दुनिया

Sanjay Bhandari Extradition: भगोड़ा आर्म्स डीलर संजय भंडारी को जल्द लाया जा सकेगा भारत, ऋषि सुनक के पीएम बनते ही दी मंजूरी

Janjwar Desk
7 Nov 2022 5:13 PM GMT
Sanjay Bhandari Extradition: भगोड़ा आर्म्स डीलर संजय भंडारी को जल्द लाया जा सकेगा भारत, ऋषि सुनक के पीएम बनते ही दी मंजूरी
x
Sanjay Bhandari Extradition: हथियार कारोबारी संजय भंडारी (Arms Dealer Sanjay Bhandari) को भारत प्रत्यर्पण के मामले में बड़ी खबर आई है। ब्रिटिश अदालत ने सोमवार को संजय भंडारी के प्रत्यर्पण को मंजूरी दे दी है।

Sanjay Bhandari Extradition: हथियार कारोबारी संजय भंडारी (Arms Dealer Sanjay Bhandari) को भारत प्रत्यर्पण के मामले में बड़ी खबर आई है। ब्रिटिश अदालत ने सोमवार को संजय भंडारी के प्रत्यर्पण को मंजूरी दे दी है। यह फैसला ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने सुनाया है। अब संजय भंडारी (Sanjay Bhandari) को भारत लाया वापस जाएगा। गौरतलब है कि भारत सरकार ने भंडारी के प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन से अपील की थी।

16 जून 2020 को तत्कालीन ब्रिटिश गृह मंत्री प्रीति पटेल (British Home Minister Priti Patel) ने भंडारी के प्रत्यर्पण अनुरोध को स्वीकार कर लिया था। इसके बाद संजय भंडारी 15 जुलाई 2020 को गिरफ्तार कर लिया गया था। अदालत ने उसे सात शर्तों पर जमानत दी थी, जिसमें 1.2 मिलियन पाउंड की सिक्योरिटी के साथ अपना पासपोर्ट जमा करना, मध्य लंदन स्थित घर में नजरबंद रहने और नजदीकी पुलिस स्टेशन में रोजाना हाजिरी लगाने समेत सात शर्तों के साथ जमानत दी थी।

दरअसल, उन पर कुछ डिफेंस डील में रिश्वत लेने का आरोप है। यूपीए सरकार (UPA Government) के दौरान किए गए हथियारों के सौदे के संबंध में उन्हें विदेशी कंपनियों से 400 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान प्राप्त हुआ है। ऐसे में दुबई में कई फर्मों में किए गए लेन-देन के रिकॉर्ड से इसका पता चलता है।

इससे पहले, भारत सरकार काले धन (अघोषित विदेशी आय और संपत्ति) और कर अधिनियम, 2015 के तहत मनी लॉन्ड्रिंग और अपनी विदेशी संपत्ति घोषित करने में विफल रहने के आधार पर हथियार डीलर संजय भंडारी (Sanjay Bhandari) के प्रत्यर्पण की मांग कर रही थी। जिसमें फैसला 4 अक्टूबर को सुना गया था हालांकि अब फिर फैसला सुनाया गया है।

अदालत ने भारत सरकार के इस आश्वासन के आधार पर यह आदेश सुनाया कि भंडारी को सुनवाई के दौरान नयी दिल्ली की तिहाड़ जेल में एक अलग कमरे में संबंधित स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ रखा जाएगा. भंडारी के संबंध में भारत सरकार के प्रत्यर्पण अनुरोध को ब्रिटेन की तत्कालीन गृह मंत्री प्रीति पटेल ने जून 2020 में प्रमाणित किया था और उसी साल जुलाई महीने में भंडारी को प्रत्यर्पण वारंट पर गिरफ्तार कर लिया गया था.

Next Story

विविध