राष्ट्रीय

Agnipath Scheme Ki Agnipariksha : 'अग्निपथ' के विरोध में जलने लगा बिहार, छपरा व कैमूर में ट्रेन फूंकी गई; आरा में प्रदर्शनकारियों पर दागे गए आंसू गैस के गोले

Janjwar Desk
16 Jun 2022 6:56 AM GMT
Agnipath Scheme Ki Agnipariksha : अग्निपथ के विरोध में जलने लगा बिहार, छपरा व कैमूर में ट्रेन फूंकी गई; आरा में प्रदर्शनकारियों पर दागे गए आंसू गैस के गोले
x

Agnipath Scheme Ki Agnipariksha : 'अग्निपथ' के विरोध में जलने लगा बिहार, छपरा व कैमूर में ट्रेन फूंकी गई; आरा में प्रदर्शनकारियों पर दागे गए आंसू गैस के गोले

Agnipath Scheme Ki Agnipariksha : 'आक्रोशित युवा केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। प्रदर्शन के कारण रेल यातायात पूरी तरह से ठप हो गया है। भोजपुर के आरा में पुलिस को उपद्रवियों पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े। लोगों का कहना है कि सरकार अपना फैसला वापस ले। इसे लेकर बिहार के कई जिलों में प्रदर्शन हो रहा है...

Agnipath Scheme Ki Agnipariksha : केंद्र सरकार की अग्‍न‍िपथ योजना (Agnipath Scheme Ki Agnipariksha) के विरोध में प्रदर्शन अब उग्र हो गया है। गुस्साए छात्र अब सड़क पर उतर गए हैं। बिहार में अग्निपथ स्कीम के विरोध में हिंसा की कई घटनाएं सामने आयी हैं। खबरों के अनुसार इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने छपरा और कैमूर में पैसेंजर ट्रेनों में आग लगा दी है। छपरा जंक्शन पर करीब 12 गाड़ियों में तोड़फोड़ करने की भी खबर है। छपरा में ही 3 ट्रेनों को फूंकने की खबर है। छात्रों के गुस्से के कारण पूरे स्टेशन अफरातफरी का माहौल है। जानिए बवाल के दौरान बिहार के किस जिले में क्या हो रहा है?

भोजपुर : पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे

आक्रोशित युवा केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। प्रदर्शन के कारण रेल यातायात पूरी तरह से ठप हो गया है। भोजपुर के आरा में पुलिस को उपद्रवियों पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े। लोगों का कहना है कि सरकार अपना फैसला वापस ले। इसे लेकर बिहार के कई जिलों में प्रदर्शन हो रहा है।

नवादा : विधायक बाल-बाल बचीं

वारिसलीगंज की विधायक अरुणा देवी पर नवादा में प्रदर्शनकारियों (Agnipath Scheme Ki Agnipariksha) ने हमला कर दिया। हमले के दौरान विधायक गाड़ी में ही मौजूद थीं। वो बाल-बाल बच गईं। दैनिक भास्कर से बात करते हुए उन्होंने बताया कि वो अपने क्षेत्र की जन समस्या को लेकर नवादा आ रही थी। उसी ये हमला हुआ। अचानक से 15 से 20 के संख्या में युवक पहुंचे और गाड़ी पर हमला कर दिया। नवादा के प्रजातंत्र चौक और रेलवे स्टेशन के पास प्रदर्शनकारियों द्वारा सड़क जाम कर जमकर नारेबाजी की गई। इसके बाद कुछ आक्रोशित छात्रों ने नवादा स्टेशन पर पहुंचकर वहां ट्रैक पर लगे नट बोल्ट को भी खोल दिया है।

जहानाबाद : ट्रेन रोककर ट्रैक पर बैठे

जहानाबाद में छात्रों ने पटना-गया रेलखंड को निशाना बनाते हुए पटना-गया मेमू सवारी गाड़ी को जहानाबाद स्टेशन के पास रोककर विरोध-प्रदर्शन किया। वहीं ट्रेन रोके जाने की सूचना के बाद रेल पुलिस मौके पर पहुंचकर छात्रों को समझाने में जुटी हुई है। दूसरी तरफ छात्रों ने शहर के स्टेशन इलाके के काको मोड़ के पास सड़क पर आगजनी कर सड़क भी जाम कर दिया है।

बक्सर : गुस्साए अभ्यर्थियों ने किया बवाल

बक्सर में भी सेना बहाली में टूर ऑफ ड्यूटी (Agnipath Scheme Ki Agnipariksha) हटाने को लेकर दूसरे दिन प्रदर्शन हुआ। विरोध प्रदर्शन करते हुए भारी संख्या में युवक किला मैदान की सड़कों पर निकले पड़े। इस दौरान आक्रोशित अभ्यर्थियों ने जमकर नारेबाजी की। वहीं प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस ने तुंरत संभाला मोर्चा। फिलहाल सभी प्रदर्शनकारी किला मैदान से स्टेशन रोड की तरफ बढ़ रहे हैं। इधर, रेलवे स्टेशन पर भी पुलिस मोर्चा संभाले हुए है।

सीवान : प्रदर्शन में शामिल हुए सैकड़ों अभ्यर्थी

सीवान में भी अग्निपथ योजना को लेकर सैकड़ों की संख्या में अभ्यर्थियों (Agnipath Scheme Ki Agnipariksha) का आक्रोश प्रदर्शन देखने को मिला। यहां भी युवाओं ने जेपी चौक, स्टेशन मोड़ और रेलवे ट्रैक को जाम कर जमकर विरोध किया। वहीं इस दौरान कई अभ्यर्थी हाथ में बांस का बल्ला लेकर और जगह-जगह आगजनी करते भी दिखे।

छपरा : सड़क जामकर छात्रों ने आगजनी की

छपरा के दूधईला मोड़ के समीप युवाओं ने सड़क जाम करते हुए आगजनी की। इस दौरान अभ्यर्थियों ने अग्निपथ योजना का जमकर विरोध किया। छपरा के मशरख में भी युवाओं ने सरकार के स्कीम के खिलाफ प्रदर्शन किया। उन्होंने छपरा थावे रेल लाइन पर हंगामा करते हुए ट्रेन को रोक दिया। साथ ही प्रदर्शनकारियों ने मीडिया को भी कवरेज करने से रोका।

चार साल की नौकरी का विरोध कर रहे हैं गुस्साए अभ्यर्थी

एक प्रदर्शनकारी अभ्यर्थी (Agnipath Scheme Ki Agnipariksha) अंकित सिंह ने बताया, '2021 में सेना में नियुक्ति के लिए आवेदन मांगे गए थे। मुजफ्फरपुर समेत आठ जिलों के हजारों अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। उनमें से जिन्होंने फिजिकल टेस्ट पास किए उनका मेडिकल हुआ था। मेडिकल होने के बाद अब एक साल से लिखित परीक्षा का इंतजार कर रहे हैं। अब तक परीक्षा नहीं ली गई।'

Next Story