Up Election 2022

Up Election 2022 : 'जब सत्ता परिवर्तन होगा तभी बच पाएगा संविधान', मायावती का भाजपा-सपा पर हमला

Anonymous
8 Dec 2021 7:44 AM GMT
UP Election 2022 : आजमगढ़ में विपक्षी दलों पर बरसीं मायावती, BJP-SP और Congress पर लगाए कई आरोप
x

बीएसपी सुप्रीमो मायावती। 

Up Election 2022 : मायावती ने कहा कि जो सत्ता में बैठे हैं वे बाबासाहेब के विरोध लोग हैं। हम सड़कों पर उतरकर क्या करेंगे? हमें सत्ता परिवर्तन करना होगा....

Up Election 2022 : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के कुछ ही महीने शेष हैं ऐसे में सभी सियासी नेताओं ने एक दूसरे पर हमले तेज कर दिए हैं। इसी कड़ी में बीएसपी (BSP) सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने राजधानी लखनऊ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि सड़कों पर विरोध करने करने से संविधान की रक्षा नहीं होगी। मायावती ने कहा कि जब सत्ता परिवर्तन हो जाएगा तब संविधान बच जाएगा।

मायावती ने मौजूदा भाजपा (BJP) सरकार और पूर्व की सपा (Samajwadi Party) सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में गुंडागर्दी और माफियागर्दी चरम पर थी जब सूबे में समाजवादी पार्टी सत्ता में थी। जो सत्ता में बैठे हैं वे बाबासाहेब के विरोध लोग हैं। हम सड़कों पर उतरकर क्या करेंगे? हमें सत्ता परिवर्तन करना होगा। केंद्र और राज्य में जो सरकारें हैं वो संविधान (Constitution) के हिसाब से नहीं चल रही हैं। उसका एक ही रास्ता है कि उनको सत्ता से बाहर करके बसपा को सत्ता में लाना, तभी संविधान के मुताबिक सही मायनों में काम किया जा सकता है।

बीएसपी का यह बयान ऐसे समय में आया है जब हाल ही में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी द्वारा पूर्व अखिलेश सरकार के खिलाफ सरकार के खिलाफ इसी तरह के आरोप लगाए थे। मायावती ने चंदौली में सपा कार्यकर्ताओं द्वारा पुलिस से बदसलूकी की घटना को लेकर सपा और अखिलेश यादव पर निशाना साधा और कहा कि जिस तरीके से उनके विधायक और कार्यकर्ता पुलिसकर्मियों से दुर्व्यवहार कर रहे थे चंदौली में, वह किसी से छिपा नहीं है। अभी तो उनको विजय मिली भी नहीं है तब ये हाल है।

मायावती ने आगे कहा कि क्या जनता ये सब देख नहीं रही है? वो गठबंधन कर लें या कुछ भी कर लें, जनता जानती है कि सपा के शासन में राज्य में गुंडागर्दी और माफियागर्दी चरम पर थी। जबकि बसपा के शासन में कानून का राज चलता था।

उल्लेखनीय है कि साल 2019 के लोकसभा चुनावों के दौरान बसपा ने सपा के गठबंधन कर लिया था। लेकिन भाजपा के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। इसी तरह बसपा 2017 के विस चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन में थी लेकिन तब भी हार का सामना करना पड़ा था।

Next Story

विविध