पर्यावरण

प्रकृति को 'सबकुछ' बताते हुए तस्वीर की थी शेयर, ट्वीट के 26 मिनट बाद लैंडस्लाइड में चली गई महिला डॉक्टर की जान

Janjwar Desk
26 July 2021 4:10 AM GMT
प्रकृति को सबकुछ बताते हुए तस्वीर की थी शेयर, ट्वीट के 26 मिनट बाद लैंडस्लाइड में चली गई महिला डॉक्टर की जान
x

अपनी मौत से महज कुछ देर पहले ही दीपा ने प्रकृति की खूबसूरती की तारीफ की थी

(photo:social media)

ट्वीटर में दी गई जानकारी के अनुसार दीपा शर्मा एक आयुर्वेद की चिकित्सक, क्लीनिकल न्यूट्रिशिनिस्ट और एक लेखिका थीं..

जनज्वार। कुदरत भी कभी-कभी गजब खेल दिखाती है। जयपुर की रहने वाली डॉ दीपा शर्मा, जो महज 26 मिनट पहले हिमाचल प्रदेश की प्राकृतिक खूबसूरती को लेकर मुग्ध हुईं थीं, वही दीपा ठीक 26 मिनट बाद प्राकृतिक हादसे का शिकार हो गईं। हिमाचल प्रदेश में हुए भूस्खलन की चपेट में आकर मौत की शिकार हो गईं।

दीपा ने हिमाचल प्रदेश के नागास्ती पोस्ट पर प्राकृतिक सौंदर्य के बीच अपनी तस्वीर खींची। उस तस्वीर को रविवार दोपहर 12.59 बजे अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया और इसके ठीक 26 मिनट बाद यानि 1.25 बजे हिमाचल में लैंडस्लाइड की घटना हो गई। इस हादसे में मरनेवाले 9 लोगों में दीपा भी शामिल थीं।


दीपा शर्मा के ट्वीट के बाद ही खबर आई कि हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले के चितकुला से सांगला जा रहे पर्यटकों को ले जा रहे टेम्पो पर एक बड़ा पत्थर गिर गया। नौ लोगों की मौत हो गई और तीन घायल हो गए।

ट्वीटर में दी गई जानकारी के अनुसार दीपा शर्मा एक आयुर्वेद की चिकित्सक, क्लीनिकल न्यूट्रिशिनिस्ट और एक लेखिका थीं। उनकी पर्सनल वेबसाइट के मुताबिक उन्हें फोटोग्राफी, यात्रा करना और नए लोगों से मिलना बेहद पसंद था।


लैंडस्लाइड में अपनी जान गंवाने के एक दिन पहले उन्होंने अपनी एक और फोटो पोस्ट की थी जिसमें उन्होंने लिखा था, प्रकृति के बिना जीवन कुछ भी नहीं है।

हिमाचल प्रदेश भूस्खलन में जान गंवाने वाले अन्य आठ लोगों की पहचान राजस्थान के सीकर निवासी माया देवी बियाणी (55), उनके बेटे अनुराग बियाणी (31) और बेटी माया देवी बियाणी (25) के रूप में हुई है। महाराष्ट्र, अमोघ बापट (27), छत्तीसगढ़ के सतीश कटकबर (34), पश्चिम बंगाल के उमराव सिंह (42) और कुमार उल्हास वेदपाठक (37) की भी लैंडस्लाइड में मौत हो गई।

Next Story

विविध

Share it