Top
कोविड -19

बाबा रामदेव बोले जिस राष्ट्र के नागरिक बीमार हो, वहां के राजा को दंड मिले, नया वीडियो वायरल

Janjwar Desk
2 Jun 2021 11:07 AM GMT
बाबा रामदेव बोले जिस राष्ट्र के नागरिक बीमार हो, वहां के राजा को दंड मिले, नया वीडियो वायरल
x

(रामदेव ने कहा- अगर बच्चे बीमार हों, तो इसके लिए मां-बाप को जेल की सजा मिले।)

रामदेव ने कहा कि ड्रग माफिया देश-दुनिया को अपने स्वार्थों के लिए बीमार कर रहे हैं। मैं अगर चाहूं तो ऐसा कानून बनाऊं, अगर बच्चे बीमार हों, तो इसके लिए मां-बाप को जेल की सजा मिले...

जनज्वार डेस्क। कोरोना महामारी के संकट के बीच एलोपैथी और डॉक्टरों का मजाक उड़ाने के बाद से पतंजलि आयुर्वेद के संस्थापक बाबा रामदेव चर्चाओं में बने हुए हैं। हर रोज उनके नए वीडियो सामने आ ही जा रहे हैं। एक नए वीडियो में वह कहते हुए सुनाई दे रहे हैैं कि जिस राष्ट्र के नागरिक बीमार हों वहां के राजा को दंड मिलना चाहिए।

दरअसल यह वीडियो गुरुवार 27 मई का है जब बाबा रामदेव अपने भक्तों को योग का प्रशिक्षण करवा रहे थे। उसी दौरान उन्होंने यह बातें कही। वीडियो में रामदेव भक्तों से कह रहे हैं कि अगर राष्ट्र के नागरिक बीमार हों, तो यह सामाजिक, राजनीतिक, राष्ट्रीय, आध्यात्मिक और धार्मिक अपराध है। जिस राष्ट्र के नागरिक बीमार हों उसके लिए उस राष्ट्र के राजा को दंड मिलना चाहिए।

रामदेव ने कहा कि ड्रग माफिया देश-दुनिया को अपने स्वार्थों के लिए बीमार कर रहे हैं। मैं अगर चाहूं तो ऐसा कानून बनाऊं, अगर बच्चे बीमार हों, तो इसके लिए मां-बाप को जेल की सजा मिले।

उन्होंने आगे कहा कि बीमार होने पर पहले परिवार को जिम्मेदार माना जाना चाहिए कि उन्होंने ऐसे बीमार बच्चे क्यों पैदा किये। ये मां-बाप की जिम्मेदारी है कि बच्चों को अनुलोम विलोम, भस्त्रिका योग कराकर ठीक करें। उन्होंने लोगों से कहा कि तुम अच्छे बच्चे पैदा करो जो शरीर से बलवान, बुद्धिमान, प्रज्ञावान, चरित्रवान, शीलवान हों।

रामदेव ने कहा, 'हम बचपन में सुनते थे कि मेरा भारत महान। मगर मेरा भारत तो आज मदिरा पी रहा है, गुटखे खा रहा है, बीमार और लाचार भारत है। जिसे कोरोना हो रहा है। शुगर, बीपी, आर्थराइटिस, थायराइड हो रहा है। उन्होंने कहा मेरे पास इसका समाधान है। मां-बाप बच्चे को स्वस्थ न बनाएं, तो उन्हें दंड दो। देश के नागरिक स्वस्थ ना हों, तो राजा को दंड दो।

बता दें कि बाबा रामदेव के हाल के दिनों में कई वीडियो वायरल हुए हैं जिनमें वह कोविड वैक्सीन और एलोपैथी पर आपत्तिजनक बयान देते हुए दिखे थे। 8 मई को रामदेव ने हरिद्वार के योगग्राम में अपने योग शिविर के दौरान कोरोना मरीजों और डॉक्टरों का मजाक उड़ाते हुए कहा था कि 'लोग ऑक्सीजन के अभाव में मर रहे हैं जबकि भगवान ने मुफ्त में ऑक्सीजन दे रखी है। ऑक्सीजन की कमी पड़ गई है, भगवान ने सारा ब्रह्मांड भर रखा है ऑक्सीजन से, सही से ले तो ले बावड़े।'

इस वायरल वीडियो में रामदेव इतने पर ही नहीं रुके। वो आगे कहते हैं कि 'बाहर सिलेंडर-सिलेंडर करते फिर रहे हैं। दोनों नाकों को पकड़ कर वो कहते हैं कि ये सिलेंडर देखो हुंह, सिलेंडर कम पड़ गए।' इसके बाद रामदेव ने एक बार फिर सनसनीखेज दावा करते हुए कह दिया है की 'जिनका ऑक्सीजन लेवल 70-80 तक आ गया था, मैंने उन्हें अनुलोम विलोम और योगाभ्यास से ठीक कर दिया।'

इसके बाद जब रामदेव विवादों में घिरे तो उन्होंने धार्मिक चैनल आस्था पर प्रसारित अपने एक कसरती वीडियो में माफी मांगने की जगह जमकर डॉक्टरों का मजाक उड़ाया था। इस वीडियो में रामदेव कहते हैं 'डॉक्टर बनना है तो मुझ सा बन, जिसके पास कोई डिग्री नहीं है और सारे इलाज हैं।' रामदेव कहते हैं कि फलाने ने कहा मुझे डॉक्टर बनना है। टर बनना है, टर.. टर..टर, डॉक्टर। स्वामी रामदेव ने अगले ही पल कहा कि '1000 डॉक्टर डबल वैक्सीन लगवाने के बाद भी मर गए।'

हालांकि जब बवाल काफी आगे बढ़ गया और आईएमए ने बाबा रामदेव के खिलाफ डॉ. हर्षवर्धन से यह कहते हुए कार्रवाई की मांग की कि या तो आधुनिक चिकित्सा सुविधा को स्वीकार करिए या बाबा रामदेव पर कार्रवाई करिए। फिर डॉ. हर्षवर्धन को अपने ट्वीट में कहना पड़ा- संपूर्ण देशवासियों के लिए कोविड 19 के खिलाफ़ दिन-रात युद्धरत डॉक्टर व अन्य स्वास्थ्यकर्मी देवतुल्य हैं। बाबा रामदेव जी के वक्तव्य ने कोरोना योद्धाओं का निरादर कर,देशभर की भावनाओं को गहरी ठेस पहुंचाई। मैंने उन्हें पत्र लिखकर अपना आपत्तिजनक वक्तव्य वापस लेने को कहा है।

इसके बाद बाबा रामदेव ने भी डॉ. हर्षवर्धन को पत्र लिखकर माफी मांगी थी। हालांकि बाबा रामदेव उसके बाद भी लगातार एलोपैथी और आधुनिक चिकित्सा सुविधा के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं।

Next Story

विविध

Share it