राष्ट्रीय

Kanpur Violence Update : उपद्रवियों की संपत्ति पर चलेगा बुलडोजर, हिंसा में अब तक 35 लोग गिरफ्तार, 1000 पर केस दर्ज

Janjwar Desk
4 Jun 2022 8:17 AM GMT
Kanpur Violence Update : उपद्रवियों की संपत्ति पर चलेगा बुलडोजर, हिंसा में अब तक 35 लोग गिरफ्तार, 1000 पर केस दर्ज
x

Kanpur Violence Update : उपद्रवियों की संपत्ति पर चलेगा बुलडोजर, हिंसा में अब तक 35 लोग गिरफ्तार, 1000 पर केस दर्ज

Kanpur Violence Update : कानपुर हिंसा (Kanpur Violence Update) के मामले में अबतक तीन प्राथमिकी दर्ज की गई है, एफआईआर (FIR) में 40 लोगों को नामजद आरोपी बनाया गया है, जबकि 1000 अज्ञात लोगों को भी आरोपी बनाया गया, पुलिस ने नई सड़क में अघोषित कर्फ्यू लगाते हुए 35 उपद्रवियों को धर दबोचा है...

Kanpur Violence Update : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर (Kanpur Violence Update) के बेकनगंज में नई सड़क पर बीते शुक्रवार को नमाज के बाद बाजार बंद कराने को लेकर जमकर बवाल हुआ। कानपुर हिंसा (Kanpur Violence Update) के मामले में अबतक तीन प्राथमिकी दर्ज की गई है। बता दें कि एफआईआर (FIR) में 40 लोगों को नामजद आरोपी बनाया गया है, जबकि 1000 अज्ञात लोगों को भी आरोपी बनाया गया। पुलिस ने नई सड़क में अघोषित कर्फ्यू लगाते हुए 35 उपद्रवियों को धर दबोचा है।

40 नामजद और 1000 अज्ञात आरोपियों पर केस दर्ज

बता दें कि कानपुर हिंसा (Kanpur Violence Update) में अब तक 40 को नामजद करते हुए 1000 अज्ञात लोगों पर गंभीर धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की गई है। देर रात भारी संख्या में पुलिस-पीएसी, आरएएफ और आरआरएफ मार्च करता रहा। अब तक 40 लोगों को चिन्हित कर लिया गया है। इन आरोपियों पर गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। साथ ही उनकी संपत्ति को जब्त किया जाएगा और बुल्डोजर भी चलेगा।

आरोपियों की संपत्ति पर चलेगा बुलडोजर

उधर, परौंख से लौटते वक्त एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री ने उपद्रवियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने अफसरों से दो-टूक कहा कि उपद्रवियों (Kanpur Violence Update) पर गैंगस्टर लगाकर उनकी संपत्ति को जब्त करें। अगर जरूरत पड़े तो संपत्तियों पर बुलडोजर भी चलवाएं। हर हाल में दोषियों पर कठोर से कठोर कार्रवाई करें, ताकि दोबारा किसी की बवाल करने की हिम्मत न पड़े।

सीएम ने दिया सख्त कार्रवाई के निर्देश

साथ ही बंदी और प्रदर्शन के बाद बवाल पर सीएम ने कहा कि जानबूझकर साजिश की गई है। कुछ शरारत जरूर है, इसलिए कठोर कार्रवाई करिए। वीडियो व सोशल मीडिया से बवालियों की पहचान करके उनके खिलाफ मुकदमे दर्ज करें। उपद्रव में किसका हाथ है। परदे के पीछे से कौन बवाल करा रहा है। उनका उद्देश्य पता करके कड़ी से कड़ी कार्रवाई करें।

पोस्टर छापने वाले प्रिंटिंग प्रेस पर भी होगी कार्रवाई

सीएम योगी ने कहा कि इस तरह से पोस्टर व स्टीकर लगाकर बंदी और फिर उपद्रव करने वालों के मददगारों को भी खोज निकालें। पोस्टर छापने वाले प्रिंटिंग प्रेस और लगाने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई करें। सोशल मीडिया पर पोस्टर व स्टीकर का प्रचार-प्रसार करने वालों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। सोशल मीडिया पर विशेष निगाह रखी जाए।

हिंसा में हुए थे 35 पुलिस कर्मी घायल

बता दें कि सड़क पर उतरी हजारों की भीड़ ने पथराव और बमबाजी की। एक दर्जन से ज्यादा गाड़ियां तोड़ डालीं। पुलिस ने घेराबंदी करते हुए उपद्रवियों पर लाठीचार्ज किया व आंसू गैस के गोले दागे। करीब दो घंटे तनाव रहा। बवाल में 35 लोग जख्मी हो गए थे।

ऐसे भड़की थी हिंसा

भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा की टिप्पणी के विरोध में शुक्रवार को मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों में बंदी का आह्वान था। सुबह से ही नई सड़क, मूलगंज, बेकनगंज, चमनगंज यतीमखाना सहित अधिकांश क्षेत्रों के बाजार बंद थे। दोपहर दो बजे जुमे की नमाज के बाद भारी भीड़ परेड व नवीन मार्केट बंद कराने के लिए उतर आई। दूसरे छोर पर यतीमखाना चौराहे पर भी लोग जुटने लगे। नारेबाजी के बीच भीड़ परेड की तरफ बढ़ी। चंद्रेश्वर हाते के सामने जवाबी पथराव व नारेबाजी शुरू हो गई।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू—ब—रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story