राजनीति

UP Assembly Election 2022 : वहीं से चुनाव लड़ूंगा जहां से यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ लड़ेंगे- चंद्रशेखर आजाद

Janjwar Desk
8 Nov 2021 1:45 PM GMT
UP Assembly Election 2022 : वहीं से चुनाव लड़ूंगा जहां से यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ लड़ेंगे- चंद्रशेखर आजाद
x

(चंद्रशेखर बोले योगी को सदन में नहीं घुसने दूंगा)

UP Assembly Election 2022 : चंद्रशेखऱ ने कहा कि पिछले साढ़े चार साल में उन्होंने जिस तरह से लोगों पर अत्याचार किए हैं, उसका बदला लेने के लिए उनके खिलाफ चुनाव लड़ूंगा।

UP Assembly Election 2022 : उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव से पहले भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) ने अपनी स्थिति साफ कर दी है। चंद्रशेखर ने ऐलान किया है कि वह वहीं से चुनाव लड़ेंगे जहां मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ (Yogi Adityanath) चुनावी मैदान में उतरेंगे। चंद्रशेखर आजाद की पहली बार चुनाव लड़ रही आजाद समाज पार्टी पहले ही यूपी की सभी 403 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुकी है।

समाचार चैनल एनडीटीवी से बातचीत के दौरान चंद्रशेखर ने कहा कि जहां से भी योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) चुनाव लड़ेंगे, वहीं से वह भी मैदान में उतरेंगे। चंद्रशेखऱ ने कहा कि चुनाव लड़ने का फैसला पार्टी की कोर कमिटी करती है। अगर आप मेरी इच्छा पूछेंगे तो मैं वहीं से चुनाव लड़ूंगा जहां से यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ लड़ेंगे। पिछले साढ़े चार साल में उन्होंने जिस तरह से लोगों पर अत्याचार किए हैं, उसका बदला लेने के लिए उनके खिलाफ चुनाव लड़ूंगा और उन्हें विधानसभा में नहीं घुसने दूंगा। योगी कोई भी सीट तय कर लें, जहां से वह लड़ेंगे वहीं से लड़ूंगा।

चंद्रशेखर ने कहा कि योगी को हराने के लिए किसी मजबूत प्रत्याशी को ही मैदान में उतरना चाहिए। हम जब बात करते हैं कि भाजपा को रोकना है तो मतलब है कि योगी को रोकना है जरूरी है। योगी भाजपा के सबसे मजबूत प्रत्याशी हैं। ऐसे में उनके खिलाफ मजबूत प्रत्याशी ही होना चाहिए। अखिलेश या बहन मायावती को लड़ना चाहिए। अगर दोनों लोग नहीं लड़ते तो मुझे छोड़ दें लड़ने के लिए और मुझे सपोर्ट करें।

चंद्रशेखर ने आगे कहा कि अगर सपा-बसपा भी कोई प्रत्याशी देती है तो योगी को ही मजबूती देगी। मेरी मांग भी रहेगी कि विपक्ष के लोग भी इस पर सोचें। जब मैं जनता के बीच जाऊंगा तो लोग जानते हैं कि यह बिकाऊ नहीं टिकाऊ व्यक्ति है, भागेगा नहीं। जब मैं योगी के खिलाफ उतरूंगा तो उन्हें सदन में नहीं जाने दूंगा।

गठबंधन के सवाल पर उन्होंने कहा कि मेरी प्राथमिकता बसपा रहेगी। बसपा की ओर से मेरा लगातार अपमान किया गया, इसके बाद भी मेरी प्राथमिकता बसपा से गठबंधन की है। हम चाहते हैं कि आजाद समाज पार्टी और बसपा का गठबंधन हो जाए। मायावती उन्हें पसंद नहीं करतीं, इस पर चंद्रशेखर ने कहा कि दलित वोटर किसी का गुलाम नहीं है। आजादी के समय कांग्रेस के साथ रहा। राम विलास पासवान, जगजीवन राम, मान्यवर कांशीराम और बहन जी के साथ रहा। दलित समजा हमेशा लड़ने वाले नेता को पसंद करता है। मेरे लिए बहुजन समाज सर्वोपरी है। इसलिए मैंने पहल की है और चाहता हूं कि भाजपा को रोकने के लिए बसपा और आजाद समाज पार्टी को साथ आना चाहिए।

चंद्रशेखर ने आगे कहा कि चुनाव के बाद बहुजन समाज की लड़ाई कोई नहीं लड़ने के लिए आएगा। तब आजाद समाज पार्टी और भीम आर्मी ही लड़ने के लिए आएगी। जब ददलितों के घर जलाए जाएंगे, उन पर अत्याचार होगा तो हमारी पार्टी ही सड़क पर लड़ने आएगी। प्रियंका गांधी या अखिलेश से गठबंधन के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह फैसला पार्टी की करेगी। गठबंधन के सभी दरवाजे खुले हैं।

Next Story

विविध

Share it