बिहार

कपड़ा धोने वाली कौन हैं बिहार की मुन्नी देवी, जिनको लालू प्रसाद यादव ने बनाया MLC प्रत्याशी

Janjwar Desk
31 May 2022 3:44 AM GMT
x
मुन्नी देवी नालंदा की रहने वाली हैं। वह रजक समुदाय से आती हैं। उनका पूरा परिवार कपड़े धोकर जीवन यापन करता है।

Bihar MLC Chunav 2022 : राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ( Lalu Prasad Yadav ) ने बिहार विधान परिषद की 7 सीटों पर होने वाले चुनाव को लेकर पार्टी के प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। आरजेडी ( RJD ) की ओर से घोषित तीन उम्मीदवारों में से एक यानि मुन्नी देवी ( Munni Devi ) का नाम सभी के लिए चौंकाने वाला है। आरजेडी ने मुन्नी देवी को एमएलसी उम्मीदवार ( MLC Candidate ) बनाया है। मुन्नी देवी ने लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी द्वारा MLC प्रत्याशी बनाए जाने पर अभार जताया है।

कौन हैं मुन्नी देवी?

मुन्नी देवी ( Munni Devi ) मूलत: नालंदा की रहने वाली हैं। वह रजक समुदाय से आती हैं। पटना के खुसरुपुर रेलवे प्लेटफार्म के नीचे कपड़ा धोती हैं। मुन्नी देवी का पूरा परिवार लोगों के कपड़े धोकर अपना जीवन यापन करता है। उनका अभी तक न कोई अपना घर है और न कोई जमीन। भाड़े के घर में रहती हैं। दूसरों के कपड़े साफ कर आज भी गुजारा करती हैं। खास बात यह है कि मुन्नी देवी RJD की पुरानी और जमीनी कार्यकर्ता रही हैं। वर्तमान में मुन्नी देवी पार्टी में महिला प्रकोष्ठ की महासचिव के रूप में काम कर रही थीं। 30 मई यानि सोमवार को जब एमएलसी उम्मीदवार के तौर पर उनके नाम की घोषणा हुई तो उन्हें यकीन नहीं हुआ।

आरजेडी की ओर से एमएलसी प्रत्याशी बनाने के बाद जब लोग मुन्नी देवी के घर पहुंचे तो उन्हें इसकी जानकारी मिली। जानकारी मिलने के बाद मुन्नी देवी सबसे पहले लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव से मिलने के लिए 10 सर्कुलर रोड राबड़ी आवास पहुंचीं। मुन्नी देवी ने कहा कि वे और उनका पूरा परिवार लोगों के कपड़े धोकर अपना जीवन यापन करता है। लालू प्रसाद ने एमएलसी का उम्मीदवार बनाकर सम्मान देने का काम किया है।

लालू परिवारवाद नहीं, दलितवाद की राजनीति करते हैं

वहीं बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी के आवास पर पहुंचने के बाद तेजप्रताप यादव ने भगवत गीता देकर उनका स्वागत किया। मुन्नी देवी के पास कोई साधन नहीं रहने के कारण तेजप्रताप यादव ने अपनी गाड़ी से उन्हें घर तक छोड़ा। एमएलसी प्रत्याशी मुन्नी देवी ( Munni Devi ) ने लालू प्रसाद, राबड़ी देवी और तेजस्वी यादव का आभार जताते हुए कहा कि लोग लालू यादव पर परिवारवाद करने का आरोप लगाते हैं, लेकिन लालू परिवारवाद नहीं बल्कि दलितवाद करते हैं।

अभी तक लोग मुझ पर हंसते थे

मुन्नी देवी ( Munni Devi ) ने कहा कि लालू प्रसाद यादव का पूरा परिवार दलितों और गरीबों को सम्मान देने का काम करता रहा है। तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव लालू यादव के रास्ता पर चलने का काम कर रहे हैं। बिहार की जनता आज भी लालू प्रसाद के साथ है। एमएलसी चुने जाने के बाद वो महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ आवाज उठाने का काम करेंगी। इतना ही नहीं, अचानक चर्चा में आईं मुन्नी ने जब मीडिया से बात की तो भावुक हो गईं। उन्होंने कहा कि मैं आज इतनी प्रसन्न हूं कि खुशी से कमजोर हो गई हूं। आरजेडी के साथ सालों से जुड़ी हूं। लोग मुझपर हंसते थे। कहते थे खुद घोटाला करके लालू जेल गए हैं। तुम्हारा क्या होगा? मुन्नी ने कहा कि मैं इन बातों से घबराई नहीं।

लालू ने पत्थर तोड़ने वाली भगवतिया को भी बनाया था विधायक

मुन्नी देवी कहती हैं मैं महिलाओं को समझाती हूं कि आप खुद कमाकर बच्चों को पढ़ाइए। लालू गरीबों के मसीहा हैं। पहले पत्थर तोड़ने वाली भगवतिया देवी को विधायक बनाया था अब मुझपर भरोसा जताया है।

सामाजिक समीकरण को साधने की कोशिश

Bihar MLC Chunav 2022 : बिहार विधान परिषद चुनाव के लिए राष्ट्रीय जनता दल ने तीनों प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया है। आरजेडी ने मोहम्मद कारी सुहैब, मुन्नी रजक और अशोक कुमार पांडेय को उम्मीदवार बनाया है। आरजेडी ने उम्मीदवारों के चयन में सामाजिक समीकरण का पूरा ख्याल रखा है। इस बार मुस्लिम सवर्ण और दलित तीनों को साधने की कोशिश की है।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वालगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध