Top
आंदोलन

यूपी में 50 बीघे से ज्यादा गेहूं की फसल जलकर राख, लॉकडाउन की इस दोहरी मार को कैसे सहेंगे गरीब किसान

Prema Negi
11 April 2020 2:33 PM GMT
यूपी में 50 बीघे से ज्यादा गेहूं की फसल जलकर राख, लॉकडाउन की इस दोहरी मार को कैसे सहेंगे गरीब किसान
x

फायर ब्रिगेड की लचर व्यवस्था के चलते डुमरियागंज में 50 बीघे से भी ज्यादा जलकर हो गयी राख, पीड़ित किसानों का कहना है कि अगर उन्हें मुआवजा नहीं मिला तो वह सदमे में ही तोड़ देंगे दम...

जनज्वार, लखनऊ। कल 10 अप्रैल को सिद्धार्थनगर जनपद के डुमरियागंज तहसील क्षेत्र के परसा हुसैन गांव में कंपाइन से गेहूं काटते समय खेत में आग लग गई, देखते ही देखते आग ने भयावह रूप ले लिया, जिससे 50 बीघा से अधिक फसल जलकर राख हो गया।

सैकड़ों ग्रामीणों की मदद से घंटों बाद आग पर काबू पाया गया। ग्रामीणों का आरोप है कि फायर ब्रिगेड की गाड़ी समय से पहुंचती तो खेत नहीं जलते। हर साल फायर ब्रिगेड की लचर व्यवस्था के चलते जिले में कई हजार बीघा फसल जलकर राख हो जाती है। पीड़ित किसानों का कहना है कि अगर उन्हें मुआवजा नहीं मिला तो वह सदमे में ही दम तोड़ जाएंगे।

लॉकडाउन : भूख से परेशान हजारों प्रवासी मजदूरों ने गुजरात में बवाल, घर जाने की मांग को लेकर फूंक दीं गाड़ियां

आज 11 अप्रैल को पीपुल्स एलायन्स ने सामाजिक क्रांति के अग्रदूत ज्योतिबा फूले साहब की जयंती पर उनके संघर्षों को याद करते हुए परसा हुसैन गाँव में जिन किसानों की फसलें जलकर राख हुई हैं, उनको राहत खाद्य सामग्री वितरण के लिए पहुंचीं।

अपनी जली हुई फसल के ढेर को देखकर खून के आंसू रोने को मजबूर किसान

स मौके पर रिहाई मंच नेता शाहरुख अहमद ने बताया कि लॉकडाउन के हालातों की वजह से जिले भर में इन दिनों कंपाइन और मजदूरों की भारी कमी बनी हुई है, जिससे जिले के ज्यादातर किसानों के खेतों में पककर कटने के लिए तैयार खड़ी गेहूं की फसल अभी तक नहीं कट पा रही है और आगजनी के मामले तेजी के साथ बढ़ रहे हैं, जिससे जिले के किसान अपनी गेहूं की फसल को लेकर चिंतित है।

किसानों को फसल न कट पाने आगजनी की वजह से जिलेभर में एक सप्ताह के भीतर कई किसानों की गेहूं की फसल जलकर खाक होने के मामले सामने आ चुके हैं, जो और भी तेजी के साथ बढ़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें : पानीपत में प्रवासी मजदूरों का बुरा हाल, नहीं मिल रहा खाना, आर्थिक मदद का भी कुछ पता नहीं

न्होंने कहा कि सरकार खेत में आग के कारण फसल जल कर राख होने पर तबाह हुए किसानों को तत्काल उचित मुआवजा का प्रबन्ध कर किसानों को राहत पहुंचाए। केंद्र और प्रदेश सरकार तत्काल नुकसान का सर्वे कराकर किसानों को मुआवजा दे।

रिहाई मंच के नेता अज़ीमुश्शान फ़ारूक़ी ने कहा कि फायर ब्रिगेड की गाड़ी समय से नहीं पहुंच पाने की वजह से किसानों का भारी नुकसान हो गया। ऐसे में प्रशासन फायर स्टेशन को अलर्ट करे, जिससे जानमाल की हानि न हो। फायर स्टेशन का हेल्पलाइन नंबर अखबारों में सावर्जनिक कर, सुचारू रूप से काम करे। फायर बिर्गेड की गाड़ियों की संख्या बढ़ाई जाए। उन्होंने कहा कि खेत के आस-पास में बीड़ी, सिगरेट आदि धूम्रपान करने वालों पर प्रशासन सख्त हो। ताकि आगजनी के साथ फसल के जलने के नुकसान से बचा जा सके।

पीपुल्स एलायन्स टीम परसा हुसैन गाँव में आग लगने से पीड़ित किसानों को राहत खाद्य सामग्री व आवश्यक वस्तुओं का वितरण किया। राहत खाद्य सामग्री वितरण में शाहरुख अहमद, अज़ीमुश्शान फ़ारूक़ी, नासिर खान मौजूद रहे।

Next Story

विविध

Share it