बंगाल चुनाव

बंगाल चुनाव: राजद और सपा के समर्थन से ममता को मिल सकता है हिन्दीभाषियों का वोट

Janjwar Desk
4 March 2021 8:00 AM GMT
बंगाल चुनाव: राजद और सपा के समर्थन से ममता को मिल सकता है हिन्दीभाषियों का वोट
x
राजद ने युवा तेजस्वी की अगुवाई में बिहार में पिछले साल के विधानसभा चुनावों में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। अगर वह भाजपा को पड़ोसी पश्चिम बंगाल पर कब्जा करने से रोकने में योगदान दे सकता है तो उसे बहुत खुशी होगी। यह एक अथक वोट-जीतने वाली मशीन के रूप में भाजपा की प्रतिष्ठा को झटका देगा और इससे राजद के कैडर के मनोबल को बढ़ाने की उम्मीद की जा सकती है।

जनज्वार ब्यूरो/कोलकाता। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और समाजवादी पार्टी (सपा) ने 1 मार्च को पश्चिम बंगाल में भाजपा के खिलाफ लड़ाई में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस को अपना समर्थन देने की घोषणा की। इसके साथ ही ममता बनर्जी के पक्ष में पश्चिम बंगाल में रहने वाले हिन्दीभाषियों के मतदान की संभावना बढ़ गई है।

राजद नेता तेजस्वी यादव ने कोलकाता के राज्य सचिवालय नबन्ना में बनर्जी से मुलाकात की और बंगाल में अपने समर्थकों से चुनाव में टीएमसी का समर्थन करने का आग्रह किया। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने समाजवादी पार्टी की तरफ से टीएमसी के समर्थन देने की घोषणा करने के लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

टीएमसी को अपना समर्थन देकर दो क्षेत्रीय दल राजद और सपा, जो दोनों अपने ही राज्यों में भाजपा के मुख्य प्रतिद्वंद्वी के रूप में हैं, भगवा राष्ट्रीय पार्टी के आधिपत्य के खिलाफ क्षेत्रीय राजनीतिक ताकतों के गठबंधन का संकेत दे रहे हैं। जबकि अगले आम चुनाव अभी भी बहुत दूर हैं, ऐसे संकेत 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले एक राजनीतिक तीसरे मोर्चे के उभरने की संभावना को जिंदा रखते हैं।

राजद ने युवा तेजस्वी की अगुवाई में बिहार में पिछले साल के विधानसभा चुनावों में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। अगर वह भाजपा को पड़ोसी पश्चिम बंगाल पर कब्जा करने से रोकने में योगदान दे सकता है तो उसे बहुत खुशी होगी। यह एक अथक वोट-जीतने वाली मशीन के रूप में भाजपा की प्रतिष्ठा को झटका देगा और इससे राजद के कैडर के मनोबल को बढ़ाने की उम्मीद की जा सकती है।

अखिलेश के लिए चुनावी परीक्षा काफी करीब आ गई है, विधानसभा चुनाव अब शायद एक साल से भी कम समय में आयोजित होंगे। बीजेपी ने 2017 में अन्य सभी दलों को पीछे छोड़ दिया, यूपी की 403 सीटों में से 312 सीटें जीतकर सपा को मात्र 54 सीटों पर ला दिया। सपा को एक समान मनोबल बढ़ाने वाले की आवश्यकता है जो भाजपा की अजेय रहने के मिथक को कम करने में मदद कर सकता है। साथ ही बनर्जी को समर्थन देकर सपा को यूपी में बंगाली मतदाताओं के साथ फिर से जुड़ने की उम्मीद की जा सकती है।

अनुमानित तौर पर बिहार और उत्तर प्रदेश के 45 लाख हिंदी भाषी मतदाता बंगाल में रहते हैं। इन दोनों राज्यों के मतदाताओं को आमतौर पर हिंदी पट्टी के प्रमुख दल भाजपा द्वारा लुभाया जाता है। बनर्जी को हराने की कोशिश में भाजपा काफी हद तक इन वोटों पर निर्भर कर रही है।

टीएमसी ने छठ पूजा आदि त्योहारों के संरक्षण के माध्यम से हिंदी भाषी निर्वाचन क्षेत्र में पहुंच बनाई है। इसका उद्देश्य ऐसे जनाधार का निर्माण करना रहा है जो मतदान के दिन मददगार हो सकता है। इस प्रयास में राजद और सपा का समर्थन उपयोगी हो सकता है। टीएमसी को तेजस्वी और अखिलेश की पहल से हुगली के जूट मिल क्षेत्रों, बैरकपुर, हावड़ा, दुर्गापुर और आसनसोल के औद्योगिक बेल्ट में ठोस लाभांश मिलने की उम्मीद है। इन स्थानों पर महत्वपूर्ण संख्या में हिन्दी भाषी मतदाता रहते हैं।

बड़ी संख्या में भाजपा के केंद्रीय नेताओं द्वारा बंगाल में पार्टी के लिए प्रचार शुरू करने के बाद टीएमसी ने उन्हें "बाहरी" के रूप में रेखांकित किया था।इसने भाजपा पर दबाव डाला, जो चुनावी रणनीति और चुनाव प्रचार के लिए अपने राष्ट्रीय नेताओं पर निर्भर है। अन्य राज्यों के लोगों पर स्थानीय बनाम बाहरी के नारे का अच्छा प्रभाव नहीं पड़ा, जो बंगाल में रह रहे हैं। वैसे भाजपा पर भी कोई असर नहीं हुआ।

बंगाल में गैर-बंगाली वोट पूरी तरह से भाजपा के पक्ष में नहीं जाए, यह सुनिश्चित करने के लिए टीएमसी ने हिंदी पट्टी के दो नेताओं के समर्थन को हासिल किया है।

28 फरवरी को कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में लेफ्ट-कांग्रेस की रैली से राजद की अनुपस्थिति ने यह स्पष्ट कर दिया कि उसने वाम-कांग्रेस और फुफुरा शरीफ के मौलवी अब्बास सिद्दीकी की नई पार्टी के साथ गठबंधन में प्रवेश नहीं करने का फैसला किया है। यह महत्वपूर्ण था - क्योंकि वामपंथी और कांग्रेस पिछले साल बिहार में राजद के साथ गठबंधन में थे।

चुनाव की लड़ाई का तीसरा ध्रुव अंतिम परिणाम को कैसे प्रभावित करेगा, यह कई कारकों पर निर्भर करेगा, लेकिन राजद अपने बिहार के सहयोगियों को नजरंदाज कर टीएमसी को चुनकर भाजपा के खिलाफ अपनी लड़ाई में ममता के लाभ के लिए काम कर सकता है।

Next Story

विविध

Share it