Up Election 2022

UP Election 2022: अखिलेश यादव और जयंत सिंह के खिलाफ दादरी थाने में FIR दर्ज, यह है गंभीर आरोप

Janjwar Desk
4 Feb 2022 3:15 PM GMT
UP Election 2022: अखिलेश यादव और जयंत सिंह के खिलाफ दादरी थाने में FIR दर्ज, यह है गंभीर आरोप
x

UP Election 2022: अखिलेश यादव और जयंत सिंह के खिलाफ दादरी थाने में FIR दर्ज, यह है गंभीर आरोप

UP Election 2022: सपा प्रमुख अखिलेश यादव और रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी के खिलाफ ग्रेटर नोएडा के दादरी थाने में एफआईआर दर्ज की गई है. दोनों पर आचार संहिता का उल्लंघन करने का आरोप है.

UP Election 2022: सपा प्रमुख अखिलेश यादव और रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी के खिलाफ ग्रेटर नोएडा के दादरी थाने में एफआईआर दर्ज की गई है. दोनों पर आचार संहिता का उल्लंघन करने का आरोप है. दरअसल गुरुवार को अखिलेश यादव और जयंत चौधरी ने संयुक्त रूप से यहां पर रथ यात्रा निकाली थी. इस दौरान कार्यकर्ताओं की भारी भीड़ थी.

बताया जा रहा है कि बड़े पैमाने पर इस दौरान पटाखे फोड़े गए थे. जबकि चुनाव आयोग ने जुलूस रोड शो और भीड़ जुटाने पर पाबंदी लगा रखी है. इतना ही नहीं चुनाव आयोग ने कोरोना गाइडलाइन का पालन करने का भी आदेश दिया है लेकिन दोनों ही निर्देशों का पालन नहीं किया गया. ऐसे में दोनों ही नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है.

इसके पहले उन्होंने बागपत में विजय रथ निकाला था. इस दौरान उन्होंने जनसंपर्क किया था. तब भी कई जगह पर जनसंपर्क के दौरान भीड़ उमड़ी थी. तब प्रशासन ने उन तीन प्रत्याशियों समेत 32 सौ लोगों पर मुकदमा दर्ज किया था. जिनके समर्थन में अखिलेश यादव और जयंत चौधरी जनसंपर्क करने गए थे.

ऐसा नहीं है कि आचार संहिता के उल्लंघन में सिर्फ अखिलेश यादव और जयंत चौधरी के खिलाफ ही कार्रवाई हुई है बल्कि हर दल के नेता आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं और चुनाव आयोग उन पर कार्रवाई कर रहा है. इसके पहले बीजेपी के भगवतंनगर के प्रत्याशी आशुतोष शुक्ला पर भी आचार संहिता के उल्लंघन पर चुनाव आयोग ने कार्रवाई की थी. उन पर भी भीड़ जमा करने का आरोप था .

धारा 144 का उल्लंघन

जानकारी के मुताबिक, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और रालोद प्रमुख चौधरी जयंत सिंह का काफिला गुरुवार रात करीब 10 बजे टीएनटी पहुंचा. इस दौरान नाइट कर्फ्यू लागू था. कार्यकर्ताओं की उमड़ी भीड़ से कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन हुआ. धारा 144 के उल्लंघन की भी बात कही जा रही है.

डोर-टू-डोर प्रचार की ली गई थी इजाजत

बताया जा रहा है कि जिला प्रशासन ने अखिलेश यादव और जयंत सिंह को रात आठ बजे तक का ही परमिशन दिया था. जिला प्रशासन से डोर टू डोर प्रचार की इजाजत ली गई थी, लेकिन कार्यकर्ताओं की उमड़ी भीड़ से कोविड प्रोटोकॉल और चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों का उल्लंघन हुआ.

300-400 अज्ञातों पर भी FIR दर्ज

दादरी थाने में दर्ज एफआईआर में अखिलेश-जयंत के साथ ही सपा उम्मीदवार राजकुमार राय को भी नामजद बनाया गया है. वहीं 300-400 अज्ञात लोगों का नाम भी FIR में शामिल है.बताया जा रहा है कि सपा को जिला प्रशासन ने दादरी में डोर-टू-डोर कैंपेन की इजाजत दी थी, इसके बाद भी नेताओं ने रथ यात्रा निकाली. अखिलेश-जंत ने इस दौरान कार्यकर्ताओं का भारी जमावड़ा भी लगाया. इसी मामले में आज सभी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

Next Story

विविध