Top
शिक्षा

CBSE : 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द, PM मोदी की बैठक में हुआ फैसला, छात्रों को एग्जाम देने का भी विकल्प

Janjwar Desk
1 Jun 2021 3:22 PM GMT
CBSE : 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द, PM मोदी की बैठक में हुआ फैसला, छात्रों को एग्जाम देने का भी विकल्प
x
परीक्षा रद्द होने के फैसले पर केजरीवाल ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि हम सभी बच्‍चों की सेहत को लेकर चिंतित थे। यह एक राहत है....

जनज्वार डेस्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में सीबीएसआई की 12वीं बोर्ड की परीक्षा को रद्द करने का फैसला किया है। मंगलवार को हुई इस बैठक में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक मौजूद नहीं रहे।

बैठक के पीएम को उन सभी संभावित विकल्पों के बारे में बताया गया जो विभिन्न राज्यों और अन्य पक्षकारों के साथ हुए व्यापक विचार-विमर्श के बाद सामने आए थे। बैठक में यह भी फैसला लिया गया कि जो स्टूडेंट एग्जाम देना चाहते हैं उन्हें बोर्ड के जरिए ऑप्शन दिया जाएगा। प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया, 'ये भी फैसला किया गया है कि पिछले बार की तरह ही अगर कुछ स्टूडेंट परीक्षा देना चाहते हैं तो स्थिति अनुकूल होने पर सीबीएसआई द्वारा ये विकल्प दिया जाएगा।'

बैठक से पहले ही दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एग्‍जाम न कराने का पक्ष लिया था। इस बारे में उन्‍होंने एक ट्वीट किया था। इसमें सीएम ने कहा था, '12वीं की परीक्षा को लेकर बच्चे और पेरंट्स काफी चिंतित हैं। वे चाहते हैं कि बिना वैक्सिनेशन 12वीं की परीक्षा नहीं होनी चाहिए मेरी केंद्र सरकार से अपील है कि 12वीं की परीक्षा रद्द की जाए। पिछले परफॉर्मेंस के आधार पर उनका आंकलन किया जाए।'

परीक्षा रद्द होने के फैसले पर केजरीवाल ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि हम सभी बच्‍चों की सेहत को लेकर चिंतित थे। यह एक राहत है।

शिक्षा मंत्रालय ने हाल में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में राज्यों और विभिन्न पक्षकारों के साथ व्यापक विचार विमर्श किया था। इस बैठक में केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, प्रकाश जावडेकर, स्मृति ईरानी आदि ने हिस्सा लिया था ।

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने विभिन्न राज्यों और अन्य पक्षकारों से परीक्षा को लेकर सुझाव मांगा था। सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया था कि वह इस बारे में अंतिम फैसला तीन जून तक लेगी। सुप्रीम कोर्ट इस संबंध में याचिका पर सुनवाई कर रही है।

मंगलवार हुई इस बैठक में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक मौजूद नहीं रहे। कोविड-19 बाद जटिलताओं के कारण मंगलवार को उन्‍हें एम्स में भर्ती कराया गया। केंद्रीय शिक्षा मंत्री जांच में 21 अप्रैल को कोविड-19 संक्रमित पाए गए थे। सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय मंत्री को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में मेडिसिन विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. नीरज निश्चल की देखरेख में भर्ती कराया गया है।

Next Story

विविध

Share it