश्रित कोटे से पुलिस विभाग में नौकरी मिली थी।

पुलिस में नौकरी मिलते ही आपराधिक प्रवृत्ति के दिनेश ने अपना असली रंग दिखाते हुये तराई क्षेत्र के नशे के कारोबारियों से सम्पर्क साधकर पर्वतीय क्षेत्र से तराई को गांजे की तस्करी शुरू करवा दी। इस बीच वह अपनी पुलिस का रौब दिखाते हुए तस्करी में जुटे लोगों की भरपूर मदद करता रहा।

कुछ दिनों के बाद दिनेश को नशे के कारोबारियों से कमीशन के बतौर मिलने वाली कमाई कम लगने लगी तो वह खुद ही पूरी तरह इस धंधे में उतर गया। लम्बे समय से पर्वतीय क्षेत्रों से तराई की वादियों को नशे में डुबोकर नौनिहालों के जीवन से खिलवाड़ करने वाले इस सिपाही का भांडा उस समय फूटा, जब किसी ने इस सिपाही की मुखबीरी करते हुये पुलिस विभाग के आला अधिकारियों से दिनेश के खिलाफ शिकायत की।

शिकायत मिलने पर पुलिस ने आरोपी को ट्रैस आउट करना शुरू कर दिया, जिसके चलते आरोपी जब पर्वतीय क्षेत्र सल्ट से अपनी बाइक संख्या यूके 06 एम 6163 से बैग में चार किलो गांजा लेकर तराई की ओर जा रहा था, उसे रामनगर पुलिस ने उसे दबोच लिया।

पुलिस ने पकड़े गये सिपाही के पास से 41 हजार रुपये की रकम भी बरामद की है। फिलहाल पुलिस ने आरोपी सिपाही को एनडीपीएस एक्ट के तहत हिरासत में लिया है, लेकिन जिस प्रकार की सूचनाएं सिपाही के बारे में आ रही हैं उससे लगता है कि सिपाही का अपराध की दुनिया से गहरा गठजोड़ है।

जानकारी के मुताबिक बीते दिनों रामनगर पुलिस ने एक होटल पर जुआघर चलाने के आरोप में छापामारी की थी तो होटल के बाहर से बरामद बाइक भी इसी सिपाही की थी, जिसे बाद में यह सिपाही अपनी पुलिस की पहचान दिखाते हुए ले गया था।

बहरहाल सिपाही की इस हरकत पर पुलिस महकमा शर्मसार है। दूसरी ओर अल्मोड़ा जनपद के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी इस सिपाही की गिरफ्तारी और उसके जेल जाने के बाद विभागीय नियमों के हिसाब से उसे सस्पेंड करने की तैयारी कर रहे हैं।

Next Story

विविध

Share it