बिहार

RJD में टूट की चर्चायें शुरू, प्रदेश अध्यक्ष पर भड़के तेजप्रताप यादव, कहा ऐसे लोगों के कारण बीमार हैं लालू प्रसाद

Janjwar Desk
13 Feb 2021 12:47 PM GMT
RJD में टूट की चर्चायें शुरू, प्रदेश अध्यक्ष पर भड़के तेजप्रताप यादव, कहा ऐसे लोगों के कारण बीमार हैं लालू प्रसाद
x
तेजप्रताप यादव जब जगदानंद सिंह के खिलाफ बोल रहे थे तब वे अपने कक्ष में बैठे हुए थे, तेजप्रताप ने कहा कि इन जैसे लोगों की वजह से लालू जी की तबीयत खराब हो गई है, जगदानंद सिंह ने अब तक लालू यादव की रिहाई के लिए 'आजादी पत्र' भी नहीं लिखा है...

पटना। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद के पुत्र और हसनपुर क्षेत्र से विधायक तेजप्रताप यादव शनिवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया। उन्होंने कहा कि ऐसे ही लोगों के कारण आज लालू प्रसाद जी बीमार हैं और पार्टी की यह हालत हुई है।

तेजप्रताप यादव के इस बयान के बाद राजनीतिक विश्लेषण कयास लगाने लगे हैं कि राजद में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है।

तेजप्रताप शनिवार 13 फरवरी को पार्टी प्रदेश कार्यालय पहुंचे थे। इसी दौरान वे प्रदेश अध्यक्ष पर भड़क गए। उन्होंने राजद को गरीबों की पार्टी बताते हुए कहा कि आज अध्यक्ष से मिलने के लिए लोगों को समय लेना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि यहां कभी भी कोई भी आ सकता है और मिल सकता है, लेकिन यहां ऐसा नहीं हो रहा है।

तेजप्रताप जब जगदानंद सिंह के खिलाफ बोल रहे थे तब वे अपने कक्ष में बैठे हुए थे। तेजप्रताप ने कहा कि इन जैसे लोगों की वजह से लालू जी की तबीयत खराब हो गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि जगदानंद सिंह ने अब तक लालू यादव की रिहाई के लिए 'आजादी पत्र' भी नहीं लिखा है।

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप ने कहा, "मैं पार्टी कार्यालय पहुंचा। मेरा स्वागत तो छोड़िए, जगदानंद सिंह ने मुझसे मुलाकात भी नहीं की। मैं किसी से नहीं डरता, मुंह पर बोलता हूं।"

उन्होंने कहा कि पार्टी के नेताओं और विधायकों से जगदानंद सिंह मुलाकात नहीं करते हैं। विधायकों को समय लेकर प्रदेश अध्यक्ष से मिलना पड़ता है। उन्होंने कोरोना वैक्सीन को लेकर भी सवाल खड़ा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने अभी तक कोरोना वैक्सीन क्यों नहीं लगवाई हैं।

वहीं तेजप्रताप यादव की नाराजगी पर जगदानंद सिंह ने पहले तो चुप्पी साधे रखी, बाद में बहुत संभलते संभलते कहा कि मुझे इसकी जानकारी नहीं है। तेजप्रताप नाराज हैं तो उनसे बात करूंगा। मैं भी लिखूंगा आज़ादी पत्र। आज जो स्थिति है सब के सामने है। घरेलू कोई मसला होगा तो हम उस पर आपस में बैठ कर बात करेंगे।

Next Story

विविध

Share it