दुनिया

Afghanistan : फेसबुक ने तालिबान को किया बैन, गृह मंत्रालय ने भारतीय नागरिकों के लिए वीज़ा नीति में किया बदलाव

Janjwar Desk
17 Aug 2021 12:01 PM GMT
Afghanistan : फेसबुक ने तालिबान को किया बैन, गृह मंत्रालय ने भारतीय नागरिकों के लिए वीज़ा नीति में किया बदलाव
x

काबुल एयरपोर्ट से जारी तस्वीर जिसमें विमान के अंदर 640 यात्री फर्श पर बैठे (source - social media)

जबीउल्लाह को दुनिया पहली बार देखेगी, क्योंकि आज तक उसकी कोई तस्वीर सामने नहीं आई है। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान वह बताएगा कि तालिबान का शासन कैसा होगा, यानी वह अफगानिस्तान में तालिबानी संस्कृति लागू करने का रोडमैप बताएगा...

जनज्वार। अफगानिस्तान (Afghanistan) में काबुल एयरपोर्ट और पंजशीर को छोड़ पूरा देश तालिबान (Taliban) के कब्जे में है। इस दरम्यान तालिबान की संस्कृति परिषद का प्रमुख जबीउल्लाह मुजाहिद आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगा। जबीउल्लाह को दुनिया पहली बार देखेगी, क्योंकि आज तक उसकी कोई तस्वीर सामने नहीं आई है। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान वह बताएगा कि तालिबान का शासन कैसा होगा, यानी वह अफगानिस्तान में तालिबानी संस्कृति लागू करने का रोडमैप बताएगा।

आशंका है कि जबीउल्लाह (Zabiullah) महिलाओं पर कई तरह की पाबंदियां लगाने का ऐलान कर सकता है। हालांकि तालिबान ने महिलाओं से सरकार में शामिल होने की अपील करते हुए कहा है कि वे महिलाओं को परेशान नहीं करना चाहते।

फेसबुक ने तालिबान को किया बैन

फेसबुक (Facebook) ने तालिबान को बैन कर दिया है। साथ ही तालिबान की तारीफ या समर्थन करने वाले कंटेंट पर भी रोक लगा दी है। तालिबान से जुड़ा कंटेंट हटाने के लिए फेसबुक ने स्थानीय भाषाओं के एक्सपर्ट रखे हैं। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का कहना है कि अमेरिकी कानून के मुताबिक तालिबान एक आतंकी संगठन है। तालिबान ने काबुल में सभी सरकारी कर्मचारियों को अभयदान देने का ऐलान किया है। तालिबान ने कहा है कि सभी काम पर लौट आएं।

150 भारतीय काबुल से एयरलिफ्ट किये गए

अफगानिस्तान में तालिबानी अटैक के बाद मौजूदा हालात को देखते हुए भारत सरकार (Indian Govt.) ने काबुल में स्थित राजदूत रुदेंद्र टंडन और उनके भारतीय स्टाफ को वापस बुला लिया है। वायुसेना का ग्लोबमास्टर C-17 एयरक्राफ्ट काबुल से 150 लोगों को लेकर करीब 11.15 बजे गुजरात के जामनगर पहुंचा। भारतीय राजदूत भी इसी विमान से आए हैं। काबुल से आए इन लोगों के लिए जामनगर में लंच रखा गया था। इसके बाद इन्हें ग्लोबमास्टर C-17 से ही गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस रवाना कर दिया गया।

न्यूज एजेंसी ANI के सूत्रों के मुताबिक अफगानिस्तान में फंसे बाकी भारतीय भी सुरक्षित इलाके में हैं और एक-दो दिन में उन्हें भी एयरलिफ्ट कर लिया जाएगा। विदेश मंत्रालय भी सोमवार को कह चुका है कि अफगानिस्तान की घटना पर करीब से नजर बनाए हुए है और अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए हर कदम उठाए जाएंगे।

विदेश मंत्रालय का कहना है, 'हम जानते हैं कि अफगानिस्तान में कुछ भारतीय नागरिक हैं जो वापस लौटना चाहते हैं और हम उनके संपर्क में हैं। हम हर भारतीय से अपील करते हैं कि वे फौरन भारत लौंटे। हम अफगान सिख, हिंदू समुदायों के प्रतिनिधियों से भी लगातार संपर्क में हैं, जो लोग अफगानिस्तान छोड़ना चाहते हैं उन्हें भारत लाने की पूरी सुविधा दी जाएगी।'

गृह मंत्रालय ने शुरू किया इमरजेंसी वीजा

इस बीच गृह मंत्रालय ने अफगानिस्तान से भारत आने वाले लोगों के लिए वीजा नियमों में बदलाव किया है। मौजूदा हालात को देखते हुए इलेक्ट्रोनिक वीजा की एक नई कैटेग्री e-Emergency X-Misc Visa शुरू की गई है। अफगानिस्तान से भारत आने वाले लोगों को जल्द से जल्द वीजा मिल सके, इसके लिए यह सुविधा शुरू की गई है।

विदेश मंत्रालय ने अफगानिस्तान में फंसे भारतीयों की मदद के लिए हेल्पलाइन नंबर +919717785379 और ईमेल MEAHelpdeskIndia@gmail.com भी जारी किए हैं। इसके अलावा भारतीयों के एयरलिफ्ट की कोशिशों के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल (Ajit Doval) ने अपने अमेरिकी समकक्ष जेक सुलिवान से बात की है।

तालिबान ने दावा किया है कि आज कहीं से भी मौत या हिंसा की खबर नहीं आई है। यानी, अफगानिस्तान में शांति लौट रही है। तालिबान की तरफ से ऐसी तस्वीरें भी जारी की जा रही हैं, जिनमें ये दिखाने की कोशिश हो रही है कि लोग खुश हैं और उनका स्वागत कर रहे हैं।

Next Story

विविध