राजनीति

बाबुल सुप्रियो के संन्यास की घोषणा से BJP के अंदर मोदी-शाह की तानाशाही के खिलाफ बढ़ते असंतोष का मिलता है संकेत

Janjwar Desk
1 Aug 2021 7:34 AM GMT
बाबुल सुप्रियो के संन्यास की घोषणा से BJP के अंदर मोदी-शाह की तानाशाही के खिलाफ बढ़ते असंतोष का मिलता है संकेत
x

(बाबुल सुप्रियो, जो एक गायक और अभिनेता भी हैं, 2014 के आम चुनावों से पहले भाजपा में शामिल हो गए थे)

कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें अमित शाह किसी कार्यक्रम में दीप जलाने जा रहे थे और बाबुल सुप्रियो कैमरे के सामने आ गए थे तो शाह ने उनको लगभग धकेल कर पीछे कर दिया था....

वरिष्ठ पत्रकार दिनकर कुमार की रिपोर्ट

बीजेपी के अंदर सिर्फ मोदी-शाह की मर्जी ही चलती है और उन दोनों की ऐसी तानाशाही से दुखी होकर बीच-बीच में बगावत के स्वर मुखर होते रहे हैं या स्वाभिमानी किस्म के नेता इस्तीफा देकर अलग राह पकड़ते रहे हैं। वैसे भी हर मोर्चे पर नाकाम रहने वाली मोदी-शाह की जोड़ी जनता के बीच बदनाम हो चुकी है और पश्चिम बंगाल की चुनाव की पराजय ने इस जोड़ी की अपराजेय छवि को धूल में मिला दिया है।

फेरबदल से पहले केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने के हफ्तों बाद भाजपा नेता बाबुल सुप्रियो ने 31 जुलाई को घोषणा की कि वह राजनीति छोड़ रहे हैं। सुप्रियो ने कहा कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले कुछ भाजपा नेताओं के साथ उनके मतभेद थे। उन्होंने कहा कि वरिष्ठ नेताओं के बीच अंतर्कलह से पार्टी को नुकसान हो रहा है। अपने शुरुआती फेसबुक पोस्ट में उन्होंने स्पष्ट किया कि प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक दल में शामिल होने की उनकी कोई योजना नहीं है। बाद में उस हिस्से को उन्होंने संपादित कर दिया।

कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें अमित शाह किसी कार्यक्रम में दीप जलाने जा रहे थे और बाबुल सुप्रियो कैमरे के सामने आ गए थे तो शाह ने उनको लगभग धकेल कर पीछे कर दिया था। मोदी-शाह के कैमरा प्रेम के चलते अक्सर भाजपा नेताओं को इसी तरह जलील होना पड़ता है।

जुलाई की शुरुआत में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री के रूप में दूसरे कार्यकाल में कैबिनेट फेरबदल से कुछ घंटे पहले सुप्रियो ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद में पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री के रूप में इस्तीफा दे दिया।

बाबुल सुप्रियो, जो एक गायक और अभिनेता भी हैं, 2014 के आम चुनावों से पहले भाजपा में शामिल हो गए थे और उन्हें पार्टी ने आसनसोल (पश्चिम बंगाल) के उम्मीदवार के रूप में नामित किया था। उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के डोला सेन को हराकर सीट जीती और प्रधानमंत्री के रूप में मोदी के पहले कार्यकाल में पहले कैबिनेट विस्तार में शामिल किए गए 21 मंत्रियों में सबसे कम उम्र के मंत्री बन गए। 12 जुलाई 2016 तक वह केंद्रीय शहरी विकास, आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन राज्य मंत्री के रूप में कार्य करते रहे। बाद में उन्हें भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम राज्य मंत्री नियुक्त किया गया।

2019 के लोकसभा चुनाव में सुप्रियो ने टीएमसी की मुनमुन सेन को हराकर अपनी आसनसोल सीट बरकरार रखी।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 में बीजेपी ने टॉलीगंज निर्वाचन क्षेत्र से सुप्रियो को अपना उम्मीदवार बनाया, जहां वह टीएमसी के अरूप विश्वास से 50,000 से अधिक मतों से हार गए।

इस साल की शुरुआत में बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले सुप्रियो ने कोलकाता में पार्टी कार्यालय के अंदर एक व्यक्ति को कथित तौर पर थप्पड़ मारकर विवाद खड़ा कर दिया था। घटना का वीडियो, जो वायरल हुआ, में दिखाया गया है कि गायक से भाजपा नेता बने सुप्रियो एक व्यक्ति को कथित तौर पर थप्पड़ मार रहे हैं, जो बार-बार टीवी कैमरों के सामने पोज देने और बाइट देने के बजाय प्रचार शुरू करने के लिए कहता है। सुप्रियो ने बाद में दावा किया कि उन्होंने थप्पड़ नहीं मारा बल्कि ऐसा करने का इशारा किया।

सुप्रियो को 2019 में जादवपुर विश्वविद्यालय के छात्रों के एक वर्ग के बड़े विरोध का भी सामना करना पड़ा, जब वह आरएसएस के छात्र विंग अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए संस्थान गए थे। प्रदर्शनकारी छात्रों ने सुप्रियो को काले झंडे दिखाए और 'वापस जाओ' के नारे लगाए।

केंद्रीय मंत्री ने, हालांकि, परिसर छोड़ने से इनकार कर दिया। छात्रों ने कहा कि परिसर में भाजपा का स्वागत नहीं है जबकि सुप्रियो ने कहा कि एक केंद्रीय मंत्री के रूप में उनका कहीं भी जाने का अधिकार है।

"मुझे बुरी तरह पीटा गया, मेरे बाल खींचे गए और मुझे मुक्का मारा गया और लात मारी गई। जादवपुर विश्वविद्यालय के छात्रों का यह पूरी तरह अप्रत्याशित बर्ताव है। अगर उन्हें मेरे यहां आने से कोई दिक्कत है तो उन्हें इस मामले पर बहस करनी चाहिए थी। उन्हें मेरे साथ मारपीट नहीं करनी चाहिए थी। वे मुझे कहीं जाने से नहीं रोक सकते। मुझे इसकी आशा नहीं थी। यह पश्चिम बंगाल में शिक्षा प्रणाली की स्थिति है, "सुप्रियो ने संवाददाताओं से कहा।

2018 में, तत्कालीन केंद्रीय मंत्री ने पश्चिम बंगाल के आसनसोल में एक कार्यक्रम के दौरान "एक आदमी का पैर तोड़ने" की धमकी देने के बाद विवाद खड़ा कर दिया था। विडंबना यह है कि यह घटना कैमरे में कैद हो गई, जब मंत्री विकलांग व्यक्तियों के लिए एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा जारी एक वीडियो में मंत्री को यह कहते हुए सुना जा सकता है, "मैं तुम्हारा एक पैर तोड़ सकता हूं।" भाजपा नेता, जिन्हें सामाजिक अधिकारिता शिविर में विकलांग लोगों को सहायता और सहायक उपकरण वितरित करने के लिए आमंत्रित किया गया था, कथित तौर पर भीड़ में से किसी के द्वारा परेशान करने के बाद अपना आपा खो दिया था।

Next Story

विविध

Share it