राष्ट्रीय

कानपुर सड़क हादसे से एक ही गांव में 13 मौतें, उजड़े कई परिवार, प्रधानमंत्री-गृहमंत्री ने ट्वीट कर व्यक्त की संवेदना

Janjwar Desk
9 Jun 2021 2:29 AM GMT
कानपुर सड़क हादसे से एक ही गांव में 13 मौतें, उजड़े कई परिवार, प्रधानमंत्री-गृहमंत्री ने ट्वीट कर व्यक्त की संवेदना
x

कानपुर के सचेंडी में हुए सड़क हादसे के बाद गांव पालेपुर में मौत का जमघट.इस गांव से अब तक मृतकों की संख्या 14 पहुँच गई है. photo - janjwar

लखनऊ की तरफ से आ रही डबल डेकर बस ने जबर्दस्त टक्कर मार दी। टेंपो में 17 लोग सवार थे जिनमें 16 की मौके पर ही मौत हो गई थी। एक घायल ने अस्पताल में जाकर दम तोड़ दिया। टक्कर के बाद बस 20 फिट नीचे गहराई में जा गिरी...

जनज्वार, कानपुर। यूपी के कानपुर स्थित सचेंडी में बस व लोडर की भिड़ंत में अब तक 17 लोगों के मरने की पुष्टि की जा चुकी है। हादसे में मारे गए लोगों के परिजनो के लिए प्रधानमंत्री मोदी सहित गृहमंत्री अमित शाह ने भी गहरा दुख व्यक्त किया है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने भी शोक व्यक्त किया था।

गौरतलब है कि सचेंडी में किसान नगर नहर के पास गलत दिशा में जा रही टेंपो को लखनऊ की तरफ से आ रही डबल डेकर बस ने जबर्दस्त टक्कर मार दी। टेंपो में 17 लोग सवार थे जिनमें 16 की मौके पर ही मौत हो गई थी। एक घायल ने अस्पताल में जाकर दम तोड़ दिया। टक्कर के बाद बस 20 फिट नीचे गहराई में जा गिरी। बस के 8 तथा टेंपो के चार यात्री घायल हैं, जिनका हैलट में इलाज चल रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना का संज्ञान लेते हुए सभी मृतकों के परिवारों से शोक संवोदना व्यक्त की है। साथ ही परिजनो को 2-2 लाख रूपये तथा सभी घायलों को 50-50 हजार रूपये की आर्थिक मदद देने का एलान किया है। गृहमंत्री अमित शाह ने भी घटना में सभी मृतकों के परिजनो के लिए शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया है।

दो घण्टे चला बचाव कार्य

हादसे के लगभग आदे घण्टे बाद पहुँची पुलिस ने राहत कार्य शुरू किया। एक तरफ बस खाईं में पलटी हुई थी तो दूसरी तरफ टेंपो का मलबा बिखरा पड़ा था। घटना के चलते कानपुर की तरफ जाने वाला रूट जाम हो गया। मलबा उठाने के लिए क्रेन मंगानी पड़ी। बस को सीधा करने के लिए दूसरी क्रेन मंगवानी पड़ी। रात साढ़े आठ बजे से लेकर साढ़े दस बजे तक राहत कार्य चलता रहा।

लोडर में एक पर एक शव-घायलों को लादकर भेजा

भीषण सड़क हादसे के बाद लोडर में मृतकों को एक के उपर एक लादकर हैलट भेजा गया। बताया जा रहा है कि एंबुलेंस के देर से पहुँचने पर पुलिस को शव तथा घायलों को लोडर से ही लादकर भेजना पड़ा। दूसरी तरफ इलाज में लापरवाही को लेकर हैलट में परिजनो ने हंगामा भी किया। लोडर में शव तथा घायलों को एक साथ अस्पताल पहुँचने पर पुलिस अफसर भी हैरान रह गए।

घरों में पसरा मातम

सड़क दुर्घटना में अधिकतर मरने वाले कानपुर नगर के लालेपुर गांव के हैं। इस गाव के 13 लोगों की मौत हुई है। तो वहीं गांव ईश्वरीगंज के चार मजदूरों की मौत हुई है। लालोपुर गांव निवासी तीन सगे भाईयों शिवभजन,राम मिलन व लवलेश की मौत होने से परिजन बेहाल हैं। वहीं इसी गांव के त्रिभुवन के दो बेटों की एक साथ दर्दनाक मौत हो गई। दोनो परिवारों को लोग घटना को याद कर फफक कर रो रहे हैं। इनका पूरा परिवार ही उजड़ गया है।

इनकी हुई मौत


इस भीषण हादसे में जान गंवाने वाले 22 वर्षीय गोलू परिहार पुत्र शिव लखन निवासी लालेपुर थाना सचेंडी। 55 वर्षीय धनीराम पुत्र राम प्रसाद निवासी ग्राम ईश्वरीगंज। 50 वर्षीय बलवीर सिंह यादव पुत्र राम बहादुर यादव निवासी ईश्वरीगंज। 45 वर्षीय सुरेंद्र यादव पुत्र अज्ञात निवासी ईश्वरीगंज। 18 वर्षीय अन्नू सिंह पुत्र भानु प्रसाद निवासी ईश्वरीगंज। 50 वर्षीय ज्ञानेंद्र सिंह परिहार पुत्र चंद्रपाल सिंह निवासी लालेपुर। 22 वर्षीय धर्मराज सिंह पुत्र त्रिभुवन सिंह निवासी लालेपुर। 18 वर्षीय गौरव पुत्र त्रिभुवन निवासी लालेपुर। 22 वर्षीय राममिलन पुत्र धनीराम निवासी लालेपुर। 20 वर्षीय रजनीश पुत्र अनंतराम निवासी लालैपुर। 22 वर्षीय नन्हू पासवान पुत्र कमलेश निवासी लालेपुर। 35 वर्षीय करन सिंह पुत्र मेवा लाल निवासी लालेपुर। 24 वर्षीय राममिलन पुत्र धनी राम निवासी लालेपुर। 20 वर्षीय लवलेश पुत्र धनीराम निवासी लालेपुर। 20 वर्षीय शिवचरण पुत्र कमलेश निवासी लालेपुर। 55 वर्षीय उदय नारायण पुत्र राम भजन निवासी लालेपुर सहित 20 साल के सुभाष पुत्र लक्ष्मी प्रसाद निवासी लालेपुर थाना सचेंडी जनपद कानपुर की मौत हो गई।

Next Story

विविध

Share it