समाज

बच्चों के लिए जरूरी है माँ का दूध क्योंकि...

Prema Negi
1 Aug 2019 6:54 AM GMT
बच्चों के लिए जरूरी है माँ का दूध क्योंकि...
x

विश्व स्तनपान सप्ताह 1-7 अगस्त पर विशेष

माँ का दूध पीने वाले बच्चों में बड़े होने पर डायबिटीज, दिल की बीमारियों, अकौता, दमा एवं अन्य एलर्जी रोग होने की सम्भावना भी कम होती है तथा माँ का दूध पीने वाले शिशुओं की बुद्धि का विकास माँ का दूध न पीने वाले बच्चे से तेज होता है....

डॉ. अनुरूद्ध वर्मा, एमडी

न्म के बाद शिशुओं को जरूरत होती है सम्पूर्ण आहार, प्यार और सुरक्षा की। माँ का दूध शिशु की सारी जरूरतें पूरी करता है, साथ ही शिशु के जीवन की सही शुरुआत भी देता है। स्तनपान प्राकृतिक है। माँ के प्यार की तरह इसकी जगह और कोई नहीं ले सकता। माँ का दूध बच्चे के लिए अमृत के समान है।

स्तनपान कराना माँ, बच्चे व समाज सबके के लिए हितकारी है, इसलिए शिशु को छह माह तक केवल और केवल स्तनपान ही कराना चाहिए तथा इसे दो वर्ष या उससे अधिक समय तक जारी रखना चाहिए।

माँ का दूध विशेष रूप से शिशु के लिए ही बना है। यह शिशु के विकास के लिए पोषण तो देता है, साथ ही यह पचने में भी आसान है और इसमें पाये जाने वाले तत्व शिशु और सभी संक्रामक रोगों से सुरक्षा प्रदान करते है। माँ का दूध विशेष रूप से शिशु को दस्त से बचाता है। शिशु जन्म से पहले माँ के गर्भ में सभी संक्रामक रोगों से सुरक्षित रखता है और जन्म के बाद अगले कुछ दिनों तक आने वाले दूध जिसे (कालेस्ट्रम) कहते है शिशु को अवश्य पिलाना चाहिए, क्योंकि यह शिशु को अनेक संक्रामक रोगों व बीमारियों से बचाता है।

स्तनपान से शिशु को होने वाले लाभ

माँ के दूध में पर्याप्त मात्रा में ताकत होती है व उसमें उत्तम प्रोटीन, लैक्टोज, खनिज लवण, आयरन, पानी व एन्जाइम होते हैं जो शिशु की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त हैं।

माँ के दूध में गाय के दूध से अधिक मात्रा में लवण, विटामिन डी, ए एवं सी है तथा माँ का दूध स्वच्छ होता है व सभी दूषित जीवाणुओं से मुक्त होता है। माँ के दूध में सभी संक्रामक रोगों से लड़ने की शक्ति है तथा यह शिशु को दस्त व सांस की बीमारी से बचाता है।

माँ का दूध हर पल तैयार मिलता है। बोतल की तरह इसे तैयार नहीं करना पड़ता और यह किफायती है। माँ का दूध सिर्फ खाद्य पदार्थ ही नहीं है, बल्कि यह शिशु एवं माँ में प्यार भी बढ़ाता है।

माँ का दूध पीने वाले बच्चों में बड़े होने पर डायबिटीज, दिल की बीमारियों, अकौता, दमा एवं अन्य एलर्जी रोग होने की सम्भावना भी कम होती है तथा माँ का दूध पीने वाले शिशुओं की बुद्धि का विकास माँ का दूध न पीने वाले बच्चे से तेज होता है।

स्तनपान से माँ को होने वाले लाभ

स्तनपान शिशु को पैदा होने के बाद होने वाले रक्तस्राव को कम करता है तथा माँ में खून की कमी होने को कम करता है।

स्तनपान के दौरान गर्भ धारण की सम्भवना कम होती है।

स्तनपान कराने वाली माताओं में मोटापे का खतरा कम होता है।

स्तनपान से स्तन और अण्डाशय के कैंसर की सम्भावना कम होती है।

स्तनपान हड्डियों की कमजोरी से बचाता है।

स्तनपान माँ एवं शिशु के मध्य प्यार के बंधन को मजबूत करता है।

ऊपर का दूध पिलाने से होने वाले नुकसान

कुछ माताएं शिशु को अपने दूध के बजाए गाय का दूध या पाउडर का दूध पिलाना पसंद करती हैं। इससे बच्चे को अनेक नुकसान हो सकते है क्योंकि इसमें सही मात्रा में प्रोटीन वसा, विटामिन व खनिज नहीं होते हैं जो शिशुओं के सम्पूर्ण विकास के लिए आवश्यक है। इससे शिशुओं में संक्रमण की सम्भावना बढ़ जाती है, क्योंकि इसमें संक्रमण विरोधी तत्व नहीं पाये जाते। इसके अतिरिक्त शिशु में शिशु को दस्त और निमोनिया की सम्भावना बढ़ जाती है।

शिशु में एलर्जी की सम्भावना बढ़ जाती है तथा दूध के पचने में ज्यादा कठिनाई होती है।

दीर्घ स्थायी रोग होने का खतरा बढ़ जाता है।

इसके अतिरिकत दूध ना पिलाने वाली माताओं को खून की कमी तथा प्रसव के पश्चात अधिक रक्तस्राव की सम्भावना बढ़ जाती है तथा स्तन एवं अण्डाशय में कैंसर का खतरा भी ज्यादा होता है।

शिशु को छह माह तक केवल माँ का दूध देना चाहिए क्योंकि वह पर्याप्त है। बाल जीवन घुट्टी या कोई अन्य पेय नही देना चाहिए, इससे बच्चे को नुकसान हो सकता है।

छह माह के बाद बच्चे को दो वर्ष तक पूरक आहार के साथ-साथ माँ का दूध अवश्य देना चाहिए इसससे बच्चे का पर्याप्त विकास होगा। बच्चा बुद्धिमान होगा और भविष्य में देश का स्वस्थ नागरिक होगा इसलिए जरूरी है कि बच्चे को माँ का दूध पर्याप्त समय तक दिया जाये।

(लेखक जाने-माने होम्योपैथिक चिकित्सक हैं।)

Next Story

विविध

Share it