Top
मध्य प्रदेश

मध्यप्रदेश के शिवपुरी में भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष ललिता राजे घर से चलाती थीं कच्ची शराब की फैक्ट्री, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Janjwar Desk
15 Jan 2021 12:23 PM GMT
मध्यप्रदेश के शिवपुरी में भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष ललिता राजे घर से चलाती थीं कच्ची शराब की फैक्ट्री, पुलिस ने किया गिरफ्तार
x

ललिता राजे के घर पर आबाकारी विभाग व पुलिस की कार्रवाई का दृश्य। फोटो : सोशल मीडिया से।

भाजपा नेता ललिता राजे के पिता भी भाजपा में सक्रिय हैं। ललिता राजे को पुलिस ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया...

जनज्वार। मध्यप्रदेश में मुरैना इलाके में शराब पीने से जहां एक ओर दो दर्जन लोगों की मौत हो गयी है, वहीं राज्य में संचालित होने वाले कच्ची शराब रैकेट में सत्ताधारी भाजपा के नेता के शामिल होने का खुलासा हुआ है। आबाकारी विभाग व पुलिस ने शिवपुरी जिले में छापामारी कर भाजपा की एक महिला नेता ललिता राजे के घर पर कच्ची शराब के कारखाने का खुुलासा किया है। ललिता राजे भाजपा महिला मोर्चा के पोहरी मंडल की अध्यक्ष है। टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर उसके घर पर छापेमारी की थी। ललिता राजे को पुलिस ने गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया और फिर वहां से उसे जेल भेज दिया गया।

शिवपुरी जिले के पोहरी तहसील के कटरा मोहल्ले में ललिता राजे का घर है। वह वहीं अपने घर पर कच्ची शराब कारखाना का संचालन करती थी। गुरुवार को आबाकारी विभाग एवं पुलिस ने उनके घर पर छापा मारा और भारी मात्रा में मौके से कच्ची शराब बनाने की सामग्री और 150 लीटर कच्ची शराब जब्त की।

पहले आबाकारी विभाग व पुलिस ने कच्ची शराब जब्त की और इस दौरान संदेह होने पर पुलिस कर्मियों ने आंगन की खुदाई शुरू की जो चार ड्रम गड़े हुए मिले, जिसमें कच्ची शराब बनाने के लिए 500 लीटर लहान रखा हुआ था। पुलिस ने इसे नष्ट कर दिया।

इस मामले के सामने आने के बाद भाजपा जिलाध्यक्ष ने ललिता राजे को पार्टी ने बाहर निकाल दिया। ललिता राजे के पिता मिश्री लाल भाजपा के नेता हैं। मिश्री लाल भाजपा के पोहरी मंडल के अध्यक्ष हैं।

मालूम हो कि मुरैना जिले में हाल ही में अलग-अलग जगहों पर जहरीली शराब पीने से दो दर्जन लोगों की मौत हो गयी। इस वजह से राज्य की शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है, यहां तक कि मुख्यमंत्री चौहान ने अपना दिल्ली दौरा रद्द कर दिया, ऐसे में सत्ताधारी पार्टी के लोगों के ही प्रतिबंधित कच्ची शराब के रैकेट में शामिल होने से सरकार पर सवाल खड़ा हो गया है।

मुरैना शराब कांड होने के बाद राज्य में आबाकारी विभाग विभिन्न इलाकों में इसके खिलाफ अभियान चला रहा है। शिवपुरी के ही कई इलाकों में छापेमारी की गयी है। शहर के करौंदी काॅलोनी, सुभाषनगर, कोलारस व अन्य जगहों पर छापामारी कर कच्ची शराब जब्त की गयी और आबाकारी एक्ट के तहत कार्रवाई की गयी।

Next Story

विविध

Share it