दुनिया

Explosive Audio Leak : चीन के सैन्य अधिकारियों का ऑडियो लीक, रूस की तरह ही ताइवान पर हमले की कर रहा तैयारी?

Janjwar Desk
23 May 2022 1:41 PM GMT
Explosive Audio Leak : चीन के सैन्य अधिकारियों का ऑडियो लीक, रूस की तरह ही ताइवान पर हमले की कर रहा तैयारी?
x

Explosive Audio Leak : चीन के सैन्य अधिकारियों का ऑडियो लीक, रूस की तरह ही ताइवान पर हमले की कर रहा तैयारी?

Explosive Audio Leak : यूट्यूब चैनल का दावा है कि जिस सीनियर अधिकारी ने यह ऑडियो क्लिप लीक की है वह ताइवना पर शी जिनपिंग के प्लान को दुनिया के सामने रखना चाहता है, इस ऑडियो क्लिप में कथित रूप से सीपीसी और पीएलके के बीच ताइवान में युद्ध का माहौल बनाने को लेकर बातचीत हो रही थी....

Explosive Audio Leak : रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध अब भी थमा नहीं है। इस बीच चीन के सैन्य अधिकारियों का एक ऑडियो लीक (Explosive Audio Leak) हो गया है। इस ऑडियो के मुताबिक चीन रूस की तरह ही ताइवान पर हमला करने की तैयारी कर रहा है। यह ऑडियो क्लिप चीन के ही मानवाधिकार कार्यकर्ता (Human Right Activist) जेनिफर हेंग ने ट्वीट किया है। 57 मिनट के इस ऑडियो क्लिप को Lude मीडिया नाम के यूट्यूब चैनल पर पोस्ट किय ागया था।

इस बीच जापान में हो रहे क्वाड सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने चेतावनी दी है कि अगर ताइवान पर चीन हमला करेगा तो अमेरिका इसका जवाब देगा। उन्होंने कहा कि ताइवान पर हमले के बारे में सोचकर भी चीन खतरे से खेल रहा है। इसका खामियाजा उसे भुगतना होगा। उन्होंने कहा कि हम वन चाइना पॉलिसी से सहमत थे लेकिन अगर जबरदस्ती कहीं भी कब्जा करने की कोशिश होगी तो उसका जवाब भी दिया जाएगा।

यूट्यूब चैनल का दावा है कि जिस सीनियर अधिकारी ने यह ऑडियो क्लिप लीक (Explosive Audio Leak) की है वह ताइवना पर शी जिनपिंग के प्लान को दुनिया के सामने रखना चाहता है। इस ऑडियो क्लिप में कथित रूप से सीपीसी और पीएलके के बीच ताइवान में युद्ध का माहौल बनाने को लेकर बातचीत हो रही थी।

इस ऑडियो क्लिप की अभी तक पूरी पुष्टि नहीं पाई है। हालांकि बातचीत से लगता है कि यह चीन में ही रिकॉर्ड हुई है। मानवाधिकार कार्यकर्ता का दावा है कि चीन के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब इतनी अहम मीटिंग की ऑडियो क्लिप लीक हो गई। दावा यह भी किया गया है कि इसके लिए एक लेफ्टिनेंट जनरल और तीन मेजर जनरल को मौत की सजा दी जा चुकी है। इस क्लिप के मुताबिक मीटिंग में चीनी सेना के टॉप अधिकारी मौजूद थे।

इस ऑडियो के मुताबिक गुआंगडोंग प्रांत को पूर्वी और दक्षिण वॉर जोन ने जो काम दिए हैं उनमें बीस कैटगरी शामिल हैं। इसके मुताबिक 1.40 लाख सैनिक, 953 शिप, 1653 यूनिट, 20 एयरपोर्ट और डॉक, 6 रिपेयर ऐंड शिपबिल्डिंग यार्ड, 14 इमरजेंसी ट्रांसफर सेंटर, अस्पताल, ब्लड स्टेशन, ऑइल डिपो, गैस स्टेशन आदि का जिक्र किया गया है। अगर ऑडियो क्लिप सही है तो इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि चीन ताइवान पर कितने बड़े हमले की तैयारी कर रहा है।

Next Story