राष्ट्रीय

West Bengal Bypolls Elections 2021: कल EVM में कैद होगा ममता का भविष्य, भवानीपुर सहित तीन विधानसभा सीटों पर उपचुनाव

Janjwar Desk
29 Sep 2021 3:25 PM GMT
West Bengal Bypolls Elections 2021: कल EVM में कैद होगा ममता का भविष्य, भवानीपुर सहित तीन विधानसभा सीटों पर उपचुनाव
x
West Bengal Bypolls Elections 2021: पश्चिम बंगाल के भवानीपुर विधानसभा सीट पर कल चुनाव होना है। यहाँ तृणमूल की सर्वेसर्वा ममता बनर्जी का मुकाबला भाजपा की प्रियंका टिबरेवाल से है। यह सीट तृणमूल कांग्रेस के लिए बहुत ही अहम है।

West Bengal Bypolls Elections 2021: पश्चिम बंगाल के भवानीपुर विधानसभा सीट पर कल चुनाव होना है। यहाँ तृणमूल की सर्वेसर्वा ममता बनर्जी का मुकाबला भाजपा की प्रियंका टिबरेवाल से है। यह सीट तृणमूल कांग्रेस के लिए बहुत ही अहम है। ममता को मुख्यमंत्री के रूप में बने रहने के लिए संवैधानिक प्रावधानों के अनुरूप 5 नवंबर तक विधानसभा में एक सीट जीतनी होगी। यहाँ तृणमूल ममता की जीत को लेकर चिंतित नहीं है। ममता के भतीजे सांसद अभिषेक बनर्जी कहते हैं, ' हम कम से कम एक लाख वोटों के अंतर से जीत सुनिश्चित करना चाहते हैं।

ये चुनाव ममता बनर्जी और भारतीय जनता पार्टी के बीच एक तरह की प्रतिष्ठा की लड़ाई बन गया है। ममता इसी साल हुए बंगाल विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम सीट में कभी बेहद करीबी रहे बीजेपी उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी ने ममता को दो हजार से भी कम वोटों के अंतर से पराजित कर दिया था।

बता दें कि इस सीट से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी साल 2011 और 2016 में जीत हासिल कर चुकी है। यह सीट तृणमूल का गढ़ माना जाता है। इस साल अप्रैल-मई के विधानसभा चुनाव में भी यहाँ से तृणमूल उम्मीदवार शोभनदेव चटोपाध्याय मैदान में थे और उन्होंने करीब 29 हजार वोटों के अंतर से जीत हासिल की थी। लेकिन ममता के हार के बाद शोभनदेव ने इस्तीफा देकर मुख्यमंत्री के लिए यह सीट खाली कर दी थी।

दक्षिण कोलकाता की इस विधानसभा सीट के जातीय समीकरण दिलचस्प हैं। यहाँ की विविधतापूर्ण आबादी के लिए इसे मिनी इंडिया कहा जाता है। इस इलाके के करीब 40 फीसदी वोटर गैर बंगाली हैं और 20 फीसदी मुस्लिम आबादी है। कुल मतदाता करीब 2.31 लाख है। सिख परिवारों के अलावा यहाँ गुजराती, उड़िया, मारवाड़ी, पंजाबी, बिहारी, बंगाली बड़ी तादाद में रहते हैं। गुजराती और मारवाड़ी तबके के लोगों को पारंपरिक रूप से भाजपा का समर्थक माना जाता है। शायद इसी वजह से बीजेपी ने यहाँ एक हिंदी भाषी प्रियंका टिबरेवाल को मैदान में उतारा है।

भाजपा से 80 नेता आखिरी दिन प्रचार में देखें गए, वहीं ममता बनर्जी लोगों के घर जाकर वोट मांगती हुईं दिखीं। तृणमूल ने भवानीपुर को अपनी बेटी चाहिए कैंपेन चलाया, तो भाजपा चुनाव बाद हिंसा का मुद्दा उठाठी रही। बीजेपी ने एक वीडियो जारी किया है, वीडियो का टाइटल दिया गया है, अब खेला नहीं होगा, न्याय होगा।

भवानीपुर सीट पर चुनाव प्रचार थम चुका है और कोलकाता पुलिस ने मंगलवार शाम 6:30 बजे से 30 सितंबर को मतदान के खत्म होने तक विधानसभा क्षेत्र के मतदान केंद्रों के 200 मीटर क्षेत्र में धारा 144 के तहत प्रतिबंध लगा दिया है।

Next Story

विविध

Share it