हाशिये का समाज

Nasbandi Ka Operation: बेहोश किए बिना ही दो दर्जन महिलाओं की कर दी नसबंदी, जानिए कहाँ का है मामला

Janjwar Desk
17 Nov 2022 6:53 AM GMT
Nasbandi Ka Operation: बेहोश किए बिना ही दो दर्जन महिलाओं की कर दी नसबंदी, जानिए कहाँ का है मामला
x

प्रतीकात्मक फोटो

Nasbandi Ka operation: मामला खगड़िया जिले का है जहां डॉक्टरों की लापरवाही इस कदर देखने को मिली जिसे सुनकर होश उड़ जायेंगे। दरअसल हुआ यह कि खगड़िया जिले में कुछ महिलाएं नसबंदी के लिए अस्पताल पहुंची थी लेकिन डॉक्टर ने जिस तरह से महिलाओं को ट्रीट किया वह बेहद लापरवाही थी।

Nasbandi Ka operation: मामला खगड़िया जिले का है जहां डॉक्टरों की लापरवाही इस कदर देखने को मिली जिसे सुनकर होश उड़ जायेंगे। दरअसल हुआ यह कि खगड़िया जिले में कुछ महिलाएं नसबंदी के लिए अस्पताल पहुंची थी लेकिन डॉक्टर ने जिस तरह से महिलाओं को ट्रीट किया वह बेहद लापरवाही थी। जी हां हम सब जानते है जब कोई ऑपरेशन किया जाता है तो पहले उस मरीज को बेहोश किया जाता है उसके बाद में ऑपरेशन की प्रक्रिया शुरू की जाती है।लेकिन इन महिलाओं का नसबंदी का ऑपरेशन बगैर बेहोश किये ही कर दिया है, जो वास्तव में चौंकाने वाला है।

आपको बता दें कि इस नसबंदी के ऑपरेशन के दौरान महिलायें चीखती और चिल्लाती रही लेकिन न तो उनको बेहोश किया गया और न ही कोई दर्द को रोकने वाली दवा दी गई। इस तरह बड़ी बर्बरता के साथ उनका नसबंदी का ऑपरेशन किया गया। आपको बता दें कि यह चौंकाने वाली घटना खगड़िया जिले के अलौली प्रखंड के पीएचसी की है जहां की डॉक्टर गुल सनोवर पर ये संगीन आरोप लगे हैं। जी हां नसबंदी करने के लिए पहुंची महिलाओं का आरोप है कि उनको बिना बेहोश किए ही ऑपरेशन कर दिया गया। चीरा लगाने के दौरान कई महिलाएं दर्द से तड़पती रही लेकिन डॉक्टर लापरवाही की हद को पार करते हुए चीरा लगाते रहे, इससे महिलाएं काफी तड़पती रही।

नसबंदी का ऑपरेशन कराने आई महिला कुमारी प्रतिमा के मुताबिक, डॉक्टर से जब पूछा गया कि बिना सूई दिए ऑपरेशन क्यों कर रहे हैं, तो डॉक्टर ने कहा कि ऑपरेशन के बाद सुई दी जाएगी। उसके बाद हम जोर से चिल्लाने लगे, तब पैर-हाथ पकड़कर मेरा ऑपरेशन कर दिया गया। अस्पताल में फैमिली प्लानिंग के ऑपरेशन को लेकर विशेष शिविर लगाया गया जिसमें 23 महिलाओं का ऑपरेशन बिना सुई और बेहोशी के ही कर दिया गया। सभी ने इसको लेकर ऐतराज जताया लेकिन किसी की नहीं सुनी गई और सभी का बिना बेहोशी और सुई के ही ऑपरेशन कर दिया गया।

ऐसे में अब पूरी घटना की जानकारी मिलने के बाद खगड़िया के सिविल सर्जन अमरनाथ झा ने कहा कि उनको जैसे ही सूचना मिली उन्होंने इस मामले में पीएचसी प्रभारी से स्पष्टीकरण मांगा है। उनका कहना है कि यदि ऐसा हुआ हो तो जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। चार दिन पूर्व भी खगड़िया के परबता पीएचसी में नसबंदी कराने पहुंची महिलाओं को सूई दिया गया और फिर भेड़ बकरी की तरह एक रूम में ही जमीन पर सुला दिया गया था। फ़िलहाल यह मामला चर्चा में है और इस खबर को पढ़कर हर किसी के होश उड़ रहे है।

Janjwar Desk

Janjwar Desk

    Next Story

    विविध