दुनिया

राष्ट्रपति ली जे म्युंग ने क्या कह दिया कि गंजापन बन गया सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा

Janjwar Desk
7 Jan 2022 6:43 AM GMT
राष्ट्रपति ली जे म्युंग ने क्या कह दिया कि गंजापन बन गया सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा
x
South Korea Election 2022 : एक चुनावी जनसभा में राष्ट्रपति ली जे म्युंग ने कहा कि अगर उनकी पार्टी दोबारा सत्ता में आई तो गंजापन का इलाज कराने के लिए विशेष रणनीति पर अमल करेंगे। इस घोषणा के बाद से उनकी जनसभाओं में भारी संख्या में लोग जमा होने लगे हैं और यह सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा बन गया है।

सियोल। भारत दक्षिण कोरिया ( South Korea Election ) में राष्ट्रपति पद का चुनाव को लेकर सियासी गहमागहमी चरम पर है। वहां पर उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम, अमेरिका के साथ संबंध, घोटाले और आर्थिक मंदी जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे हैं, लेकिन आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि इस बार वहां पर सबसे बड़ा चुनाव मुद्दा 'गंजापन' ( Baldness ) है। इसे चुनावी मुद्दा बनाने का श्रेय वहां के सत्ताधारी पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मदीवार और निवर्तमान राष्ट्रपति जे म्युंग ( Lee Jae Myung ) को जाता है। उन्होंने कहा कि अगर उनकी पार्टी दोबारा सत्ता में आई तो गंजापन ( Baldness ) का इलाज कराने के लिए विशेष रणनीति ( Special Policy ) पर अमल करेंगे। उनकी इस घोषणा को वहां के लोगों ने हाथोंहाथ लिया है और उनकी जनसभाओं में भारी संख्या में लोग जमा होने लगे हैं।

ऐसा नहीं है कि दक्षिण कोरिया में सत्ताधारी डेमोक्रेटिक पार्टी ( Democratic party ) की ओर से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार ली जे-म्युंग गंजे ( Lee Jae Myung ) हैं, लेकिन वहां के लोगों का बड़ी संख्या में गंजा ( Bald ) होना उनके लिए गंभीर चिंता का विषय है। खास बात यह है कि वहां लोगों के​ लिए बाल झड़ना उनके लिए गंभीर चिंता का विषय है। ऐसा इसलिए कि दक्षिण कोरिया में बड़ी संख्या में लोग गंजेपन के शिकार हैं। उन्होंने गंजेपन ( Baldness ) को नियंत्रित करने के लिए सरकारी मदद पर जोर देने की घोषणा की है। यही वजह है कि वो सुर्खियों में आ गए हैं और लोग उन्हें काफी पसंद करने लगे हैं।

हेल्थ बीमा कार्यक्रम में कवर होगा 'गंजापन'

दरअसल, जे म्युंग ने बुधवार को गंजेपन को दूर करने वाले प्रस्ताव का खुलासा किया था। उसके बाद से दक्षिण कोरिया ( South Korea ) में मार्च में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले बालों का झड़ना रोकने का उपचार एक महत्वपूर्ण मुद्दे के रूप में उभरा है। पिछले चुनावों के दौरान उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम, अमेरिका के साथ संबंध, घोटाले और आर्थिक समस्याओं जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे थे। ये आज भी वहां पर अहम मुद्दे हैं, लेकिन गंजेपन को दूर करना अब वहां पर सबसे बड़ा मुद्दा हो गया है। जे म्युंग ने बुधवार को कहा था कि उन्हें लगता है कि बाल फिर से उगाने का इलाज राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम द्वारा कवर किया जाना चाहिए। जे म्युंग ने अपने फेसबुक वॉल पर लिखा - 'बाल फिर से उगाने के उपचार के लिए मैं एक बढ़िया नीति बनाऊंगा।श्

लोकलुभावन घोषणा के बाद विरोधियों निशाने पर आए म्युंग

गंजेपन के शिकार लोगों ने जे म्युंग के प्रस्ताव का जोरदार समर्थन किया है। दूसरी तरफ इस बात की भी कड़ी आलोचना हो रही है कि सिर्फ वोट हासिल करने के लिए सत्तारूढ़ पार्टी के उम्मीदवार ने यह लोकलुभावन प्रस्ताव दिया है। सोशल मीडिया पर इस बारे में संदेशों की बाढ़ आ गई है। कुछ संदेशों में कहा गया है कि जे म्युंग, मैं आपसे प्यार करता हूं। आप माननीय हैं राष्ट्रपति महोदय हैं। आपने कोरिया में पहली बार गंजे लोगों में नई उमंग का संचार किया है।

20% से ज्यादा लोग हैं गंजेपन के शिकार

खबरों के मुताबिक दक्षिण कोरिया में प्रत्येक पांच लोगों में से एक व्यक्ति बाल झड़ने की समस्या से पीड़ित है। बाल फिर से उगाने संबंधी उपचार को वर्तमान में सरकार द्वारा संचालित बीमा कार्यक्रम में शामिल नहीं किया गया है. कुछ बीमारियों के कारण बाल झड़ने पर ही उपचार के लिए मदद दी जाती है।

बता दें कि दक्षिण कोरिया ( South Korea ) की कुल आबादी 5.18 करोड़ है। इनमें से एक करोड़ से ज्यादा लोग गंजेपन के शिकार हैं। इस बात को वहां के राष्ट्रपति जे-म्युंग ने गंभीर चिंता का विषय बना दिया है। उन्होंने देश के लोगों से चुनावी कैंपेन में कहा है कि अगर वो दोबारा सत्ता में आए तो गंजे लोगों के सिर पर बाल उगाने के लिए खास रणनीति पर काम करेंगे। बाल फिर से उगाने के इलाज को राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम शमिल करेंगे। उनकी इस घोषणा को दक्षिण कोरिया के लोगों ने काफी पसंद किया है और म्युंग की यह घोषणा अब चुनाव मुद्दा बन गया है। इतना ही नहीं, म्युंग की जनसभा में भारी संख्या में भीड़ जुटने लगी है। गौरतलब है कि दक्षिण कोरिया में 9 मार्च 2022 को राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होना है।

Next Story

विविध

Share it