राष्ट्रीय

Bakra Eid 2022 New Guidelines : बकरीद पर घर या खुले में नहीं दी जा सकेगी कुर्बानी, आदेश का उल्लंघन करने पर होगी सख्त कार्रवाई

Janjwar Desk
21 Jun 2022 1:12 PM GMT
Bakra Eid 2022 New Guidelines : बकरीद पर घरों या खुले में नहीं दी जा सकेगी कुर्बानी, आदेश का उल्लंघन करने पर होगी सख्त कार्रवाई
x

Bakra Eid 2022 New Guidelines : बकरीद पर घरों या खुले में नहीं दी जा सकेगी कुर्बानी, आदेश का उल्लंघन करने पर होगी सख्त कार्रवाई

Bakra Eid 2022 New Guidelines : अगले महीने बकरीद पर देश भर के निकाय क्षेत्रों के अधिकृत बूचड़खानों के अलावा कहीं भी क़ुरबानी नहीं हो सकेगी, इसे लेकर केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से यह सुनिश्चित करने को निर्देश जारी किए है...

Bakra Eid 2022 New Guidelines : अगले महीने बकरीद पर देश भर के निकाय क्षेत्रों के अधिकृत बूचड़खानों के अलावा कहीं भी क़ुरबानी नहीं हो सकेगी। बता दें कि इसे लेकर केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से यह सुनिश्चित करने को निर्देश जारी किए है। केंद्र सरकार द्वारा सभी राज्यों को जारी किए गई निर्देश में कहा गया है कि सभी राज्य यह सुनिश्चित करें कि बकरीद पर लोग सार्वजनिक रूप से पशुओं की कुर्बानी न दें।

घरों और खुले में नहीं होगी कुर्बानी

बता दें कि अगले महीने बकरीद के लिए केंद्र सरकार की तरफ से नई गाइडलाइन (Bakrid New Guideline) जारी की गई है, जिसमें बकरों की कुर्बानी बूचड़खानों में ही की जा सकेगी। जिसके लिए नए निर्देश जारी किए गए है। केंद्र सरकार द्वारा दिए गए निर्देश के अनुसार कुर्बानी अब ना तो घरों में हो सकेगी और ना ही खुले स्थान पर, यानी कि सार्वजनिक रूप से बकरों की कुर्बानी अब नहीं दे सकते हैं। केंद्र सरकार ने कहा है कि पिछले काफी समय से देखने में आ रहा है कि पशुओं को वाहनों में ठूंस-ठूंस कर भरा जाता है। यह उनके साथ एक तरह की क्रूरता है, ऐसे मामलों में संबंधित लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

'दैनिक भास्कर' में 21 जून को प्रकाशित खबर

अब नहीं होगी ऊंट की कुर्बानी

बता दें कि केंद्र सरकार के जीव जंतु कल्याण बोर्ड ने सभी राज्यों को लिखा है कि बकरीद पर ऊंट की कुर्बानी ना हो। ऊंट देश में भोजन के लिए प्रतिबंधित पशुओं की श्रेणी में शामिल है लेकिन कई जगह ऊंटों की कुर्बानी दी जाती है। इसके अलावा जिन राज्यों में गोवध अपराध है, वहां गाय व बछड़े की कुर्बानी नहीं दी जाए। साथ ही निर्देश में राज्यों से कहा गया है कि किसी भी गर्भवती पशुओं की कुर्बानी ना हो। जिन पशुओं का गर्भ 3 महीने से कम का है उनकी कुर्बानी भी वेटरनरी डॉक्टर की ओर से जारी फिटनेस सर्टिफिकेट के बिना नहीं दी जा सकेगी।

Next Story

विविध