राजनीति

Hamid Ansari Remarks : पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने हिंदू राष्ट्रवाद पर जताई चिंता तो MEA का आया ये बयान

Janjwar Desk
29 Jan 2022 3:03 AM GMT
Hamid Ansari Remarks : पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने हिंदू राष्ट्रवाद पर जताई चिंता तो MEA का आया ये बयान
x
Hamid Ansari Remarks : हिंदू राष्ट्रवाद चिंता का विषय है। देश में लोगों को धार्मिक रेखाओं में बांटा जा रहा है।

Hamid Ansari Remarks : देश के पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ( Former Vice President Hamid Ansari ) एक बार फिर अपने बयानों को लेकर चर्चा में हैं। इस बार पूर्व उपराष्ट्रपति गणतंत्र दिवस पर इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल ( IAMC ) द्वारा एक कार्यक्रम में दिए गए बयान को लेकर चर्चा में हैं। उनके बयान के आधार पर एक संगठन ने भारत को अमेरिका से ब्लैकलिस्ट करने की मांग की है। उसके बाद से ट्रेंड कर रहा है। अब उनके बयान पर विदेश मंत्रालय ( MEA statement ) ने कहा कि कार्यक्रम के आयोजकों का ट्रैक रिकॉर्ड भेदभाव वाला है।

क्या कहा था हामिद अंसारी?

देश के पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ( Hamid Ansari ) ने इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कथित तौर पर कहा था कि हिंदू राष्ट्रवाद ( Hindu Nationalism ) चिंता का विषय है। देश में लोगों को धार्मिक रेखाओं में बांटा जा रहा है। लोगों के बीच राष्ट्रीयता को लेकर विवाद पैदा हो रहा है।

असुरक्षा का माहौल गढ़ा जा रहा है

उन्होंने इस बात का भी जिक्र किया था कि एक खास धर्म के लोगों को भड़काया जा रहा है। असहिष्णुता को हवा दी जा रही है और देश में असुरक्षा का माहौल बनाया जा रहा है।

विदेश मंत्रालय ने पेश की सफाई

Hamid Ansari Remarks : हामिद अंसारी का बयान सुर्खियों में आने के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ( MEA ) की ओर से जारी बयान में कहा है कि भारत एक जीवंत लोकतंत्र है और उसे दूसरों से प्रमाणीकरण की आवश्यकता नहीं है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह दावा कि दूसरों को भारतीय संविधान की रक्षा करने की आवश्यकता है, अभिमानी और निरर्थक है।

बता दें कि बुधवार को इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल (IAMC) ने एक परिचर्चा सत्र का आयोजन किया था। कार्यक्रम में पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी और अमेरिका के चार सांसदों ने भारत में मानवाधिकारों की स्थिति के बारे में चिंता व्यक्त की थी। अब एमईए ने इसी को लेकर जवाब दिया है। इसे लेकर पूछे एक सवाल के जवाब में बागची ने कहा कि कार्यक्रम के आयोजनकर्ताओं के इतिहास और इसके प्रतिभागियों के पूर्वाग्रहों और राजनीतिक सरोकारों से हम अच्छी तरह परिचित हैं।

Next Story

विविध