राष्ट्रीय

जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के साथ ट्विटर पर ट्रेंड हो रहा है #GoBackYogi, 25 हजार से ज्यादा लोग कर चुके हैं ट्विट, जानिए क्यों?

Janjwar Desk
25 Nov 2021 11:25 AM GMT
जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के साथ ट्विटर पर ट्रेंड हो रहा है #GoBackYogi, 25 हजार से ज्यादा लोग कर चुके हैं ट्विट, जानिए क्यों?
x
ग्रेटर नोएडा में जेवर एयरपोर्ट के शिलान्यास के बीच ट्विटर पर गो बैक योगी (#GoBackYogi) ट्रेंड कर रहा है। गुर्जर समाज के लोग जेवर एयरपोर्ट का नाम सम्राट मिहिर भोज इंटरनैशनल एयरपोर्ट करने की मांग कर रहे थे, जिसे योगी और मोदी ने पूरा नहीं किया।

ग्रेटर नोएडा न्यूज : गुरुवार को एक तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्रेटर नोएडा में जेवर एयरपोर्ट की आधा​रशिला रखी तो दूसरी तरफ ट्विटर पर गो बैक योगी (#GoBackYogi) ट्रेंड कर रहा है। 25 हजार से अधिक लोग इस पर ट्वीट कर चुके हैं। बताया जा रहा है कि गुर्जर समाज के लोग जेवर एयरपोर्ट का नाम सम्राट मिहिर भोज इंटरनेशनल एयरपोर्ट करने की मांग कर रहे हैं। इतना ही नहीं गुर्जर समुदाय ने पीएम मोदी के शिलान्यास कार्यक्रम का भी बहिष्कार किया है।

बात समाज के स्वाभिमान की है

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर राघव गुर्जर नाम के यूजर ने लिखा है कि एक समय था जब हम अपने समुदाय के अस्तित्व को लेकर लड़ते थे लेकिन मामला अब अस्तित्व से परे स्वाभिमान पर पहुंच गया है। अब हम अपने समाज के स्वाभिमान के लिए लड़ रहे हैं।

इतिहास से छेड़छाड बर्दाश्त नहीं

वहीं पीयूष गुर्जर नाम के यूजर ने लिखा कि हम जेवर हवाई अड्डे को गुर्जर सम्राट मिहिर भोज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में नामित करने की पुरजोर मांग करते हैं। अगर ऐसा नहीं हुआ तो #GoBackYogi। हम गुर्जर अपने इतिहास के साथ किसी भी प्रकार की शरारती गतिविधि को बर्दाश्त नहीं करेंगे।

गुर्जरों अपना इतिहास बचाओ

गुर्जर एकता टीम नाम के ट्विटर हैंडल टीम से ट्वीट किया गया है कि ब्राह्मण गुर्जर दलित जाट यादव सब दुःखी हैं। योगी सरकार को सबने हिंदू नाम से वोट किया। आखिर में मिला ठाकुरवाद। ट्विटर पर एक पोस्टर भी वायरल हो रहा है। पोस्टर में लिखा है - गुर्जर इतिहास बचाओ। दादरी प्रकरण में गुर्जर समाज के मुंह पर कालिख पोत कर गुर्जर इतिहास से छेड़छाड़ करने की कोशिश की और गुर्जर समाज का अपमान किया। देशभक्त गुर्जर समाज के सम्मान में नोएडा जेवर एयरपोर्ट का नाम गुर्जर सम्राट मिहिरभोज किया जाए।

इसलिए हो रहा है विरोध

22 सितंबर को सीएम योगी आदित्यनाथ ने दादरी में सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण किया था। इसके शिलापट्ट पर लिखे गुर्जर शब्द पर काला पेंट करने का विरोध हो रहा है। अखिल भारतीय गुर्जर परिषद संगठन ने इसके लिए सीएम योगी से सार्वजनिक रूप से माफी की मांग की थी और ऐलान किया था कि अगर ऐसा न हुआ था तो 25 नवंबर को जेवर इंटरनैशनल एयरपोर्ट के शिलान्यास और जनसभा के दौरान पीएम मोदी और सीएम योगी को काले झंडे दिखाए जाएंगे।

बीजेपी के बहिष्कार का ऐलान

पिछले दिनों दादरी के मिहिर भोज पीजी कॉलेज के ग्राउंड में गुर्जरों की महापंचायत हुई थी जिसमें यह किया गया था कि अगर मिहिर भोज की प्रतिमा से गुर्जर शब्द हटाए जाने के मामले में सीएम योगी माफी नहीं मांगते हैं तो उनका समाज विधानसभा चुनाव में बीजेपी का विरोध करेगा। गुर्जर नेताओं ने दावा किया था कि गुर्जर शब्द पर काला पेंट करने के कारण समाज की भावनाएं आहत हुई हैं। उन्होंने इस साल दिवाली न मनाने का ऐलान भी किया था।

गुर्जर समाज बीजेपी का कोर वोट बैंक

गुर्जर नेताओं ने दावा किया था कि गुर्जर शब्द पर काला पेंट करने के कारण समाज की भावनाएं आहत हुई हैं। उन्होंने इस साल दिवाली न मनाने का ऐलान भी किया था। नोएडा में गुर्जरों की करीब 5 लाख आबादी बताई जाती है। इन्हें पश्चिम यूपी में बीजेपी का पारंपरिक वोटर भी माना जाता है।

Next Story

विविध

Share it