जनज्वार विशेष

खान अब्दुल गफ्फार खान : गांधी की प्रार्थना सभाओं में उनके अनुरोध पर जो सुनाते थे पवित्र कुरान की शिक्षाएँ

Janjwar Desk
23 Jun 2021 2:51 PM GMT
खान अब्दुल गफ्फार खान : गांधी की प्रार्थना सभाओं में उनके अनुरोध पर जो सुनाते थे पवित्र कुरान की शिक्षाएँ
x

(बच्चा खान यानी सीमांत गांधी की महात्मा गांधी के साथ एक ऐतिहासिक तस्वीर)

इतिहास में बच्चा खान का योगदान हमें यह बताने के लिए जीवित रहेगा कि शांति और अहिंसा की कहानियां केवल पुस्तकों या आध्यात्मिकता के लिए नहीं हैं, बल्कि गांधी और गफ्फार के रूप में इस उप-महाद्वीप के आधुनिक इतिहास में जमीन पर प्रयोग करने एवं मानवीय मूल्यों में योगदान देने के लिए हैं...

खान अब्दुल गफ्फार खान को याद कर रहे हैं भारत पाक दोस्ती अभियान आग़ाज़-ए-दोस्ती के संस्थापक रवि नितेश

जनज्वार। आज जब देश में मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न, कई स्थानों पर सांप्रदायिक हिंसा और राजनैतिक चेतना का अभाव दिख रहा है, ऐसे में ये ज़रूरी हो जाता है कि हम इतिहास में जाकर वो परिस्थितियां और उन लोगों के बारे में भी जानें, जिन्होंने समझौता किये बिना अपना जीवन पूरी बहादुरी के साथ लोकतान्त्रिक और अहिंसात्मक मूल्यों में भरोसा रखते हुए जिया और एक उदाहरण बन गए।

ऐसी ही तमाम शख्सियत में एक थे खान अब्दुल गफ्फार खान, जिन्हें बच्चा खान और फ्रंटियर गांधी के नाम से भी जाना जाता है। बच्चा खान एक ऐसे नेता थे जिनसे लोग विशेषकर भारत, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में बहुत प्यार करते थे और आज भी बहुत सम्मानपूर्वक याद किये जाते हैं।

प्यारेलाल जो उनसे मिलने के लिए भाग्यशाली रहे, अपनी पुस्तक सरहदी गांधी (वर्ष 1970 में सर्व सेवा संघ द्वारा प्रकाशित) में लिखते हैं, इस उप-महाद्वीप में अब्दुल गफ्फार खान की भूमिका मुख्य रूप से महत्वपूर्ण थी क्योंकि उन्होंने शांति का प्रयोग और सफल दर्शन किया है और पख्तूनों के बीच, जो हमेशा महान योद्धा माने जाते थे, अहिंसा को सफल रूप से प्रसारित किया है। अब्दुल गफ्फार खान ने उनके बीच शांति का संदेश फैलाया और यह स्वीकार कराने में सफल रहे कि शांति और अहिंसा बहादुरी का सर्वोच्च रूप है, जो हिंसक प्रतिरोध से कहीं ज्यादा मजबूत है। पख्तूनों के बीच बाचा खान के काम ने वास्तव में हजारों लोगों को बदल दिया।

1930 के दशक के सविनय अवज्ञा आंदोलन के दौरान, पेशावर में सैकड़ों पख्तूनों ने बिना किसी प्रतिरोध और बिना पीछे हटे बहादुरी और निर्भयता के साथ ब्रिटिश गोलियों का सामना किया। बिना किसी हथियार और बिना किसी हिंसक प्रतिरोध के पख्तूनों की इतनी भारी भीड़ को देखकर, रॉयल गढ़वाल राइफल्स के कुछ ब्रिटिश सैनिकों ने गोली चलाने से मना कर दिया। यह दिलों और दिमागों के परिवर्तन का एक उदाहरण था, जहां लोग इस दुनिया को बेहतर जगह बनाने के लिए बाचा खान के विचारों पर विश्वास करते थे।

भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान गांधी जी ने जो कुछ किया, उसके अलावा हमें ऐसे परिवर्तन के दुर्लभ उदाहरण मिलते हैं और यही कारण है कि बच्चा खान और गांधी जी इतने करीब थे कि भारत में रहने के दौरान, गाँधी की प्रार्थना सभाओं में कई बार गांधी जी के अनुरोध पर, बच्चा खान ने पवित्र कुरान की शिक्षाएँ सुनाईं, जबकि गांधी जी ने पवित्र गीता सुनाई और धीरे धीरे बच्चा खान, सरहदी गांधी या के रूप में लोकप्रिय हो गए।

दुर्भाग्य से विभाजन के दौरान बच्चा खान को वह नहीं मिला, जो वह चाहते थे क्योंकि वह विभाजन के पक्ष में नहीं थे और इसलिए उन्होंने पाकिस्तान और भारत दोनों से दूर रहने की भी कोशिश की। कांग्रेस की कार्यसमिति के दौरान जब लोहिया, जेपी और गांधी के साथ-साथ बच्चा ख़ान को छोड़कर अधिकांश लोग विभाजन को स्वीकार करने पर सहमत हो गए, उन्होंने कार्यसमिति के समक्ष कहा, 'हम आपके साथ खड़े थे और स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए महान बलिदानों से गुज़रे हैं, लेकिन आपने हमें भेड़ियों के लिए फेंक दिया।'

गांधी जन्मशती वर्ष में 1969 के दौरान बच्चा खान भारत आए। उस समय, भारत की आजादी के 22 साल हो गए थे लेकिन बच्चा खान यह देखकर खुश नहीं थे कि गांधीजी ने भारत के बारे में जो सोचा था, भारत उसके अनुरूप नहीं था। 1969 शताब्दी वर्ष के दौरान, गांधी जी की जीवन यात्रा को मनाने के लिए कई सामजिक राजनीतिक तैयारियाँ की गई थीं। जेपी भी अपनी सक्रिय भूमिका के साथ पूर्ण समर्पण में थे। एस एन सुब्बाराव गांधी दर्शन ट्रेन के लिए पूरे भारत में स्वयंसेवकों के साथ यात्रा करने की तैयारी कर रहे थे। इस बीच कुछ स्थानों पर सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठी और बच्चा खान सांप्रदायिक हिंसा के खिलाफ गुजरात में उपवास पर बैठे।

9 नवंबर 1949 को संविधान सभा में बहस के दौरान, सदस्य एच वी कामथ ने अब्दुल गफ्फार खान के बारे में बात की और कहा कि पूरे भारत ने स्वतंत्रता के लिए उस शानदार संघर्ष में भाग लिया। 'उत्तर में, कश्मीर में, मेरे माननीय मित्र, शेख अब्दुल्ला ने भाग लिया। भारत के उत्तर-पश्चिम में, जो दुर्भाग्य से आज हमसे अलग हो गया है, खान अब्दुल गफ्फार खान और उनके भाई डॉ खान साहिब राष्ट्रीय संघर्ष में सबसे आगे थे। भारत का वह हिस्सा अब हमारे साथ नहीं है, लेकिन हमारी आशा और हमारा विश्वास है कि जो कुछ भी हमारे बीच से चला गया है और जो हिस्सा अभी भी हमारे बीच है, उनमें आपसी मतभेदों को दूर किया जाएगा। जो भी हो, वे सुचारू हो जाएंगे और हमारे संबंध दिन-ब-दिन और अधिक प्रगाढ़ होते जाएंगे और पाकिस्तान और भारत वर्षों तक सबसे अधिक सौहार्दपूर्ण जीवन व्यतीत करेंगे।'

अब्दुल गफ्फार खान ने सत्ताईस साल जेल में बिताए, जिसमें बारह साल अंग्रेजों के अधीन और पंद्रह साल पाकिस्तान में रहे। वह विभाजन के मुद्दे पर कांग्रेस से अलग थलग रहे, जनमत संग्रह के मुद्दे पर उन्हें पाकिस्तान से इनकार मिला; फिर भी वह अपने विचारों, अपने लोगों और मिट्टी के प्रति प्रतिबद्ध रहे।

हिंसा, घृणा, संदेह को न केवल अपने मस्तिष्क से बल्कि दिलों से भी जाने दें। सरकारों और नागरिक समाजों, सामाजिक और राजनीतिक नेताओं, शिक्षाविदों और नौकरशाहों, मीडिया और आम लोगों सभी की इसमें भूमिका है। चाहे वह कश्मीर हो या छत्तीसगढ़ या उत्तर पूर्व, ऐसी जगहें, जहां हाल के दिनों में हिंसक प्रतिरोध, संघर्ष, गलतफहमी अभी भी मौजूद है या इसके निशान हैं, गांधी और गफ्फार जैसे लोगों को आकर जन सामान्य को सांत्वना देने की जरूरत है। सत्ता या हिंसा के माध्यम से कोई भी दमन एक दीर्घकालिक समाधान नहीं हो सकता है और मानवता के साथ और भविष्य और आने वाली पीढ़ी के लिए उज्ज्वल दृष्टिकोण के साथ एकता की भावना ही केवल एक आशा ला सकती है। इसके लिए सभी पक्षों को एक साथ आने की जरूरत है।

मानव जाति में उनके योगदान के लिए, बच्चा खान को 1987 में भारत सरकार ने भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया। 1988 में पाकिस्तान में उनकी मृत्यु हो गई और अफगानिस्तान में उन्हें दफन किया गया। इतिहास में बच्चा खान का योगदान हमें यह बताने के लिए जीवित रहेगा कि शांति और अहिंसा की कहानियां केवल पुस्तकों या आध्यात्मिकता के लिए नहीं हैं, बल्कि गांधी और गफ्फार के रूप में इस उप-महाद्वीप के आधुनिक इतिहास में जमीन पर प्रयोग करने एवं मानवीय मूल्यों में योगदान देने के लिए हैं।

(लेखक भारत पाक दोस्ती अभियान आग़ाज़ -ए - दोस्ती के संस्थापक हैं, दक्षिण एशिया बिरादरी के सदस्य और शांति, मानवाधिकार के विषयों पर स्वतन्त्र लेखन से जुड़े हैं।)

Next Story

विविध

Share it