सिक्योरिटी

लव जेहाद और गौहत्या से निपटेंगे यूपी के 2 लाख धर्म योद्धा

Janjwar Team
19 Sep 2017 3:03 PM GMT
लव जेहाद और गौहत्या से निपटेंगे यूपी के 2 लाख धर्म योद्धा
x

लंपटई के लिए ख्यात विश्व हिंदू परिषद का लक्ष्य है यूपी में 5 लाख धार्मिक योद्धा बनाने का, गौ हत्यारों, लव जिहादियों आदि से खुद निपटेंगे धार्मिक योद्धा

बेकारी, गरीबी और अपराध की मार झेल रहे यूपी के युवाओं को योगी सरकार भले रोजगार न द पाए पर बेकारों की फौज को फुल धार्मिक गुंडा बनाने का स्पेस जरूर दे रही है...

पश्चिमी उत्तर प्रदेश। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में विश्व हिंदू परिषद 'वीएचपी' अपने दो लाख से अधिक युवा कार्यकर्ताओं को धर्म योद्धा घोषित करेगी। बजरंग दल के मुताबिक ये धर्म योद्धा हिंदू धर्म की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध होंगे।

6 दिसंबर को बाबरी मस्जिद विध्वंस की 25वीं साल पूरा हो रहा है। सालगिरह के मौके पर वीएचपी 2 लाख से भी ज्यादा युवाओं को त्रिशूल शिक्षा ग्रहण करने के बाद धर्म योद्धा/धार्मिक योद्धा की उपाधि से नवाजेगी।

विश्व हिंदू परिषद में पश्चिमी उत्तर प्रदेश धर्म प्रसार प्रभारी राकेश त्यागी कहते हैं परिषद के ये योद्धा हिंदू धर्म की रक्षा के लिए हर पल—हर क्षण तैयार रहेंगे।

त्यागी बड़े शान में कहते हैं, यदि कोई भी असामाजिक तत्व मंदिर को नुकसान पहुंचाने या ध्वस्त करने की कोशिश तक करता हुआ पाया जायेगा, हिंदू धर्म पर किसी भी तरह से हमला करेगा, गायों को मारेगा या फिर धर्मांतरण लव जिहाद जैसे चक्करों में पड़ा होगा, उससे ये योद्धा ढंग से निपटेंगे।

वीएचपी के मुताबिक चूंकि त्रिशूल भगवान शिव के विश्वास और शक्ति का प्रतीक है, इसलिए हिंदू धर्म के रक्षार्थ तैयार किए जा रहे युवाओं को त्रिशूल शिक्षा दी जा रही है। वीएचपी के अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त महासचिव सुरेंद्र जैन कहते हैं कि वीएचपी की "त्रिशूल शिक्षा" देशभर में होती रहती है।

हालांकि यह परिषद की राज्य इकाइयों पर छोड़ दिया जाता है कि वे कब कहां क्या करना चाहते हैं। परिषद द्वारा धर्म योद्धा तैयार किए जाने का उद्देश्य और स्पष्ट संदेश है कि हिंदुओं पर किसी भी तरह की हिंसा को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

साथ ही उन्होंने एक तरह से हिंदू युवाओं का आह्वान किया कि यह समय की मांग है कि हिंदू युवक अपने धर्म की रक्षा के लिए आगे आएं।

बजरंग दल के राष्ट्रीय संयोजक मनोज वर्मा के मुताबिक वीएचपी की कुछ शाखाओं ने 19 नवंबर और 6 दिसंबर के बीच अपनी सदस्यता भर्ती अभियान पूरा करने के बाद त्रिशूल शिक्षा कार्यक्रम का आयोजन रखने की योजना बनाई है। परिषद का कहना है कि हिंदू धर्म के रक्षार्थ हमारी योजना उत्तर प्रदेश में 5 लाख नवयुवकों की 'धर्म योद्धा' के बतौर तैयार करने की है।

Next Story
Share it