अंधविश्वास

Andhvishwash : अंधविश्वास की बलि चढ़ा एक और शख्स, ग्रामीणों ने जादू टोना के शक में ली 45 वर्षीय अधेड़ की जान

Janjwar Desk
20 Sep 2021 12:14 PM GMT
बिहार के कैमूर में ग्रामीणों ने जादू टोने के शक में एक 45 साल के व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या कर डाली
x

(ग्रामीणों ने जादू टोने के शक में पीट-पीटकर मार डाला। प्रतीकात्म तस्वीर)

Andhvishwash : बिहार( Bihar) के कैमूर जिले से दिल को झकझोर देने वाला मामला सामने आया है, जहां अंधविश्वास के कारण ग्रामीणों ने एक 45 साल के अधेड़ को मौत की नींद सुला दिया है...

Andhvishwash जनज्वार। आज के टाइम में ना सिर्फ इंसान बल्कि फोन तक स्मार्ट हो गए हैं। आधुनिकता के इस दौर में जहां इस देश (Country) के लोग रुढ़िवादी सोच को जड़ से खत्म करने के लिए जद्दोजहद कर रहे है, तो वहीं कुछ वर्ग ऐसा भी है जो आज भी पुरानी सोच और अंधविश्वास (Superstition) के अंधेरे कुएँ से बाहर या तो आ नहीं पा रहा है या तो आना नहीं चाह रहा है।

तभी तो रोज एक ना एक अंधविश्वास से जुड़ी खबर या वारदात सामने आ ही जाती है, जहां झारखंड़ में अंधविश्वास के कारण हुई वृद्ध महिला की हत्या के मामले को अभी एक सप्ताह भी नहीं हुआ, वहीं पड़ोसी राज्य बिहार (Bihar ) से एक दिल दिलदहलाने वाली खबर सामने आई है, जहां जादू टोने के शक में एक 45 साल के आदमी की बड़ी बेरहमी के साथ हत्या कर दी गई, इतना ही नहीं उसी मौत के बाद उसके शव को कुल्हाड़ी से काट कर दफनाया गया।

ये पूरा मामला बिहार (Bihar) राज्य के कैमूर (Kaimur) जिले के पहाड़ी प्रखंड अधौरा के पहाड़ी गांव सलेया का है, जहां दरगाही टोला में रहने वाले ग्रामीणों ने जादू टोने के शक में एक 45 साल के व्यक्ति की पीट-पीटकर हत्या कर डाली, पूरी वारदात शनिवार की है। गांव वासियों ने मृतक को ओझा समझकर बेरहमी के साथ पीटा और तब तक उसे मारते रहे जब तक उसकी सांसें नहीं उखड़ गई। इतना ही नहीं उसकी जान लेने के बाद भी ग्रामीणों का गुस्सा शांत नहीं हुआ। ग्रामीणों ने मृतक के शव को कुल्हाडी से काटा और फिर गांव से आठ किलोमीटर दूर ले जा कर शमशान में दफना दिया। गौरतलब है कि मृतक के पांच बच्चे हैं, जिसमें दो बेटे और तीन बेटियां हैं।

पूरे मामले की जानकारी लगते ही अधौरा थाना क्षेत्र की पुलिस घटना स्थल पर पहुंची, मिली जानकारी के अनुसार मृतक का नाम मदन उरांव बताया जा रहा है। पुलिस इंस्पेकक्टर मनोज और अपर थानाध्यक्ष अमोद कुमार के नेतृत्व वाली पुलिस टीम घटना स्थल पर पहुंची और उसके द्वारा शव को बाहर निकाला गया। वहीं पूरे मामले की पूछताछ के दौरान अधौरा गांव के 11 लोगों को थाना लाया गया, वहीं पोस्टमॉर्टम के लिए शव को भभुआ सदर अस्पताल भेज दिया गया।

पूरे मामले को लेकर थानाध्यक्ष ने बताया कि मामले की प्रारंभिक जांच में हत्या के पीछे का कारण अंधविश्वास प्रतीत हो रहा है। मृतक की हत्या को अंजाम दरगाही टोला के सभी ग्रामीणों ने मिलकर दिया हैं। सबसे पहले मदन उरांव के घर सभी ग्रामीण गुट बना कर पहुंचे, जब मृतक और उसके परिवार ने दरवाजा नहीं खोलो तो ग्रामीणों ने उसे तोड़ दिया। वहीं पुलिस ने बताया कि पूछताछ के दौरान ग्रामीणों ने इस बात को स्वीकार किया है और कहा है कि मृतक मदन ने पूरे गांव को परेशान कर रखा था, इसी से परेशान होकर पूरे गांव ने उसे मारने का षड्यंत्र रचा और उसे मौत की नींद सुला दिया।

आगे थानाध्यक्ष ने बताया कि मृतक मदन उरांव की पत्नीं सुदेश्वरी देवी के बयान के आधार पर नौ लोगों को नामजद किया गया है, जो सभी ग्राम सलेया के रहने वाले है। इन नामजद आरोपियों में से 6 को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं अभी तीन आरोपी फरार हैं। बता दें कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से एकनाली बंदूक, कुल्हाड़ी और लाठी बरामद की गई है।

Next Story

विविध