Top
झारखंड

झारखंड के पूर्वी सिंहभूम के आदिवासी इलाकों के आंगनबाड़ी केंद्रों में 6 महीने से नहीं पहुंचा पोषाहार

Janjwar Desk
24 Sep 2020 3:02 PM GMT
झारखंड के पूर्वी सिंहभूम के आदिवासी इलाकों के आंगनबाड़ी केंद्रों में 6 महीने से नहीं पहुंचा पोषाहार
x
वक्ताओं ने कहा कि आंगनबाड़ी में 6 महीना से पोशा आहार बच्चों को नहीं मिल रहा है ना तो बच्चों का अभी तक टीकाकरण हुआ है...

जनज्वार, सिंहभूम। झारखंड के दलमा पहाड़ के कोंकादसा गांव में दलमा क्षेत्र ग्राम सभा सुरक्षा मंच व संयुक्त ग्राम सभा मंच के संयुक्त तत्वाधान से ग्राम संवाद किया गया।

आज के ग्राम संवाद कि अध्यक्षता दलमा क्षेत्र ग्राम सभा सुरक्षा मंच के केन्द्रीय सचिव सुकलाल पहाड़िया ने किया।

ग्राम संवाद में झरना सिंह ने कहा कि आज भी हमारे गांव में अच्छी सड़क, बिजली, आवास व डॉक्टर की सुविधा नहीं है। हमारे यहां आंगनबाड़ी में 6 महीना से पोशा आहार बच्चों को नहीं मिल रहा है ना तो बच्चों का अभी तक टीकाकरण हुआ है।

वहीं ग्राम संवाद में जगरनाथ सिंह ने कहा कि वन विभाग व सरकार की ओर से हमारे यहां खेत में पानी के लिए कोई जलाशय नहीं है जिसके कारण हम सब बारिश पर निर्भर रहते हैं। जबकि वन विभाग के द्वारा जंगल में बहुत जगह जलाशय बनाया गया है लेकिन खेतों में पानी के लिए कोई ऐसा व्यवस्था नहीं किया गया है।

ग्रामीण तरूण सिंह ने कहा कि हमारे लिए सबसे बड़ा संकट रोजगार का है हम यहां से 40 किलोमीटर दूर टाटा मजदूरी के लिए जा नहीं सकते हैं क्योंकि हमारे गांव से नीचे सड़क की दूरी 13 से 14 किलोमीटर पड़ता है। और आज तक हमलोगों को ना तो मनरेगा के तहत रोजगार मिलता है ना सरकार के तरफ से कोई आज तक हमारे ऊपर ध्यान दिया गया है।

वहीं ग्रामीण युवा मनोज सिंह ने कहा कि हमारे यहां के नौजवानों को रोजगार के नाम पर जंगल से सुखा हुआ लकड़ी को ले जाकर नीचे बचते हैं लेकिन हमारी मेहनत का उचित दाम भी नहीं मिल पाता है।

ग्राम संवाद में जिला परिषद स्वप्न महतो ने कहा कि हम ग्रामीणों को राशन के लिए जो 18 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है उसे हम गांव तक पहुंचाने की व्यवस्था करेंगे। सरकार के द्वारा 2011 का जो एस ई सी सी (SECC) का डाटा है उसमें बोंटा गांव के 12 टोला का नाम ही गायब है। हम इसके खिलाफ कुछ साल पहले पिछले सरकार को लिख कर भेजे थे फिर दोबारा नया सरकार को भी पत्र लिखकर अवगत करायेंगे। जहां तक हम से संभव हो पायेगा हमेशा हम ग्रामीणों के पक्ष में खड़ा रहेंगे।

वहीं झारखंड के दलमा क्षेत्र ग्राम सभा सुरक्षा मंच के जागरण पाल और मान सिंह मार्डी ने कहा कि सरकार के द्वारा जो कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही है उन तमाम योजनाओं का लाभ यहां के गांव वासियों को नहीं मिल पा रहा है इन सवालों को लेकर हम डीसी व बीडीओ को अवगत करायेंगे अगर जल्द से जल्द ग्रामीणों के जीवन से जुड़ी सवाल हल नहीं किया गया तो आगे आंदोलन चलाया जाएगा।

वहीं दलमा क्षेत्र ग्राम सभा सुरक्षा मंच के केन्द्रीय सचिव सुकलाल पहाड़िया और संयुक्त ग्राम सभा मंच के अनूप सिंह ने कहा कि दलमा पहाड़ इक्को सिंसेटिव के नाम पर जो ग्रामीणों के लिए सरकार के द्वारा जो योजनाएं हैं उन योजनाओं से ग्रामीण वंचित हैं। सबसे दुर्भाग्य की बात यह है कि सरकार के नजर से ये गांव ही गायब है। हम चाहते हैं कि अगर झारखंड में झारखंडी सरकार है तो सबसे पहले इन गांवों को शामिल किया जाए और सरकार द्वारा चलाई जा रही तमाम योजनाओं का लाभ यहां के ग्राम वासियों को मिले।

अंत में ग्राम संवाद के सम्पान करते हुए दलमा क्षेत्र ग्राम सभा सुरक्षा मंच के सलाहकार गिड्डू मांझी ने कहा कि ये हलात दलमा पहाड़ के तमाम गांवों में है जो सरकार के द्वारा इक्को सिंसेटिव नाम से जो योजना आया था वो लाभ नहीं मिल पा रहा है। इन सवालों पर इस दलमा पहाड़ में रह रहे 136 गांवों के बीच में ग्राम संवाद करते हुए आगे की संघर्ष का ऐलान करेंगे।

ग्राम संवाद में उपस्थित कल्याणी सिंह, जानकी सिंह, फूलमनी सिंह, सुशीला सिंह, ममता सिंह , नियति सिंह, कोलावती सिंह, गोहन सिंह सहित दर्जनों ग्रामीण मौजूद थे।

Next Story

विविध

Share it