Top
आंदोलन

26 जनवरी किसान ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा मामले में चार्जशीट दर्ज, 500 से अधिक पुलिसकर्मियों के घायल होने का दावा

Janjwar Desk
21 May 2021 10:24 AM GMT
26 जनवरी किसान ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा मामले में चार्जशीट दर्ज, 500 से अधिक पुलिसकर्मियों के घायल होने का दावा
x

ट्रैक्टर रैली में एक युवा किसान की आईटीओ पर हुई थी मौत

26 जनवरी को राजधानी दिल्ली में आयोजित ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा को लेकर विभिन्न व्यक्तियों के खिलाफ 38 मामले दर्ज किए गए हैं, दिल्ली पुलिस का आरोप है कि किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान प्रदर्शनकारियों ने कथित रूप से पहले से तय मार्ग का पालन नहीं किया ..

जनज्वार। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में तीन कृषि बिलों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों ने 26 ​जनवरी को किसान ट्रैक्टर रैली आयोजित की थी, जिसमें कई हिंसक घटनायें हुयीं थीं। अब इस मामले में दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट दायर करते हुए बताया है कि इसमें 500 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए थे।

गौरतलब है कि 26 जनवरी को राजधानी दिल्ली में आयोजित ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा को लेकर विभिन्न व्यक्तियों के खिलाफ 38 मामले दर्ज किए गए हैं। दिल्ली पुलिस का आरोप है कि किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान प्रदर्शनकारियों ने कथित रूप से पहले से तय मार्ग का पालन नहीं किया और दिल्ली में प्रवेश करने के लिए बैरिकेड्स तोड़ दिए थे।

पुलिस का आरोप है कि प्रदर्शनकारी किसानों ने पुलिस पर हमला करने के साथ ही राजधानी के कई हिस्सों में तोड़फोड़ की थी। इसके बाद वो लाल किले में भी घुस गए और प्राचीर से झंडे को उखाड़ दिया था, जिनमें से दीप सिद्धू मुख्य आरोपी है।

बकौल पुलिस 26 जनवरी को हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी किसान पुलिस बैरिकेड्स को तोड़कर अलग-अलग राज्यों से दिल्ली में दाखिल हुए और आईटीओ, नागलोई समेत कुछ अन्य जगहों पर पुलिस के साथ आंदोलनकारी किसानों की झड़प हुयी थी। बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी किसान ट्रैक्टर चलाते हुए लाल किला पहुंचे थे और ऐतिहासिक स्मारक में प्रवेश किया था।

इस दौरान लालकिल की प्राचीर पर एक धार्मिक झंडा लगाने का मामला भी सामने आया था जिसे आरोपी दीप सिद्धू ने लहराया था। हालांकि दीप सिद्धू की बाद में सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीरों से उसकी भाजपा नेताओं से सांठगांठ जाहिर हुयी थी और किसान नेताओं ने भी ​कहा था कि वह षड्यंत्र के तहत किसान आंदोलन केा बदनाम करने के लिए इस रैली का हिस्सा बना और अपनी चाल में कामयाब रहा।

गौरतलब है कि इंडियन पीनल कोड (IPC) की कई धाराओं के अंतर्गत हुई यह चार्जशीट दाखिल हुई है। 17 मई को क्राइम ब्रांच की SIT ने यह मुख्य चार्जशीट दाखिल की थी। लाल किला हिंसा के जिम्‍मेदार लोगों की पहचान करने के लिए पुलिस ने कई टीमें गठित की थी। पुलिस ने लालकिला परिसर में तोड़फोड़ किए जाने की घटना को 'राष्ट्र विरोधी गतिविधि' करार दिया था। 'फॉरेंसिक विशेषज्ञों की एक टीम ने घटना के बाद लालकिले का दौरा किया था और साक्ष्य एकत्रित किए कर एक्टर दीप सिद्धू को मुख्य आरोपी बनाया था।

Next Story

विविध

Share it