विमर्श

जापान में तेजी से घटती जनसंख्या चिंताजनक : शिशुओं के पैदा होने की दर मात्र 1.3, जनसंख्या को स्थिर रखने के लिए 2.1 का अनुपात जरूरी

Janjwar Desk
4 Jan 2023 6:55 AM GMT
जापान में तेजी से घटती जनसंख्या चिंताजनक : शिशुओं के पैदा होने की दर मात्र 1.3, जनसंख्या को स्थिर रखने के लिए 2.1 का अनुपात जरूरी
x
जापान में सभी आर्थिक गतिविधियाँ ओसाका और टोक्यो जैसे बड़े शहरों में केन्द्रित हैं, जाहिर है पूरी देश की युवा आबादी को इन्हीं शहरों में रोजगार के अवसर मिलते हैं। इस प्रक्रिया में जापान के दूसरे क्षेत्रों में युवा आबादी तेजी से कम होती जा रही है और बुजुर्गों की संख्या बढ़ती जा रही है...

महेंद्र पाण्डेय की टिप्पणी

Population is declining steadily in Japan and government is trying to reverse the trend. जापान में लगतार जनसंख्या कम हो रही है, वर्तमान जनसंख्या 12.5 करोड़ है जिसके वर्ष 2065 तक 8.8 करोड़ ही रह जाने का अनुमान है। अगले 40 वर्षों में जनसख्या में कमी 30 प्रतिशत तक हो जायेगी। दूसरी तरफ अकेले राजधानी टोक्यो की आबादी 3.5 करोड़ है, और यह आबादी वर्ष 2021 तक लगातार बढ़ती जा रही थी।

वर्ष 2022 ऐसा पहला वर्ष रहा जब टोक्यो की आबादी में भी गिरावट आई। टोक्यो दुनिया के सबसे घने जनसंख्या घनत्व वाले शहरों में से एक है। जापान में वर्ष 2021 में कुल 811604 बच्चे पैदा हुए, यह संख्या वर्ष 1899 के बाद से सबसे कम है। जापान में बच्चों के पैदा होने के आंकड़े वर्ष 1899 से लगातार रखे जा रहे हैं। दूसरी तरफ 100 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों की संख्या वर्ष 1963 में महज 153 थी, पर वर्ष 2021 में यह संख्या 90500 तक पहुँच गयी। जापान में शिशुओं के पैदा होने की दर 1.3 है, जबकि जनसंख्या को स्थिर रखने के लिए इस दर का 2.1 रहना आवश्यक है।

जापान में सभी आर्थिक गतिविधियाँ ओसाका और टोक्यो जैसे बड़े शहरों में केन्द्रित हैं, जाहिर है पूरी देश की युवा आबादी को इन्हीं शहरों में रोजगार के अवसर मिलते हैं। इस प्रक्रिया में जापान के दूसरे क्षेत्रों में युवा आबादी तेजी से कम होती जा रही है और बुजुर्गों की संख्या बढ़ती जा रही है। तीन वर्ष पहले जापान सरकार ने टोक्यो के जनसंख्या घनत्व को कम करने और दूसरे क्षेत्रों में आबादी बढाने और रोजगार के अवसर बढाने के उद्देश्य से एक योजना शुरू की थी, जिसके तहत बृहत्तर टोक्यो क्षेत्र को छोड़कर दूसरे क्षेत्रों में बसने वाले परिवारों को परिवार में प्रति बच्चे के हिसाब से 3 लाख येन की सहायता दिए जाने की योजना थी।

इसके तहत वर्ष 2019 में 19 परिवारों ने, वर्ष 2020 में 290 परिवारों ने और वर्ष 2021 में 1184 परिवारों ने योजना का लाभ लिया और टोक्यो से दूर चले गए। इस योजना के तहत केवल उन्हीं लोगों को यह सहायता राशि मिलेगी जो टोक्यो से बाहर लगातार 5 वर्ष तक रहेंगें। यदि कोई परिवार 5 वर्ष से कम समय में वापस टोक्यो आएगा तो उसे पूरी राशि वापस करनी पड़ेगी।

सहायता राशि प्राप्त करने के लिए नए जगह पर परिवार के किसी सदस्य को नौकरी करनी पड़ेगी या नया व्यवसाय शुरू करना पड़ेगा। इस योजना के तहत टोक्यो में नौकरी भी कर सकते हैं, पर काम ऑनलाइन या वर्क फ्रॉम होम के तरीके से करना पडेगा। हाल में ही जापान सरकार ने इस योजना का पुनरीक्षण किया ज्यादा और लोगों को आकर्षित करने के उद्देश्य से अप्रैल 2023 से सहायता राशि को बढ़ाकर 10 लाख येन यानि 7500 डॉलर करने का फैसला लिया है।

जापान के लगभग 1300 नगर निगम इस योजना में भागीदारी निभा रहे हैं और अपने क्षेत्र में बसने वाले लोगों को तमाम सहायता प्रदान कर रहे हैं। अनुमान है कि टोक्यो से बाहर बसने वाले परिवारों में यदि एक बच्चा हो तो परिवार को कुल सहायता राशि 30 लाख येन और दो बच्चों की सूरत में 50 लाख येन तक मिल सकती है। इस सहायता राशि में से आधी राशि केंद्र सरकार और शेष आधी स्थानीय निकाय देंगे।

Next Story

विविध