Top
विमर्श

नेस्ले अधिकारी द्वारा श्रमिक की पिटाई के विरोध में मजदूरों ने किया कंपनी का घेराव

Janjwar Team
20 Jan 2018 8:55 PM GMT
नेस्ले अधिकारी द्वारा श्रमिक की पिटाई के विरोध में मजदूरों ने किया कंपनी का घेराव
x

मजदूरों के अवैध निष्कासन, मजदूर यूनियन रजिस्ट्रेशन खारिज करने और आए दिए हादसों में होने वाले अंग भंग के खिलाफ धरनारत मजदूरों ने लाल टोपी पहन निकाला, वहीं अधिकारी द्वारा श्रमिक को पीटने पर मजदूरों ने किया कंपनी का घेराव...

रुद्रपुर (उत्तराखण्ड)। सिडकुल क्षेत्र की तमाम कंपनियों में लगातार जारी मजदूरों के शोषण और उत्पीड़न के खिलाफ आज श्रमिक संयुक्त मोर्चा के नेतृत्व में विभिन्न कंपनियों के श्रमिकों ने सिडकुल में जुलूस निकाला। श्रमिक संयुक्त मोर्चा की लाल टोपी लगाए मज़दूरों ने जोश के साथ अपने हक़ की आवाज़ बुलंद की।

गौरतलब है कि पंतनगर सिडकुल की महिंद्रा सीआईई कंपनी के मजदूर 4 श्रमिकों के अवैध निष्कासन तथा ऑटो लाइन कंपनी के मजदूर यूनियन रजिस्ट्रेशन खारिज करने तथा आए दिन हादसों के कारण मजदूरों के अंग भंग के खिलाफ श्रम भवन रुद्रपुर में पिछले लंबे समय से धरनारत हैं।

LGB फैक्ट्री में श्रमिक यूनियन अध्यक्ष को नियुक्ति पत्र देने सहित मांग पत्र के निस्तारण के लिए 1 वर्ष से संघर्षरत हैं। मंत्री मेटालिक्स, भगवती प्रोडक्ट्स (माइक्रोमैक्स) लुकाच टीवीएस, महिंद्राएंड महिंद्रा, एरा, ऋचा, वोल्टास ठेका श्रमिको आदि कंपनियों के भी मजदूर लगातार संघर्षरत हैं।

मालिकों के साथ शासन-प्रशासन व श्रम विभाग की मिलीभगत से मज़दूरों का दामन व शोषण लगातार बढ़ रहा है। श्रमिक संयुक्त मोर्चा ने चेतावनी दी है कि प्रशासन ने मजदूरों के हक में फैसला नहीं दिया तो मज़दूर आंदोलन और तेज़ होगा।

वहीं उत्तराखण्ड के पंतनगर की नेस्ले इंडिया लि.में एक अधिकारी द्वारा श्रमिक को बुरी तरह पीटने से मजदूरों ने आंदोलनरत हो कंपनी का घेराव किया।

घटनाक्रम के मुताबिक नेस्ले इंडिया लि. में आज एक प्रोडक्शन एग्जीक्यूटिव रुद्र प्रताप सिंह ने एक श्रमिक उज्वल कुमार को कार्य के दौरान बुरी तरह से पीट दिया। इससे कंपनी में श्रमिकों के बीच भारी आक्रोश फैल गया। कंपनी की दोनों यूनियनें नेस्ले कर्मचारी संगठन तथा नेस्ले मजदूर संघ ने इसके विरोध में एक साथ आ गईं। श्रमिक को पीटे जाने के विरोध में मजदूरों ने सभी लाइने बंद कर दीं और प्रशासनिक भवन का घेराव किया।

यह खबर जब नेस्ले की देश की अन्य इकाइयों तक पहुंची तो सभी जगह मजदूरों ने एकता दिखाते हुए घटना का विरोध किया। अंततः नेस्ले प्रबंधन ने प्रोडक्शन एग्जीक्यूटिव अधिकारी रुद्र प्रताप सिंह का प्रोडक्शन क्षेत्र में प्रवेश निषिद्ध कर दिया और मामले की जांच बिठाई।

गुस्साए मजदूरों ने प्रबंधन को चेतावनी दी है कि यदि उक्त अधिकारी पर ठोस कार्रवाई नहीं हुई तो प्रबंधन को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

Next Story

विविध

Share it